Corona Lockdown: कोरोना से लड़ने को तैयार हैं हमारी तीनों सेना, जानें क्या-क्या किए हैं इंतजाम

मध्य कमान के अस्पताल में बनाया गया वार्ड- फाइल फोटो
मध्य कमान के अस्पताल में बनाया गया वार्ड- फाइल फोटो

ऑर्म्ड फोर्स मेडिकल सर्विस के डायरेक्टर जनरल लेफ्टीनेंट जनरल अनूप बनर्जी ने बताया कि कोरोना वायरस (coronavirus) के संदिग्ध शख्स में संक्रमण की जांच और इलाज के लिए आर्मी, एयरफोर्स और नेवी के अस्पताल और टेस्ट सेंटर को तैयार कर लिया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 27, 2020, 5:48 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में लॉकडाउन (Lockdown) घोषित है. हर किसी को घर के अंदर रहने की हिदायत दी गई है. अगर इसके बाद भी कोरोना वायरस (Coronavirus) का संक्रमण फैलता है तो इससे लड़ने के लिए देश की तीनों सेनाएं भी तैयार हैं. यह जानकारी देते हुए लेफ्टीनेंट जनरल अनूप बनर्जी, डॉयरेक्टर जनरल ऑर्म्ड फोर्स मेडिकल सर्विस ने बताया संदिग्ध व्यक्ति में संक्रमण की जांच और फिर उसके इलाज के लिए आर्मी (Army), एयरफोर्स और नेवी के अस्पताल और टेस्ट सेंटर को तैयार कर लिया गया है. आइसोलेशन सेंटर भी लगातार काम कर रहे हैं. जवानों की छुट्टियां भी कम से कम कर दी गई हैं.

इलाज के लिए सेना ने तैयार रखे हैं 28 अस्पताल

डॉयरेक्टर जनरल अनूप बनर्जी ने बताया कि फिलवक्त हमारे पास 28 ऐसे अस्पताल तैयार हैं, जहां सिर्फ कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों को देखा जाएगा. ये वो अस्पताल हैं जहां सेना और राज्य सरकारों की तरफ से आने वाले मरीजों को रखा जाएगा. COVID-19 की जांच के लिए भी आर्मी, एयरफोर्स और नेवी के 5 टेस्ट सेंटर काम कर रहे हैं. 6 और नए टेस्ट सेंटर शुरू करने पर काम चल रहा है.



तैयार है सेना की रैपिड रेस्पॉन्स टीम
पड़ोसी देशों को मदद पहुंचाने की बात पर डॉयरेक्टर जनरल ने बताया कि मालदीव और नेपाल जाने के लिए हमारी टीमें तैयार हैं. पड़ोसी देशों की मदद के लिए हमने रैपिड रेस्पॉन्स टीम बनाई है. इसके साथ ही दूसरे देशों से जो भारतीय लौटकर आ रहे हैं, उनको हम अपने 6 आइसोलेशन सेंटर में रख रहे हैं. मौजूदा वक्त में 1059 संदिग्ध हमारे सेंटर के स्टाफ की निगरानी में हैं. देशभर में हमारे ऐसे 6 सेंटर हिंडन, मानेसर, जैसलमेर, जोधपुर, घाटकोपर और चेन्नई में लगातार काम कर रहे हैं.

छुट्टी से लौटे जवानों को रखा जा रहा है औरों से अलग

डॉयरेक्टर जनरल अनूप बनर्जी का कहना है कि हमारे हॉस्पिटल का जो स्टाफ छुट्टी पर गया है, वो छुट्टी पर ही रहेगा. इसके अलावा अगर बहुत ज़्यादा जरूरी न हो, तो छुट्टी के बजाए उन्हें ड्यूटी पर लौटकर आना होगा. दूसरी ओर अलग-अलग राज्यों से छुट्टी काट कर लौटे जवानों को बाकी जवानों से अलग रखने का इंतजाम किया गया है. बॉर्डर पर जो जवान तैनात हैं, उन्हें भी संक्रमण से बचाने के लिए पूरे इंतजाम किए गए हैं. ऐसे इलाकों में जो अस्पताल हैं, वहां आइसोलेशन वॉर्ड बनाए जा रहे हैं.

ये भी पढ़ें :-

COVID-19: अब ट्रेन के डब्बे बनेंगे कोरोना आइसोलेशन सेंटर, 20 हजार कोच किए जा रहे सैनेटाइज

Corona Lockdown: बाज़ार में इस रेट पर बिकेगा आटा, दाल-चावल और सब्जियां, ज़्यादा लिए पैसे तो होगी FIR
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज