Delhi-NCR और वेस्ट यूपी में कारोबार-नौकरियों को रफ्तार देगा लॉजिस्टिक हब, जानिए प्रोजेक्ट के बारे में सबकुछ

ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी केन्द्र सरकार के सहयोग से बड़ा लॉजस्टिक हब बनाने जा रही है. (Photo-MR/Twitter)

Delhi-NCR News: नोएडा (Noida), ग्रेटर नोएडा और यमुना अथॉरिटी (Yamuna Authority) में छोटी-बड़ी सभी कंपनियों को आकर्षित करने के लिए वेयरहाउसिंग हब, कोल्ड चेन और पैकेजिंग यूनिट को भी प्रोजेक्ट में शामिल किया गया है.

  • Share this:
    नोएडा. जल्द ही दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) और वेस्ट यूपी के कारोबार को रफ्तार मिलने वाली है. 15 घंटे के अंदर आपका बुक कराया सामान देश के किसी भी हिस्से में पहुंच जाएगा. इसके लिए मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक हब (Logistic Hub) और मल्टी मॉडल ट्रांसपोर्ट हब (Transport Hub) विकसित करने पर काम चल रहा है. काम में किसी भी तरह की कोई रुकावट न आए इसके लिए केन्द्र सरकार ने 500 करोड़ रुपये और जारी कर दिए हैं. दुबई (Dubai) और सिंगापुर पोर्ट की तर्ज पर इनलैंड कंटेनर डिपो की नींव रखी जा रही है. इसके लिए ग्रेटर नोएडा (Greater Noida) में लगभग बंद पड़े बोड़ाकी रेलवे स्टेशन को डेवलप किया जा रहा है. इसे दिल्ली-हावड़ा वाले रेल ट्रैक से जोड़ा जाएगा.

    ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी से जुड़े अफसरों की मानें तो अब तक केन्द्र सरकार की ओर से लॉजिस्टिक और मल्टी मॉडल ट्रांसपोर्ट हब के लिए के लिए 850 करोड़ रुपये मिल चुके हैं. 500 करोड़ रुपये की दूसरी किस्त अभी हाल ही में मिली है. अब तक 227 हेक्टेयर जमीन खरीदी जा चुकी है. यह दोनों हब बोड़ाकी रेलवे स्टेशन के पास बनेंगे. यह स्टेशन ग्रेटर नोएडा में है. सामान की लोडिंग-अनलोडिंग के लिए यार्ड बनेंगे. बोड़ाकी में 16 रेल लाइन बिछाई जाएंगी.



    इन सभी रेल लाइन को दिल्ली-हावड़ा मुख्य रेल लाइन से जोड़ा जाएगा. कोल्ड चेन और पैकेजिंग का काम करने के लिए भी प्लटेफार्म तैयार किए जाएंगे. वेयरहाउस हब के लिए भी जगह छोड़ी जा रही है. इस प्रोजेक्ट के तहत लगभग 800 एकड़ में इंटीग्रेटेड इंडस्ट्रियल टाउनशिप बसाई जाएगी. केन्द्र सरकार, ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी की हिस्सेदारी के साथ ही प्रोजेक्ट में शामिल होने वाली दो कंपनियां भी अपना हिस्सा लगाएंगी.

    Delhi-NCR में होगा देश का पहला नया बसने जा रहा वैल कनेक्टेड शहर!

    ऐसा होगा मल्टी मॉडल ट्रांसपोर्ट हब
    जानकारों के मुताबिक, मल्टी मॉडल ट्रांसपोर्ट हब बन जाने से ग्रेटर नोएडा में कंपनियों की बाढ़ आ जाएगी. ट्रांसपोर्ट हब जिले में पहले से मौजूद बोड़ाकी रेलवे स्टेशन पर बनेगा. इसी स्टेशन के दूसरी तरफ इंटर स्टेट बस टर्मिनल (आईएसबीटी) का निर्माण भी किया जाएगा.

    साथ में एक मेट्रो स्टेशन भी बनाया जाएगा. इसमें भी 1500 से 2000 करोड़ का निवेश अथॉरिटी की तरफ से किया जाएगा. बाकी निवेश भारत सरकार करेगी. वहीं 12 हजार करोड़ का निवेश कुछ समय बीत जाने के बाद प्राइवेट सेक्टर करेगा. इन दो प्रोजेक्ट से लगभग एक लाख लोगों को रोजगार मिलने की उम्मीद है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.