• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • बनगांव लोकसभा सीट: इस सीट पर है त्रिकोणीय मुकाबला, बीजेपी भी है रेस में

बनगांव लोकसभा सीट: इस सीट पर है त्रिकोणीय मुकाबला, बीजेपी भी है रेस में

file photo

file photo

बनगांव लोकसभा सीट 2009 में अस्तित्व में आई. उसके पहले ये सीट बारासात संसदीय क्षेत्र के नाम से जानी जाती थी.

  • Share this:
    बनगांव लोकसभा सीट 2009 में अस्तित्व में आई. उसके पहले ये सीट बारासात संसदीय क्षेत्र के नाम से जानी जाती थी. 2009 से लेकर अब तक हुए चुनाव में इस सीट से टीएमसी ने जीत हासिल की है. 2014 के चुनाव में यहां से टीएमसी के टिकट पर कपिल कृष्ण ठाकुर ने चुनाव जीता. उनके निधन के बाद 2015 में यहां उपचुनाव हुए. उस उपचुनाव में भी टीएमसी के उम्मीदवार ममता ठाकुर ने जीत हासिल की और सांसद बनीं. टीएमसी ने इस बार भी ममता ठाकुर को मौका दिया है. उनके मुकाबले में सीपीएम के अलकेश दास और बीजेपी से शांतनु ठाकुर हैं. कांग्रेस ने यहां से सौरव प्रसाद को टिकट दिया है. इसके अलावा बीएसपी से चंदन मलिक, पार्टी ऑफ डेमोक्रेटिक सोशलिज्म से समरेश बिस्वास, बहुजन मुक्ति पार्टी से सुब्रत बिस्वास और सोशलिस्ट यूनिटी ऑफ इंडिया से स्वप्न मंडल चुनाव लड़ रहे हैं.

    2014 के चुनाव का हाल

    2014 के लोकसभा चुनाव में यहां से टीएमसी के कपिल कृष्ण ठाकुर ने जीत हासिल की थी. कपिल कृष्ण ने कुल 5 लाख 51 हजार 213 वोट हासिल किए थे. सीपीएम के देबेश दास दूसरे स्थान पर रहे थे. उन्हें 4 लाख 4 हजार 612 वोट मिले थे. बीजेपी उम्मीदवार केडी बिस्वास तीसरे नंबर पर रहे थे. इस बार बीजेपी मुकाबले में है. टीएमसी और सीपीएम के साथ बीजेपी के मुकाबले में होने की वजह से मामला त्रिकोणीय लड़ाई का है.



    बनगांव लोकसभा सीट की खास बातें

    उत्तर 24-परगना जिला के अंतर्गत आने वाला ये इलाका बांग्लादेश से सटा हुआ है. इसलिए ये सीट काफी अहम हो जाती है. इस इलाके में मतुआ समुदाय की अच्छी खासी आबादी है. ये समुदाय 1947 में देश विभाजन के बाद शरणार्थी के तौर पर यहां आया था. पूरे बंगाल में इनकी आबादी करीब तीस लाख है. उत्तर और दक्षिण चौबीस परगना जिलों में इनका असर है और यहां की कम से कम पांच सीटों पर यह निर्णायक स्थिति में हैं.

    फाइल फोटो


    2011 की जनगणना के मुताबिक इस लोकसभा सीट की आबादी 20 लाख 81 हजार 665 है. इस आबादी की करीब 75.72 फीसदी आबादी गांवों में और करीब 24.28 फीसदी आबादी शहरों में रहते हैं. इस आबादी में अनुसूचित जाति का प्रतिनिधित्व करीब 42.56 फीसदी का है. जबकि अनुसूचित जनजाति करीब 2.8 फीसदी हैं.

    ये भी पढ़ें:

    बर्धमान दुर्गापुर लोकसभा सीट: 5 पार्टियां मैदान में, किसको मिलेगी जीत?

    बोलपुर लोकसभा सीट: CPI(M) के गढ़ में BJP-TMC दे रहीं टक्‍कर

    बीरभूम लोकसभा सीट: CPM, BJP और तृणमूल में त्रिकोणीय मुकाबला

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज