Home /News /delhi-ncr /

जयनगर लोकसभा सीट: 2014 में बंगाल के इस पिछड़े इलाके से पहली बार जीती थी TMC

जयनगर लोकसभा सीट: 2014 में बंगाल के इस पिछड़े इलाके से पहली बार जीती थी TMC

file photo

file photo

जयनगर लोकसभा सीट दक्षिण चौबीस परगना जिले के अंतर्गत आती है. अल्पसंख्यक बहुल इस सीट पर 2014 में टीएमसी उम्मीदवार ने जीत हासिल की थी.

    जयनगर लोकसभा सीट दक्षिण चौबीस परगना जिले के अंतर्गत आती है. अल्पसंख्यक बहुल इस सीट पर 2014 में टीएमसी उम्मीदवार ने जीत हासिल की थी. तृणमूल कांग्रेस की प्रतिमा मंडल यहां से सांसद हैं. इस बार टीएमसी ने एक बार फिर प्रतिमा मंडल को चुनाव मैदान में उतारा है. इस सीट पर रेवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी का दबदबा रहा है. इस बार RSP से सुभाष नस्कर उम्मीदवार हैं. इसके साथ ही सोशलिस्ट यूनिटी सेंटर ऑफ इंडिया (SUCI) ने जय कृष्णा हलदर को टिकट दिया है. बीजेपी ने अशोक कंदारी को चुनाव मैदान में उतारा है.

    2014 के चुनाव का हाल

    2014 के चुनाव में पूरे बंगाल में टीएमसी की लहर थी. बंगाल की कुल 42 लोकसभा सीटों में टीएमसी ने 34 सीटों पर जीत हासिल की थी. कांग्रेस को 4 सीट मिली थी. जबकि बीजेपी और सीपीएम को 2-2 सीट से संतोष करना पड़ा था. जयनगर लोकसभा सीट भी टीएमसी के खाते में गई थी. यहां से टीएमसी की प्रतिमा मंडल सांसद चुनी गई. प्रतिमा मंडल ने RSP के सुभाष नस्कर को शिकस्त दी थी. 2014 के नतीजों में प्रतिमा मंडल को कुल 4 लाख 94 हजार 746 वोट हासिल हुए थे. जबकि आरएसपी के सुभाष नस्कर को 3 लाख 86 हजार 362 वोट मिले थे.

    तृणमूल उम्मीदवार प्रतिमा मंडल


    जयनगर सीट का राजनीतिक इतिहास

    अनुसूचित जाति के लिए सुरक्षित इस सीट पर 2014 से पहले लगातार रेवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी (RSP) का कब्जा रहा है. इस सीट पर पहली बार 1962 में चुनाव हुए. इस चुनाव में कांग्रेस के परेश नाथ कायल ने जीत हासिल की थी. इसके बाद 1967 के चुनाव में सोशलिस्ट यूनिटी सेंटर ऑफ इंडिया (SUCI) के उम्मीदवार चिट्टा राय ने जीत हासिल की. 1971 के चुनाव में कांग्रेस ने एक बार फिर वापसी की. कांग्रेस के शक्ति कुमार इस सीट से सांसद चुने गए. इमरजेंसी के बाद 1977 में हुए चुनाव में शक्ति कुमार ने भारतीय लोकदल के टिकट पर चुनाव लड़ा और जीते. इसके बाद 1980 से लेकर 2009 तक इस सीट पर रेवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी का कब्जा रहा. सनत कुमार मंडल ने लगातार 29 वर्षों तक लगातार सांसद के तौर पर इस सीट का प्रतिनिधित्व किया. 2009 के चुनाव में यहां से SUCI के उम्मीदवार ने जीत हासिल की. यहां से डॉ तरुण मंडल सांसद चुने गए. 2014 के चुनाव में पहली बार ममता लहर में ये सीट टीएमसी की झोली में गई. प्रतिमा मंडल यहां से सांसद चुनी गईं.

    बीजेपी कैंडिडेट डॉक्टर अशोक कंदारी


    इस लोकसभा सीट के अंतर्गत कुल 7 विधानसभा सीटें आती हैं. इनमें 2 को छोड़कर बाकी सब सुरक्षित सीट है. इनमें संदेशखाली (सुरक्षित), गोसाबा (सुरक्षित), बासंती (सुरक्षित), कुलतली (सुरक्षित), जयनगर, कैनिंग पश्चिम (सुरक्षित) और कैनिंग पूर्व विधानसभा सीटें शामिल हैं. इस सीट पर अल्पसंख्यकों के विकास बड़ा मुद्दा है. बंगाल के इस पिछड़े इलाके में बहुत कुछ किया जाना बाकी है. वन संपदा से भरपूर इस इलाके में पशु पक्षियों की सुरक्षा के लिए सजनेखली बर्ड सेंक्चुरी इसी इलाके में है. भारत सेवाश्रम संघ मंदिर, कपिलमुनि मंदिर इस इलाके के प्रसिद्ध धार्मिक स्थल हैं.

    ये भी पढ़ें:

    पुरुलिया: टीएमसी और फॉरवर्ड ब्लॉक में सीधी टक्कर, बीजेपी की राह कठिन

    Bishnupura lok sabha elections 2019: इस सीट पर 1971 से 2014 तक रहा CPM का कब्जा

    Bankura lok sabha elections 2019: मुनमुन सेन ने रोका था 1980 से चला आ रहा CPM का विजय रथ

    Tags: BJP, Lok Sabha Election 2019, TMC, West Bengal Lok Sabha Constituencies Profile, West Bengal Lok Sabha Elections 2019

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर