कडपा लोकसभा सीट: वाईएसआर कांग्रेस के दबदबे को कौन दे पाएगा चुनौती

जगन मोहन रेड्डी
जगन मोहन रेड्डी

कडपा आंध्रप्रदेश के दक्षिण-मध्य में है. यह शब्द तेलुगु के गडपा शब्द से आया है जिसका मतलब होता है दरवाजा.

  • Share this:
कडपा आंध्रप्रदेश के दक्षिण-मध्य में है. यह शब्द तेलुगु के गडपा शब्द से आया है जिसका मतलब होता है दरवाजा. इससे पहले इस शहर को कड़प्पा नाम से जाना जाता था, जिसे बाद में बदला गया. यह शहर मध्यकाल में अनेक महापुरुषों, जैसे वेमना, पोतुलूरी वीराब्रह्मम की कर्मस्थली रही है. खेती यहां का मुख्य व्यवसाय है. पेन्ना नदी के करीब यह बसा है. इसके आसपास पहाड़ियां हैं. माना जाता है कि रामायण का किष्किंधाकांड कडपा इलाके से ही जुड़ा हुआ है. इसी इलाके में हनुमान और राम की भेंट हुई थी.

कालांतर में ये इलाका इलाका निज़ाम और चोला, विजयनगर साम्राज्य और मैसूर साम्राज्य का हिस्सा रहा. कडपा खासकर लजीज व्यंजनों के लिए भी जाना जाता है. यहां पर वाईएसआरसीपी का कब्जा है, जिसने 2014 में सीट जीती थी.

पिछले चुनाव में कैसा था मिजाज



वाईएस अविनाश रेड्डी ने भारी अंतर के साथ साल 2014 का चुनाव जीता था. इस लोकसभा क्षेत्र का नाता वाईएस जगन मोहन रेड्डी से भी रहा है. जगन मोहन रेड्डी ने पिता और आंध्र के तत्कालीन मुख्यमंत्री वाईएस राजशेखर रेड्डी के निधन के बाद इस लोकसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ा था. उन्होंने रिकॉर्ड 5 लाख 63 हजार वोटों से अपने प्रतिद्वंद्वी को मात दी थी. कडपा में भारी जनसमर्थन के बाद ही वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने कांग्रेस से अलग अपनी पार्टी वाईएसआरसीपी बनाई.
वाईएस अविनाश रेड्डी


दिवंगत वाईएस राजशेखर रेड्डी ने कडपा संसदीय क्षेत्र का छह बार प्रतिनिधित्व किया. उनके निधन के बाद लोगों ने उनके परिवार को अपनाया. वाईएस जगन मोहन ने तो यहां से रिकॉर्ड जीत दर्ज की थी. वहीं दिवंगत मुख्यमंत्री की पत्नी ने पुलिवेंदुला विधानसभा क्षेत्र से जीत हासिल की.

2014 लोकसभा चुनाव में वाईएस अविनाश ने 6,71,983 वोट हासिल कर टीडीपी कैंडिडेट श्रीनिवास रेड्डी को हराया. रेड्डी को 4,81,660 वोट मिले. कांग्रेस, बीएसपी और जेडीयू ने भी अपने कैंडिडेट खड़े किए थे, जिन्हें जनता ने पूरी तरह नकार दिया था. 1989 के बाद से लगातार यहां कांग्रेस का दबदबा था, जिसे वाईएसआर कांग्रेस ने तोड़ा.

कडपा लोकसभा सीट के अंतर्गत 7 विधानसभा सीटें आती हैं- बडवेल, कडपा, पुलिवेंदला, कमलापुरम, जम्लदुगु, प्रोद्दातुर और मीदुकूर.

कौन हैं प्रत्याशी

आदिनारायण रेड्डी


वाईएसआर कांग्रेस ने अपने मौजूदा सांसद अविनाश रेड्डी को फिर मैदान में उतारा है. 2014 के चुनाव में उन्होंने टीडीपी उम्मीदवार श्रीनिवास रेड्डी को 190323 वोटों से हराया था. वाईएस अविनाश रेड्डी ने बीटेक और एमबीए तक शिक्षा प्राप्त की है. अविनाश रेड्डी इलाके में काफी लोकप्रिय हैं. पढ़े लिखे और युवा नेता का जनसरोकार से नाता रहा है. उन्होंने विशेष राज्य के दर्जे की मांग के साथ ही लोकसभा से इस्तीफा दे दिया था. यहां से बीजेपी ने श्रीरामचंद्र सिंगारेड्डी को खड़ा किया है. कांग्रेस के जी श्रीरामुलु और टीडीपी के आदिनारायण रेड्डी उम्मीदवार हैं.

सामाजिक समीकरण

2011 की जनगणना के मुताबिक यहां की कुल आबादी 2013506 है जिसमें 58.64 प्रतिशत ग्रामीण और 41.36 प्रतिशत शहरी आबादी है. यहां एससी और एसटी का अनुपात 6.09 और 2.01 प्रतिशत है. कुल मतदाता 15,50,440 हैं. पुरुषों की संख्या 7,64,947 और महिला मतदाता 7,85,380 हैं.
ये भी पढ़ें:

लोकसभा चुनाव 2019: मोदी लहर में औवेसी ने 2 लाख वोटों से जीती थी हैदराबाद सीट, अब इससे मिलेगी टक्कर

'संघ की गोद' में गडकरी को कांग्रेस के पटोले दे रहे चुनौती

नांदेड़ लोकसभा सीट: ये अशोक चव्हाण का गढ़ है, मोदी लहर में भी बचाई थी सीट

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज