कांग्रेस छोड़ने वाली प्रियंका चतुर्वेदी का मथुरा से शुरू हुआ था विवाद, जानिए पूरा मामला
Mathura News in Hindi

कांग्रेस छोड़ने वाली प्रियंका चतुर्वेदी का मथुरा से शुरू हुआ था विवाद, जानिए पूरा मामला
प्रियंका चतुर्वेदी (फाइल फोटो)

प्रियंका चतुर्वेदी कांग्रेस के उस फैसले से नाराज हैं, जिसके तहत पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा उनके साथ की गई बदसलूकी के खिलाफ कार्रवाई को वापस लेने का फैसला किया गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 19, 2019, 5:36 PM IST
  • Share this:
लोकसभा चुनाव के बीच में ही कांग्रेस को बड़ा झटका प्रियंका चतुर्वेदी ने दिया है. पार्टी के फैसले से नाराज होकर प्रियंका चतुर्वेदी ने कांग्रेस के सभी पदों और पार्टी की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को लिखे पत्र में प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा है कि अगर अब मैं कांग्रेस को ज्यादा वक्त दूंगी तो वो उनकी आत्म-गौरव और प्रतिष्ठा के खिलाफ होगा. दरअसल प्रियंका चतुर्वेदी कांग्रेस के उस फैसले से नाराज हैं, जिसके तहत पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा उनके साथ की गई बदसलूकी के खिलाफ कार्रवाई को वापस लेने का फैसला किया गया. प्रियंका चतुर्वेदी ने इस फैसले के बाद अपनी नाराजगी खुलेआम जाहिर करते हुए ट्विटर पर लिखा था कि कांग्रेस में खून-पसीना बहानेवालों से ज्यादा गुंड़ों को तरजीह दी जा रही है.

क्या हुआ था प्रियंका चतुर्वेदी के साथ मथुरा में?
घटना पिछले साल मथुरा में एक सितंबर, 2018 को राफेल डील के मसले पर एक प्रेस कांफ्रेस के पहले और बाद में घटी. पार्टी के कुछ कार्यकर्ताओं ने प्रियंका चतुर्वेदी के साथ बद्सलूकी की थी. जिसके बाद चार कार्यकर्ताओं को निलंबित कर दिया गया था. लेकिन इसी इसी साल यानि 15 अप्रैल को सभी के निलंबन को वापस ले लिया गया. दरअसल, यूपी के एक नेता के मुताबिक प्रियंका चतुर्वेदी के साथ बदसलूकी करने वाले लोग कांग्रेस के एक स्थानीय नेता से जुड़े हुए हैं. क्योंकि स्थानीय नेता को आशंका थी कि प्रियंका चतुर्वेदी का परिवार मथुरा से जुड़ा है. इसलिए लोकसभा चुनाव में वो कांग्रेस की तरफ से टिकट की दावेदार भी हो सकती हैं. घटना के दिन प्रियंका चतुर्वेदी के साथ होटल में बदतमीजी और बदसलूकी की गई और इस मौके पर उनकी सास भी साथ में थीं. आरोप के मुताबिक कार्यकर्ताओं ने गाली गलौज और धक्कामुक्की भी की. पहले होटल में और फिर होटल में ही आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान. प्रियंका चतुर्वेदी की शिकायत के बाद यूपी की अनुशासन समिति ने गिरधारी पाठक, भूरी सिंह जायस, प्रताप सिंह और प्रवीण ठाकुर को कांग्रेस पार्टी से बाहर करने का आदेश जारी कर दिया. जिसे अब निरस्त किया गया है.

यूपी कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि मथुरा के स्थानीय नेता की सिफारिश पर ही यूपी कांग्रेस के प्रभारी महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कार्यकर्ताओं का निलंबन रद्द कर दिया होगा. इसके अलावा यतेंद्र मुक़द्दम, उमेश पंडित और अशोक सिंह चकलेश्वर पर भी बदसलूकी का आरोप है और इनके खिलाफ कार्रवाई के लिए एआईसीसी से सिफारिश की गई थी. क्योंकि ये तीनों नेता अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्य हैं. लेकन घटना के महीनों बीतने के बाद भी कांग्रेस की तरफ से कोई कार्रवाई नहीं की गई है. दरअसल मथुरा में पूरी घटना के पीछे मथुरा कांग्रेस प्रदीप माथुर समर्थक और उनके विरोधी के बीच बंटा होना भी है. घटना के आरोपी नेताओं और कार्यकर्ताओं का कहना है कि वो लोग अपनी बात रखना चाहते थे, लेकिन उनकी नहीं सुनी गई.
कौन हैं प्रियंका चतुर्वेदी?


प्रियंका चतुर्वेदी का परिवार मथुरा से जुड़ा है और वो जन्मी और पली बढ़ी मुंबई में हैं. दरअसल प्रियंका चतुर्वेदी आज से 10 साल पहले यूथ कांग्रेस से जु़ड़ी थीं. इसके बाद वो कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता बनीं और फिर रणदीप सुरजेवाला की मीडिया विभाग का संयोजक का जिम्मा भी प्रियंका चतुर्वेदी को दिया गया. प्रियंका चतुर्वेदी मीडिया माध्यमों पर पार्टी का पक्ष रखने में अग्रणी कतार में रही हैं.

प्रियंका चतुर्वेदी ने राहुल गांधी और सिंधिया से भी की थी बात!
यूपी कांग्रेस से जुड़े एक नेता ने बताया कि प्रियंका चतुर्वेदी ने बदसलूकी करने वाले कार्यकर्ताओं की सदस्यता बहाल होने के बाद कांग्रेस अध्य़क्ष राहुल गांधी और पश्चिमी यूपी के प्रभारी महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया से बात की थी. उन्हें क्यों वापस लिया गया इस बारे में प्रियंका चतुर्वेदी ने दोनों से बात की और रोक लगाने की भी मांग की.

क्या और कोई वजह थी पार्टी छोड़ने की?
प्रियंका चतुर्वेदी ने अपने साथ हुई बदसलूकी पर कांग्रेस के रवैये को पार्टी छोड़ने की वजह बताया है. लेकिन मीडिया में या कांग्रेस नेताओं की बीच चर्चा ये भी है कि प्रियंका चतुर्वेदी लोकसभा का चुनाव लड़ना चाहती थीं. लेकिन पार्टी ने उन्हें लोकसभा चुनाव के लिए कहीं से भी उम्मीदवार नहीं बनाया. हालांकि प्रियंका चतुर्वेदी की नाराजगी और पार्टी छोड़ने की मुख्य वजह कार्यकर्ताओं के खिलाफ पार्टी का फैसला है, लेकिन टिकट वाली बात को भी खारिज नहीं किया जा सकता.

ये भी पढ़ें-

मैनपुरी में बोले मुलायम- मैं मायावती जी का अहसान कभी नहीं भूलूंगा

अमेठी के लिए बीजेपी का मास्टर प्लान, स्मृति ने बनाया राहुल के लिए ये चक्रव्यूह

पीएम और सीएम का फैन हुआ ये युवक, सिर पर लिखवाया मोदी और योगी

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsAppअपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज