गर्मी में पारा बढ़ने पर ऐसे रोक सकते हैं फैक्ट्री और घरों में आग लगने की घटनाएं
Delhi-Ncr News in Hindi

गर्मी में पारा बढ़ने पर ऐसे रोक सकते हैं फैक्ट्री और घरों में आग लगने की घटनाएं
news18 hindi

बीते 8 दिनों में ही तुगलकाबाद (Tughlakabad) में सैकड़ों झुग्गी जल गई, लुधियाना में हौजरी की बड़ी फैक्ट्री जलकर खाक हो गई, हरियाणा (Haryana) के सोनीपत में चावल के थैले बनाने वाली फैक्ट्री (Factory) में आग लग गई.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली. देश के ज़्यादातर इलाकों में पारा 45 डिग्री तापमान को पार कर चुका है. हिसार (Hisar) और बांदा में पारा 48 को छू चुका है तो दिल्ली (Palam) के पालम में भी पारा 47.6 डिग्री पर पहुंच चुका है. गर्मी में बढ़ते पारे ने फायर ब्रिगेड (Fire Brigade) विभाग की परेशानी भी बढ़ा दी है. आग अपना विकराल रूप दिखा रही है. बीते 8 दिनों में ही तुगलकाबाद (Tughlakabad) में सैकड़ों झुग्गी जल गई, लुधियाना में हौजरी की बड़ी फैक्ट्री जलकर खाक हो गई, हरियाणा (Haryana) के सोनीपत में चावल के थैले बनाने वाली फैक्ट्री (Factory) में आग लग गई.

इतना ही नहीं इसी पारे के उतार-चढ़ाव के चलते ही बुधवार को दिल्ली में एक चलती बस में आग लग गई. दिल्ली के चीफ फायर आफिसर अतुल गर्ग बताते हैं कि अकेले दिल्ली में ही मंगलवार को आग लगने की 145 सूचनाएं मिली हैं. इलैक्ट्रॉनिक्स आइटम के चलते भी आग लगने की घटनाएं सामने आ रही हैं.

तेज़ गर्मी में इन वजहों से लगती है घर और फैक्ट्री में आग



गैस सिलेंडर का लीकेज, खराब पाइप और रेगुलेटर.



बिजली की खराब वायरिंग, घटिया और सस्ते उपकरण.

क्षमता से अधिक लोड होने की वजह से शॉर्ट सर्किट होता है.

मच्छर भगाने वाली अगरबत्ती, पूजा के दीया जलाने में लापरवाही.

गली-मोहल्ले और कालोनी में जहां-तहां कूड़ा करकट जलाना.

आग लगने पर यह कर सकते हैं बचाव

आग लगने से निपटने के लिए पानी और बालू की बाल्टी रखें.

घर के आसपास बड़ी मात्रा में पानी का संसाधन हरदम तैयार रखें.

गैस के लीकेज से बचाव के लिए प्रॉपर मेटीनेंस करें.

मच्छरों से बचाव वाली अगरबत्ती सावधानी पूर्वक जलाएं.

बिजली के लोड के मुताबिक स्विच और तारों का यूज करें.

बिजली की वायरिंग में बढि़या, उम्दा किस्म के वायर इस्तेमाल करें.

एसी, कूलर और फ्रिज से लोड बढ़ता है इसका ख्याल रखें.

दिल्ली में आग लगने की घटनाएं

मई महीना शुरु होते ही दिल्ली फायर सर्विस को रोज़ाना 50 से 60 कॉल आग लगने की सूचना देने के लिए आ रहीं थी. एक से 15 मई तक यही सिलसिला चला. लेकिन 20 मई के बाद हालात बदल गए. कॉल की संख्या बढ़कर 80 से ज़्यादा हो गईं. लगातार बढ़ते हुए यह आंकड़ा 100 को भी पार कर गया. 26 मई को दिल्ली में आग लगने की 145 कॉल आईं थी.

दिल्ली फायर सर्विस चीफ अतुल गर्ग.


यह बोले दिल्ली फायर सर्विस के चीफ अतुल गर्ग

दिल्ली फायर सर्विस के चीफ अतुल गर्ग का कहना है कि मंगलवार को दिल्ली का तापमान सबसे ज्यादा था और इस दिन हमे आग लगने की 145 कॉल्स मिलीं. यह इस साल की सबसे ज्यादा कॉल हैं. आप सभी लॉक डाउन के इस चरण में अपने दफ्तर या मॉल्स के खुलने के पहले अपने फायर फाइटिंग सिस्टम को चेक कर लें, वाटर टैंक देख लें. फायर पम्प चेक कर लें.

सबसे महत्वपूर्ण इलेक्ट्रॉनिक उपकरण जैसे एसी को स्टार्ट करने से पहले उसकी सर्विस करा लें. क्योंकि गर्मी में आग लगने की जितनी कॉल्स होती हैं उसमे 15 प्रतिशत से ज़्यादा कॉल्स इलेक्ट्रिक उपकरणों के शॉर्ट सर्किट की होती हैं.

ये भी पढ़ें:-

Lockdown Diary: पैदल घर जा रहे मजदूर को लूटने आए थे, तकलीफ सुनी और 5 हजार रुपए देकर चले गए

अपने राष्ट्रपति की अपील के बाद भी यह 7 चीनी नागरिक नहीं छोड़ सकेंगे भारत, चलेगा मुकदमा

 
First published: May 28, 2020, 10:41 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading