Home /News /delhi-ncr /

दिल्ली में 100 दिन का रीडिंग कैंपेन, हर हफ्ते ऑनलाइन भेजी जाती हैं 6 वर्कशीट, ताकि बच्चे...

दिल्ली में 100 दिन का रीडिंग कैंपेन, हर हफ्ते ऑनलाइन भेजी जाती हैं 6 वर्कशीट, ताकि बच्चे...

दिल्ली के सरकारी स्कूलों के छात्र-छात्राओं के लिए ऑनलाइन क्लासेस चल रही है. (डेमो पिक्चर)

दिल्ली के सरकारी स्कूलों के छात्र-छात्राओं के लिए ऑनलाइन क्लासेस चल रही है. (डेमो पिक्चर)

100 Days Reading Campaign in Delhi: शिक्षा निदेशक हिमांशु गुप्ता ने बताया कि जिन बच्चों के पास डिजिटल डिवाइस नहीं है, हर सप्ताह स्कूल उन्हें वर्कशीट की प्रिंटेड कॉपी भेज रहा है. निदेशालय द्वारा नर्सरी से 10वीं तक के विद्यार्थियों को हर सप्ताह नियमित रूप से व्हाट्सएप्प के माध्यम से वर्कशीट भेजी जाती है साथ ही शीतकालीन अवकाश के दौरान माध्यमिक कक्षाओं को प्रोजेक्ट, असाइनमेंट और एक्टिविटी शीट भी भेजी गई है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. कोरोनाकाल में स्कूलों के बंद होने के बावजूद स्टूडेंट्स की लर्निंग (Reading Learning Process) न रुके और उन्हें क्वालिटी एजुकेशन (Quality Education) मिलती रहे, इसलिए दिल्ली में ऑनलाइन क्लासेस (Online Classes) जारी रहीं. अब शिक्षा विभाग ने 17 जनवरी से 100 दिन का रीडिंग कैंपेन शुरू किया है, जिसके तहत बच्चों को छह वर्कशीट हर हफ्ते भेजी जाती हैं, इसके जरिए बच्चों को कहानियों के जरिए  बच्चों में क्रिटिकल थिंकिंग और रचनात्मकता बढ़ाना है.

गुरुवार को उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) ने अधिकारियों के साथ बैठक कर ऑनलाइन टीचिंग-लर्निंग प्रोसेस की समीक्षा की. उन्होंने कहा कि ऑनलाइन टीचिंग-लर्निंग प्रोसेस में बच्चों की पढ़ाई के साथ-साथ उनके मेंटल वेल-बींग का भी ध्यान रखा जाए. उन्होंने कहा कि स्कूल बंद रहने तक ऑनलाइन विधियों के माध्यम से बच्चों की पढ़ाई जारी रहनी चाहिए, ताकि बच्चों में लर्निंग गैप कम किये जा सके.

स्वास्थ्य पहले, लेकिन नहीं छूटनी चाहिए लर्निंग 

मनीष सिसोदिया ने कहा कि कोरोना के कारण बार-बार स्कूलों के बंद होने से स्टूडेंट्स की पढ़ाई का नुकसान हुआ है. हमारे लिए स्टूडेंट्स का स्वास्थ्य बेहद महत्वपूर्ण है लेकिन ये भी महत्वपूर्ण है कि बच्चों की पढ़ाई न रुके. कोरोना महामारी ने हमारे सामने नई चुनौतियां खड़ी की लेकिन दिल्ली की टीम एजुकेशन ने इन चुनौतियों का सामना करते हुए हर बच्चे तक शिक्षा पहुंचाने की कोशिश कर रही है.

ऑनलाइन क्लास के जरिए असाइनमेंट और एक्टिविटी सीट दे रहे

शिक्षा निदेशक हिमांशु गुप्ता ने बताया कि जिन बच्चों के पास डिजिटल डिवाइस नहीं है, हर सप्ताह स्कूल उन्हें वर्कशीट की प्रिंटेड कॉपी भेज रहा है. निदेशालय द्वारा नर्सरी से 10वीं तक के विद्यार्थियों को हर सप्ताह नियमित रूप से व्हाट्सएप के माध्यम से वर्कशीट भेजी जाती है साथ ही शीतकालीन अवकाश के दौरान माध्यमिक कक्षाओं को प्रोजेक्ट, असाइनमेंट और एक्टिविटी शीट भी भेजी गई है.

शिक्षा निदेशालय द्वारा मूल्यांकन पर विशेष जोर दिया जा रहा है और स्टूडेंट्स के आकलन के संदर्भ में उनकी भागीदारी स्तर और सीखने के स्तर को समझने के लिए नए तरीकों का उपयोग करते हुए नियमित रूप से मूल्यांकन भी किया जा रहा है.

घर की पढ़ाई को रोचक बनाने के प्रयास
साथ पढ़ाई को रोचक बनाने के साथ-साथ स्टूडेंट्स की बेसिक पढ़ने लिखने की क्षमता और न्यूमरसी को को बेहतर करने और बच्चों में पढ़ने का कल्चर बनाने के लिए 17 जनवरी से 100 दिन की ‘रीडिंग कैंपेन’ की भी शुरुआत की गई है. इसका उद्देश्य कहानियों के माध्यम से बच्चों में क्रिटिकल थिंकिंग और रचनात्मकता बढ़ाना है.

हर हफ्ते बच्चों को भेजते हैं छह वर्कशीट 

‘रीडिंग कैंपेन’ में स्टूडेंट्स को हर सप्ताह 6 वर्कशीट भेजी जाएगी. इसमें हिंदी व अंग्रेजी भाषा के साथ-साथ न्यूमरसी को बेहतर करने के लिए गणित की वर्कशीट भी शामिल होगी. बता दें कि ऑनलाइन व ऑफ़लाइन माध्यम के द्वारा केजी से दूसरी क्लास के 99.2%, तीसरी से पांचवी के 99.1%, छठी के 94.21%, सातवीं के 97.2%, आठवीं के 98%, 9वीं के 98.7% और 10वी के 98.4% विद्यार्थियों तक शिक्षा निदेशालय द्वारा भेजी गई वर्कशीट पहुँच रही है. साथ ही स्कूलों द्वारा आयोजित की गई ऑनलाइन क्लासेज में कक्षा 11वीं के 98.2% व 12वीं के 98.6% विद्यार्थी भाग ले रहे है.

Tags: Delhi Govt, Manish sisodia, Online classes

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर