राष्ट्रपति भवन के सामने ट्रैक्टर जलाने वालों पर हो राजद्रोह का केस- मनोज तिवारी

दिल्ली भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने युवा कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर निशाना साधा है.
दिल्ली भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने युवा कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर निशाना साधा है.

दिल्ली (Delhi) बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष मनोज तिवारी (Manoj Tiwari) ने कहा कि राष्ट्रपति भवन (President's House) के बाहर ट्रैक्टर जलाने वाले कांग्रेस (Congress) के कार्यकर्ताओं के खिलाफ राजद्रोह का केस दर्ज होना चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 28, 2020, 3:52 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. बीजेपी (BJP) सांसद मनोज तिवारी ने कहा कि जिस तरीके से कांग्रेस (Congress) कार्यकर्ताओं ने राष्ट्रपति भवन के बाहर ट्रैक्टर (Tractor) जलाया. इस पर तो राजद्रोह (Treason) का केस चलाया जाना चाहिए जब बिल को पास कर दिया गया तो आखिर कांग्रेस क्यों बौखलाई हुई है. CAA की तरह किसान बिल पर भी कांग्रेस नाटक कर रही है. जनता और किसानों को बरगलाने की कोशिश में है. किसान बिल किसानों की थाली में समृद्धि लेकर आएगा.

इंडिया गेट पर ट्रैक्टर जलाने को लेकर नाराजगी जताते हुए मनोज तिवारी ने कहा कि पिछले कई सालों से कांग्रेस जलाने का ही काम करती आई है. राहुल गांधी और उनके कार्यकर्ता किसान बिल को लेकर परेशान हैं जबकि किसान इस बिल से बेहद खुश हैं, क्योंकि अब उन्हें उनका हक मिल पाएगा. कांग्रेस किसान बिल को लेकर सिर्फ और सिर्फ झूठ की राजनीति करने का प्रपंच रच रही है. पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के बयान पर मनोज तिवारी ने कहा कि गृह मंत्रालय को इसका संज्ञान लेना चाहिए, जिस तरीके से वह ISI टारगेट की बात कर रहे हैं.

Weather Update: दिल्ली में जल्द ही होगी सर्दी की आमद, अगले सप्ताह से तापमान में गिरावट का अनुमान



आपक बता दें कि आज सुबह पंजाब यूथ कांग्रेस के 15 से 20 कार्यकर्ता इंडिया गेट पहुंचे और वहां एक ट्रैक्टर में आग लगा दी. इसके बाद काग्रेस कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कृषि विधेयक के खिलाफ नारेबाजी की. इस मामले में पुलिस ने पांच लोगों को हिरासत में लिया है. सड़क पर जलते हुए ट्रैक्टर को देखकर दमकल कर्मी वाहन के साथ मौके पर और आग पर काबू पाया.
बता दें कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने संसद द्वारा पारित तीनों कृषि विधेयकों को रविवार को स्वीकृति दे दी है. इन विधेयकों का पूरे देश में विपक्ष और किसान भारी विरोध कर रहे हैं. खासकर पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों के किसान इसे 'काला कानून' बताकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. वहीं विपक्ष भी लगातार केंद्र सरकार पर निशाना साध रहा है.

पिछले हफ्ते रविवार को राज्यसभा में केंद्रीय कृषि मंत्री द्वारा चर्चा के लिए लाए गए दो अहम विधेयक, 'कृषक उपज व्यापार एवं वाणिज्य (संवर्धन एवं सरलीकरण) विधेयक 2020 और कृषक (सशक्तीकरण व संरक्षण) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा पर करार विधेयक 2020' पर विपक्षी दलों के सांसदों ने पुरजोर विरोध किया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज