• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • MARRIAGE HOMES AND PRIVATE COLLEGES WILL BE CONVERTED TO TEMPORARY HOSPITALS IN GHAZIABAD

गाजियाबाद के मैरिज होम और निजी कॉलेजों को बनाया जाएगा अस्थाई अस्पताल, जानें कब से?

(सांकेतिक तस्वीर)

Third Wave Of Corona:गाजियाबाद प्रशासन कोरोना की संभावित तीसरी लहर को देखते हुए मैरिज होम और निजी कॉलेजों को अस्‍थाई अस्‍पताल बनाने की तैयारी कर रहा है, जिससे मरीजों को बेड, ऑक्सीजन मिल सकें.

  • Share this:
    गाजियाबाद. गाजियाबाद प्रशासन ने कोरोना (Corona) की तीसरी लहर से निपटने की तैयारी शुरू कर दी है. तैयारी की इस कड़ी में जिले के मैरिज होम (Marriage Home) और निजी कॉलेजों (Private College) को अस्‍थाई अस्‍पताल बनाया जाएगा. साथ ही, इन अस्‍थाई अस्‍पतालों में बेड, ऑक्‍सीजन सिलेंडर व अन्‍य संसाधन जुटाने के लिए ब्‍लू प्रिंट बनाया जा रहा है. प्रशासन के अधिकारियों के अनुसार दूसरी लहर में मरीजों को हो रही परेशानियों को ध्‍यान में रखते हुए प्‍लानिंग की जा रही है.

    गाजियाबाद प्रशासन (Ghaziabad Administration) ने संभावित कोरोना की तीसरी लहर के ध्‍यान में रखते हुए अतिरिक्‍त बेडों की व्‍यवस्‍था शुरू कर दी है. मौजूदा समय सरकारी और निजी मिलाकर कुल 3000 के करीब बेड हैं. लेकिन मरीजों की संख्‍या इससे कहीं अधिक है. इस वजह से मरीजों को अस्‍पतालों में बेड नहीं मिल रहे हैं. मजबूरी में मरीजों का उपचार घरों में हो रहा है. ऑक्‍सीजन सिलेंडर से लेकर अन्‍य जरूरी उपकरणों का इंतजार परिजन स्‍वयं ही कर रहे हैं. प्रशासन ने भविष्‍य के संकट को देखते हुए योजना बनानी शुरू कर दी है.



    अस्थाई तौर पर कब्जे में लिए जाएंगे मैरिज हॉल, कॉलेज भवन
    योजना के तहत जिले के मैरिज होम और निजी कॉलेजों को प्रशासन अस्‍थाई रूप में अपने कब्‍जे में लेगा. इसमें इस बात कर ध्‍यान रखा जाएगा कि ये मैरिज होम या निजी कॉलेज घनी आबादी के बीच न हों. यहां तक जाने के लिए रास्‍ता साफ हो, जिससे एंबुलेंस आदि आसानी से चली जाएं. बेड और ऑक्‍सीजन सिलेंडरों की जरूरत के अनुसार व्‍यवस्‍था की जा रही है, इसके लिए प्रशासन एनजीओ व अन्‍य संस्‍थाओं से बातचीत कर रहा है. वहीं दूसरी ओर स्‍वास्‍थ्‍य विभाग द्वारा जिला और संयुक्‍त अस्‍पताल में ऑक्‍सीजन प्‍लांट लगाने की प्रक्रिया शुरू भी चल रही है.
    Published by:Sharad Pandey
    First published: