• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • दिल्ली के इन इलाकों में मिलने लगे डेंगू मच्छर के लार्वा, MCD ने काटे इतने चालान

दिल्ली के इन इलाकों में मिलने लगे डेंगू मच्छर के लार्वा, MCD ने काटे इतने चालान

एमसीडी के मुताबिक दिल्ली के कई इलाकों में डेंगू मच्छरों का लार्वा मिला है.

एमसीडी के मुताबिक दिल्ली के कई इलाकों में डेंगू मच्छरों का लार्वा मिला है.

दिल्ली में जहां मॉनसून की दस्तक का लोग बड़ी बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं, वहीं डेंगू (Dengue) मच्छर ने पहले ही दस्तक दे दी है. एमसीडी (MCD) के मुताबिक दिल्ली के कई इलाकों में डेंगू मच्छरों का लार्वा मिला है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. दिल्ली में जहां मॉनसून की दस्तक का लोग बड़ी बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं, वहीं डेंगू (Dengue) मच्छर ने पहले ही दस्तक दे दी है. एमसीडी (MCD) के मुताबिक दिल्ली के कई इलाकों में डेंगू मच्छरों का लार्वा मिला है. आईटीपीओ टनल में मच्छरों की ब्रीडिंग मिलने पर साउथ एमसीडी एक्शन में आ गई है. एमसीडी ने एक कंस्ट्रक्शन कंपनी के खिलाफ चालान किया है. इसके साथ ही दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में एमसीडी डेंगू के खिलाफ अभियान चला रही है. एमसीडी के मुताबिक दिल्ली के कई अस्पतालों और स्कूलों में डेंगू मच्छरों ब्रीडिंग पाई गई हैं.

    मॉनसून से पहले डेंगू के लार्वा मिले
    बता दें कि एमसीडी ने 10 जुलाई के बाद से अब तक तकरीबन 170 लोगों को नोटिस भेजा है और तकरीबन इतनी संख्या में चालान भी काटा है. ऐसा माना जा रहा है कि मच्छरों की ब्रीडिंग का अनुपात 23 प्रतिशत ज्यादा है, जो समान्य की तुलना में अधिक है.

    साउथ एमसीडी की ओर से मच्छर प्रजनन रोकने के लिए चलाए जा रहे अभियान के अंतर्गत सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों के चालान काटे गए हैं.  MCD, Dengue, Malaria, Chikungunya, SDMC, दिल्ली नगर निगम, डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया, एसडीएमसी
    साउथ एमसीडी की ओर से मच्छर प्रजनन रोकने के लिए चलाए जा रहे अभियान के अंतर्गत सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों के चालान काटे गए हैं.


    मच्छरों की ब्रीडिंग का अनुपात ज्यादा
    एमसीडी के अधिकारियों का कहना है कि मॉनसून से पहले ही जब मच्छरों की ब्रीडिंग का अनुपात ज्यादा है तो मॉनसून के बाद की स्थिति का ध्यान में रखते हुए जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं. इसलिए हमलोगों ने एमसीडी के सभी जोन में मच्छरों की ब्रीडिंग कट्रोंल करने के लिए एक विशेष अभियान शुरू किया है. 10 जुलाई से अब तक तकरीबन 1450 कंस्ट्रक्शन साइट्स की जांच की गई है. इस दौरान लगभग 340 साइट्स पर मच्छरों की ब्रीडिंग पाई गई हैं.

    इस साल डेंगू के इतने मामले आए हैं
    दिल्ली में इस साल अबतक डेंगू के 38 मामले सामने आ चुके हैं. देखा जाए तो साल 2018 के बाद से इस साल 10 जुलाई तक डेंगू के सबसे ज्यादा 36 मामले आए हैं. हालांकि जुलाई में अब तक दिल्ली में डेंगू के सिर्फ दो ही मामलों की पुष्टि हुई है.

    Congress, Delhi Government, Arvind Kejriwal, Chaudhary Anil Kumar, Dengue, Malaria, Chikungunya, MCD, Coronavirus, COVID-19, कांग्रेस, दिल्ली सरकार, अरविंद केजरीवाल, चौधरी अनिल कुमार, डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया, एमसीडी, कोरोनावायरस, कोविड-19
    दिल्लीवासियों को मलेरिया, चिकनगुनिया और डेंगू के खतरे से कोई राहत नहीं मिली है, (प्रतीकात्‍मक)


    ये भी पढ़ें: दिल्ली-NCR के 74021 वाहनों का रजिस्ट्रेशन हुआ रद्द, इस सीरीज की गाड़ियां सड़क पर चलते दिखें तो करें यहां शिकायत

    बता दें कि डेंगू मच्छर का लार्वा साफ और रूके हुए पानी में पनपता है, जबकि मलेरिया के मच्छर का लार्वा गंदे पानी में भी हो सकता है. मच्छर जनित बीमारियों के लिए जुलाई से लेकर नवंबर के बीच का महीना उपयुक्त माना जाता है, क्योंकि इस दौरान मॉनसून के पानी जगह-जगह जमा हो जाते हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज