Assembly Banner 2021

दिल्ली के 438 मल्टीस्टोरी बिल्डिंग को इस निगम ने भेजे नोटिस, पूछा बताइए भूंकप आने पर क्या सुरक्षित रहेगा आपका भवन?

निगम ने 438 भवनों को सुरक्षा की दृष्टि से संवेदनशील श्रेणी में रखा गया है.

निगम ने 438 भवनों को सुरक्षा की दृष्टि से संवेदनशील श्रेणी में रखा गया है.

भूकंपीय स्थिरता (Seismic stability) को सुनिश्चित करने के लिए पिछले एक साल में 650 भवनों को नोटिस जारी किये चुके है. निगम ने 438 भवनों को सुरक्षा की दृष्टि से संवेदनशील श्रेणी में रखा गया है. निगम का मानना है कि जिन भवनों की उंचाई अधिक है और बड़ी संख्या में नागरिक निवास करते हैं या अधिक संख्या में नागरिक इकट्ठा होते है. वह सभी संवेदनशील श्रेणी में रखे गये हैं. इनमें कॉलेज, सामुदायिक हॉल, बैंक्वेट हॉल, अस्पताल, विद्यालय आदि प्रमुख रूप से शामिल हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 7, 2021, 11:55 AM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. नार्थ दिल्ली के मेयर जय प्रकाश ने बताया कि नार्थ निगम अपने अधिकार क्षेत्र में भवनों की भूकंपीय स्थिरता (Seismic stability) को सुनिश्चित करने के लिए पिछले एक साल से कार्य कर रही है. इसके चलते अब तक 650 भवनों को नोटिस जारी किये चुके है.


अहम बात यह कि निगम ने 438 भवनों को सुरक्षा की दृष्टि से संवेदनशील श्रेणी में रखा गया है. निगम का मानना है कि जिन भवनों की उंचाई अधिक है और बड़ी संख्या में नागरिक निवास करते हैं या अधिक संख्या में नागरिक इकट्ठा होते है. वह सभी संवेदनशील श्रेणी में रखे गये हैं.


इनमें कॉलेज, सामुदायिक हॉल, बैंक्वेट हॉल, अस्पताल, विद्यालय आदि प्रमुख रूप से शामिल हैं. ऐसे भवनों को स्ट्रक्चरल ऑडिट रिपोर्ट प्रदान करने के लिए नोटिस दिए गए है ताकि भवन की संवेदनशीलता और स्थिरता की वास्तविक पहचान की जा सके.


इन नोटिस के माध्यम से कहा गया है कि भवन की भूकंपीय स्थिरता को सुनिश्चित करने के लिए भवनों की स्ट्रक्चरल ऑडिट रिपोर्ट (Structural Audit Report) के साथ मौजूदा बिल्डिंग प्लान नोटिस जारी होने के 30 दिन के अंदर निगम कार्यालय में जमा करवानी होगी. उत्तरी दिल्ली नगर निगम (NDMC) ने वर्ष 2001 से पहले निर्मित भवनों अथवा जर्जर हालत वाले भवनों के लिए सुरक्षा मानकों की दृष्टि से यह कार्रवाई शुरु की है.


नार्थ दिल्ली नगर निगम ने 10  फरवरी 2021 तक 2156 भवनों को चिन्हित कर 650 भवनों को नोटिस जारी किए है. अब तक 66 भवनों ने स्ट्रक्चरल ऑडिट करवाया है, 16 भवनों को ध्वस्त किया गया है और 1 भवन में रेट्रोफिटिंग करवाई गई है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज