मिलिए दिल्ली पुलिस के इस DCP से जिसने मां के हाथों से बनी सत्तू की रोटी का बैग खोज कर बेटे तक पहुंचाया

दिल्ली पुलिस के डीसीपी जितेंद्र मणि त्रिपाठी को किसी अनजान नंबर से रात के वक्त व्हाट्सएप पर मैसेज आता है.

दिल्ली पुलिस के डीसीपी जितेंद्र मणि त्रिपाठी को किसी अनजान नंबर से रात के वक्त व्हाट्सएप पर मैसेज आता है.

दिल्ली पुलिस (Delhi police) के डीसीपी जितेंद्र मणि त्रिपाठी (DCP Jitendra Mani Tripathi) के फेसबुक (Facebook) पर लिखे एक पोस्ट की सोशल मीडिया (Social Media) पर खूब चर्चा हो रही है.

  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस (Delhi police) के डीसीपी जितेंद्र मणि त्रिपाठी (DCP Jitendra Mani Tripathi) के फेसबुक (Facebook) पर लिखे एक पोस्ट की सोशल मीडिया (Social Media) पर खूब चर्चा हो रही है. दरअसल, शुक्रवार की रात दिल्ली पुलिस में कार्यरत रेलवे और मेट्रो (Railway and Metro) के डीसीपी जितेंद्र मणि त्रिपाठी को किसी अनजान नंबर से रात के वक्त व्हाट्सएप मैसेज आता है. इस मैसेज में लिखा होता है कि मां के हाथ का बना सत्तू की रोटी और कुछ पकवान से भरा बैग मेट्रो में छूट गया है. लिखने वाला शख्स साथ में ये भी लिखता है कि आप इसको हासिल करवा दें तो बड़ी मेहरबानी होगी. डीसीपी त्रिपाठी रात 10 बजे के आस-पास मैसेज देखते हैं और उसके बाद एक्शन में आ जाते हैं. तकरीबन दो घंटे के बाद बैग मिल जाता है.

मेट्रो में बैग कैसे खो गया था

बिहार के छपरा का रहने वाला छात्र ऋषभ इलाहाबाद विश्वविद्यालय से स्नातक कर दिल्ली के साकेत में परीक्षा की तैयारी करता है. रिषभ पिछले 10 महीने से घर नहीं गया है. इस बीच ऋषभ का दोस्त छपरा से दिल्ली आ रहा था तो ऋषभ की मां ने बेटे के लिए सत्तू भरी रोटी, गुजिया और पकवान बना कर बेटे के लिए देती है. ऋषभ का दोस्त लक्ष्मी नगर में रहता है. शुक्रवार को ऋषभ दोस्त से बैग लेकर लक्ष्मी नगर मेट्रो स्टेशन से मेट्रो लेकर साकेत के लिए निकल जाता है. राजीव चौक मेट्रो स्टेशन पर ऋषभ ने दूसरी मेट्रो पकड़ी तो उसे पता चला कि उसका बैग द्वारका वाली मेट्रो में ही छूट गया है. इस बीच ऋषभ को इलाहाबाद के एक पूर्व छात्र से डीसीपी जितेंद्र मणि त्रिपाठी का नंबर मिलता है और वह डीसीपी के व्हाट्सएप नंबर पर बैग खोने की जानकारी देता है.

Delhi Police, DCP Jitendra mani tripathi, discovered, bag, sattu, bread, made by mother, son, delhi metro, rail dcp, allahabad university, dwarka metro, laxmi nagar, chhapra, facebook post, whatsapp massage, दिल्ली पुलिस, डीसीपी जितेंद्र मणि त्रिपाठी, फेसबुक, फेसबुक पोस्ट, सोशल मीडिया, रेलवे और मेट्रो, जितेंद्र मणि त्रिपाठी, व्हाट्सएप मैसेज, मां, सत्तू की रोटी, पकवान से भरा बैग, दिल्ली मेट्रो, इलाहाबाद विश्वविद्यालय, Meet DCP Jitendra mani tripathi of Delhi Police who discovered the bag of sattu bread made by mother for son metro rail nodrss
डीसीपी त्रिपाठी रात 10 बजे के आस-पास मैसेज देखते हैं और उसके बाद एक्शन में आ जाते हैं.

घटना की जानकारी ऐसे मिली

इस घटना की पूरी जानकारी डीसीपी जितेंद्र मणि त्रिपाठी अपने फेसबुक वॉल पर साझा करते हैं. त्रिपाठी लिखते हैं कि उन्होंने करीब रात 10 बजे व्हाट्सएप पर यह मैसेज पढ़ा. मैसेज पढ़ने के बाद मैंने कंट्रोल रुम के माध्यम से स्टॉफ को इस बात की जानकारी दी. करीब दो घंटे के बाद तकरीबन रात 12 बजे के आस-पास यह बैग द्वारका में मिल गया.

फेसबुक पेज पर लिखा मार्मिक पोस्ट



जितेंद्र मणि त्रिपाठी आगे लिखते हैं, साथियों जीवन में कुछ ऐसे कार्य होते हैं जो आदमी करके बड़ी संतुष्टि और बड़ी खुशी पाता है उनमें से एक यह कार्य है. जबकि, कोई अपरिचित व्यक्ति बिना किसी सिफारिश के बिना किसी प्रभाव के जुगाड़ के सिस्टम से मदद मांगता है और सिस्टम उसकी मदद पर लग जाता है. जब मेरे कंट्रोल रूम ने इस पीड़ित व्यक्ति ऋषभ से बात करके मुझे बताया कि सर इसमें उसके कुछ खाने का सामान है. मां के हाथों की बनी रोटियां है और कोई कीमती सामान नहीं है. फिर भी मैंने कहा यदि किसी व्यक्ति ने इसको वापस पाने के लिए डीसीपी स्तर के अधिकारी से मदद मांगी है तो पक्का वह उसे वापस पाना चाहता है और उसे उसका जुड़ाव होगा.

Delhi Police, DCP Jitendra mani tripathi, discovered, bag, sattu, bread, made by mother, son, delhi metro, rail dcp, allahabad university, dwarka metro, laxmi nagar, chhapra, facebook post, whatsapp massage, दिल्ली पुलिस, डीसीपी जितेंद्र मणि त्रिपाठी, फेसबुक, फेसबुक पोस्ट, सोशल मीडिया, रेलवे और मेट्रो, जितेंद्र मणि त्रिपाठी, व्हाट्सएप मैसेज, मां, सत्तू की रोटी, पकवान से भरा बैग, दिल्ली मेट्रो, इलाहाबाद विश्वविद्यालय, Meet DCP Jitendra mani tripathi of Delhi Police who discovered the bag of sattu bread made by mother for son metro rail nodrss
हमें पूरी शिद्दत से प्रयास करना चाहिए और कोशिश करना चाहिए कि इसका बैग मिल जाए- DCP


क्यों कहा कि किसी अवार्ड से भी है बड़ा पुरस्कार

त्रिपाठी लिखते हैं, 'हमें पूरी शिद्दत से प्रयास करना चाहिए और कोशिश करना चाहिए कि इसका बैग मिल जाए. हमने अधिकारियों से कहा कि प्रयास करें हो सकता है उसका बैग हम खोज निकाले और चंद लम्हों में उसकी समस्या को दूर होती है यह बड़ी संवेदना और भावुक क्षण था. उसके लिए जब वह व्यक्ति अपनी मां के हाथ की बनी रोटियां पाता है. उसकी आंखों में आंसू होते हैं सच बताऊं इसकी कीमत किसी बड़े से बड़े अवार्ड से भी अधिक है. बड़े से बड़े पुरस्कार से भी बड़ी है. बहुत अच्छा महसूस हुआ यह कार्य करके.' दिल्ली पुलिस के डीसीपी जितेंद्र मणि त्रिपाठी की आंखें भर आती हैं.

ये भी पढ़ें: क्या दिल्ली में भी होने वाले हैं महाराष्ट्र जैसे हालात? केजरीवाल के इस बयान के जरा मायने समझिए

डीसीपी जितेंद्र मणी त्रिपाठी के बारे में कहा जाता है कि वे काफी जिंदादिल इंसान हैं. पत्नी को कैंसर बीमारी से खो चुके हैं. पत्नी की याद में 'कहीं तो हंसी होगी' नाम से एक किताब भी लिख चुके हैं. इस किताब की बिक्री से मिले पैसे का हिस्सा एम्स में कैंसर का इलाज कराने आए दूर-दराज के मरीजों पर खर्च करते हैं. जितेंद्र मणि दिल्ली पुलिस के 7वीं बटैलियन के डीसीपी भी रह चुके हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज