Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    Weather Alert: मौसम विभाग का अनुमान, जुलाई में जमकर बरसेंगे बादल, ये है वजह

    इस बार जुलाई में भी जमकर बरसेंगे बादल. (न्‍यूज 18 ग्राफिक्‍स)
    इस बार जुलाई में भी जमकर बरसेंगे बादल. (न्‍यूज 18 ग्राफिक्‍स)

    मौसम विभाग (Meteorological Department)के अनुसार, इस साल जून महीने में दीर्घकालिक आवधिक औसत (एलपीए) की 118 प्रतिशत वर्षा हुई जिसे अत्यधिक बारिश (Heavy Rain)माना जाता है. जबकि मानसून के सीजन में 1961-2010 के बीच यह औसत 88 सेंटीमीटर रहा.

    • Share this:
    नई दिल्ली. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा कि जून महीने में अत्यधिक बारिश (Heavy Rain) हुई और जुलाई में भी अच्छी वर्षा का अनुमान है. मौसम विभाग (Meteorological Department)के आंकड़ों के अनुसार, जून महीने में दीर्घकालिक आवधिक औसत (एलपीए) की 118 प्रतिशत वर्षा हुई जिसे अत्यधिक बारिश माना जाता है. इसके अलावा विभाग ने कहा कि पिछले 12 साल में, इस साल जून सबसे अधिक भीगा रहा.

    मौसम विभाग ने कही ये बात
    मानसून के सीजन में 1961-2010 के बीच देश में दीर्घकालिक आवधिक औसत (एलपीए) बारिश 88 सेंटीमीटर रही. 90-96 फीसदी के बीच बारिश ‘सामान्य से कम’ मानी जाती है और 96-104 फीसदी बारिश ‘सामान्य’ मानी जाती है. जबकि एलपीए की 104 -110 फीसदी वर्षा ‘सामान्य से अधिक’ और 110 फीसदी से अधिक वर्षा ‘अत्यधिक’ मानी जाती है. मौसम विभाग के मध्य भारत उपसंभाग में जून में हुई वर्षा एलपीए की 131 फीसदी रही. इस क्षेत्र में गोवा, कोंकण, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ आते हैं. जबकि पूर्वी और पूर्वोत्तर उप संभाग में हुई वर्षा एलपीए की 116 फीसदी रही. इसके अलावा असम में बाढ़ आई और बिहार में भी अत्यधिक बरसात हुई.

    ये भी पढ़ें- 400 मरीजों को CORONA से‍ निजात दिलाने वाले ITBP के डॉक्‍टर ने बताई ‘अचूक दवा’
    मौसम विभाग के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने कही ये बात


    हालांकि मौसम विभाग के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने कहा कि इन इलाकों में अगले पांच से दस दिन के भीतर बरसात में कमी आएगी. उत्तरपश्चिम उप संभाग में वर्षा एलपीए की 104 फीसदी रही और दक्षिण में यह एलपीए की 108 फीसदी रही. मौसम विभाग ने जुलाई माह में एलपीए की 103 फीसदी वर्षा का अनुमान जताया है. महापात्र ने कहा कि जुलाई में अच्छी बारिश होने की उम्मीद है.
    उन्होंने बताया कि गुजरात के तट के निकट तथा पूर्वी-मध्य भारत के ऊपर दो चक्रवात बन रहे हैं. इससे मध्य तथा दक्षिण भारत में अगले पांच से दस दिन में अच्छी बारिश होगी.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज