Corona के चलते DMRC का बड़ा फैसला, Metro ऑपरेटर्स का नहीं होगा ब्रेथ एनेलाइजर टेस्ट
Delhi-Ncr News in Hindi

Corona के चलते DMRC का बड़ा फैसला, Metro ऑपरेटर्स का नहीं होगा ब्रेथ एनेलाइजर टेस्ट

कोरोना वायरस (Coronavirus) के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए दिल्‍ली मेट्रो (Delhi Metro) के ट्रेन ऑपरेटर्स ने अनिवार्य ब्रेथ एनेलाइजर टेस्ट (breath analyzer test) को बंद करने की मांग की थी.  

  • Share this:
नई दिल्‍ली. COVID-19 के लगातार बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए दिल्‍ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (Delhi Metro Rail Corporation) ने बड़ा फैसला किया है. फैसले के तहत, अब मेट्रो ट्रेन (Metro Train) के ऑपरेटर्स को ब्रेथ एनेलाइजर टेस्ट (Breath Analyzer Test) से नहीं गुजरना होगा. डीएमआरसी (DMRC) ने यह फैसला अपने ट्रेन ऑपरेटर्स को कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण (Infection) से बचाने के मकसद से लिया है.

दरअसल, कोरोना वायरस (Coronavirus) के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए दिल्‍ली मेट्रो (Delhi Metro) के ट्रेन ऑपरेटर्स ने अनिवार्य ब्रेथ एनेलाइजर टेस्ट (breath analyzer test) को बंद करने की मांग की थी. ट्रेन ऑपरेटर्स की मांग को मांगते हुए डीएमआरसी ने तत्‍काल प्रभाव से ब्रेथ एनेलाइजर टेस्ट पर रोक लगा दी है. अब बॉडी में एल्‍कोहल की मात्रा जानने के लिए डीएमआरसी दूसरे विकल्‍पों की मदद लेगा.

अब भरना होगा सेल्‍फ डिक्लेरेशन फार्म
डीएमआरसी के कार्यकारी निदेशक (कॉरपोरेट कम्युनिकेशन) अनुज दयाल के अनुसार, दिल्‍ली में लगातार बढ़ रहे COVID-19 के मामलों को देखते हुए दिल्‍ली मेट्रो ने एहतियातन अपने ट्रेन ऑपरेटर्स के अनिवार्य ब्रेथ एनेलाइजर टेस्ट को अस्‍थायी तौर पर बंद करने का फैसला किया है. इस फैसले के आने के बाद, अब ट्रेन ऑपरेटर्स को ड्यूटी जॉइन करने से पहले एक सेल्‍फ डिक्लेरेशन फार्म भरना होगा.



डीएमआरसी के एक अन्‍य अधिकारी ने बताया कि सेल्‍फ डिक्लेरेशन फार्म में ट्रेन ऑपरेटर को यह बताना होगा कि निर्धारित अवधि के भीतर उसने किसी तरह के एल्‍कोहल का सेवन नहीं किया है. इसके अलावा, सेल्‍फ डिक्लेरेशन फार्म में उन सभी बिंदुओं की जानकारी ट्रेन ऑपरेटर से ली जाएगी, जिनका ध्‍यान ब्रेथ एनेलाइजर टेस्ट के दौरान रखा जाता था. डीएमआरसी के इस कदम के बाद, ट्रेन ऑपरेटर्स की कोरोना संक्रमण से संबंधित सभी आंशकाओं को दूर कर दिया गया है.



DMRC के ऑपरेटर्स मिला था ‘ब्‍लो-पाइप’
डीएमआरसी के अनुसार, एक मेट्रो ऑपरेटर के ऊपर ट्रेन में सवार हजारों मुसाफिरों की सुरक्षा की जिम्‍मेदारी रहती है. लिहाजा, ड्यूटी जॉइन करने से पहले और ड्यूटी खत्‍म होने के समय सभी मेट्रो ट्रेन ऑपरेटर्स का अनिवार्य रूप से ब्रीथ एनेलाइजर टेस्‍ट किया जाता था. चूंकि, ट्रेन ऑपरेटर्स की सुरक्षा को लेकर डीएमआरसी प्रबंधन हमेशा से सजग रहा है, लिहाजा कोविड-19 की महामारी को देखते हुए डीएमआरसी ने अपने सभी र्टेन ऑपरेटर्स को अलग ब्‍लो पाइप उपलब्‍ध कराया था.

जिससे किसी भी सूरत में संक्रमण का खतरा न रहे. बावजूद इसके, ट्रेन ऑपरेटर्स के मन में कोरोना संक्रमण को लेकर तमाम आशंकाए थीं. इन्‍हीं आशंकाओं के तहत, ट्रेन ऑपरेटर्स ने ब्रेथ एनेलाइजर टेस्ट को बंद करने का अनुरोध किया था. मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए डीएमआरसी ने ऑपरेटर्स के अनुरोध को स्‍वीकार कर लिया है. उल्‍लेखनीय है कि कुछ माह पहले विमानन परिचालन से जुड़े एयर ट्रैफिक कंट्रोल ने भी अपने सभी कंट्रोलर का ब्रेथ एनेलाइजर टेस्ट न कराने का फैसला कोविड 19 को देखते हुए लिया था.

 

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading