होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /सत्‍येंद्र जैन अपने पद का दुरुपयोग कर जेल की कोठरी में सह-आरोपियों से मिले थे: सूत्र

सत्‍येंद्र जैन अपने पद का दुरुपयोग कर जेल की कोठरी में सह-आरोपियों से मिले थे: सूत्र

सूत्रों ने दावा किया है कि दिल्ली के मंत्री सत्येंद्र जैन ने अपने पद का गलत उपयोग किया. (File Photo-ANI)

सूत्रों ने दावा किया है कि दिल्ली के मंत्री सत्येंद्र जैन ने अपने पद का गलत उपयोग किया. (File Photo-ANI)

जेल में बंद दिल्ली के मंत्री सत्येंद्र जैन (Satyendra Jain) ने अपने आधिकारिक पद का ‘दुरुपयोग’ करते हुए जेल की कोठरी में ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

दिल्‍ली के उपराज्‍यपाल द्वारा गठित समिति ने जांच में उजागर किए तथ्‍य
कहा- जेल में बंद दिल्‍ली के मंत्री सत्‍येंद्र जैन ने पद का गलत उपयोग किया
पत्‍नी, सगे-संबंधियों के साथ ही सह आरोपियों से जेल में मुलाकात की

नई दिल्ली. दिल्ली के उपराज्यपाल (Delhi LG) वी के सक्सेना (VK saxena) द्वारा गठित एक जांच समिति ने पाया है कि जेल में बंद दिल्ली के मंत्री सत्येंद्र जैन (Satyendra Jain) ने अपने आधिकारिक पद का ‘दुरुपयोग’ किया और धनशोधन के मामले में सह-आरोपियों से तिहाड़ जेल की अपनी कोठरी में मुलाकात की. आधिकारिक सूत्रों ने बुधवार को यह जानकारी दी. जैन को भी इस मामले में गिरफ्तार किया गया है. सूत्रों ने बताया कि दिल्ली सरकार के गृह, कानून और सतर्कता विभागों के प्रधान सचिवों की सदस्यता वाली समिति की रिपोर्ट में जैन के साथ तत्कालीन महानिदेशक (कारागार) संदीप गोयल की ‘मिलीभगत’ का उल्लेख किया गया है.

जैन को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 31 मई को धनशोधन मामले में गिरफ्तार किया था. रिपोर्ट के निष्कर्षों को लेकर आम आदमी पार्टी (आप) या गोयल ने तत्काल कोई प्रतिक्रिया नहीं दी. समिति ने जैन को ‘अति विशिष्ट व्यक्ति की तरह सुविधाएं’ देने के लिए गोयल के खिलाफ ‘विभागीय कार्यवाही’ की सिफारिश भी की है. रिपोर्ट में कहा गया है, ‘जेल नियमों का उल्लंघन करते हुए जैन उसी मामले में सह-आरोपियों के साथ अपने कमरे में अक्सर मुलाकात करते थे, जिसमें उन्हें गिरफ्तार किया गया है. इन सह-आरोपियों में वैभव जैन और अंकुश जैन के अलावा संजय गुप्ता और रमन भूरारिया शामिल हैं. गुप्ता एवं भूरारिया प्रवर्तन निदेशालय द्वारा दायर अन्य मामलों में आरोपी हैं.’

जैन की पत्नी और परिवार के अन्य सदस्यों ने नियमों का ‘घोर उल्लंघन’ किया 

इसमें कहा गया है कि जैन की पत्नी और परिवार के अन्य सदस्यों ने नियमों का ‘घोर उल्लंघन’ कर और तत्कालीन महानिदेशक (कारागार) और तिहाड़ जेल अधीक्षक अजीत कुमार सहित वरिष्ठ जेल अधिकारियों की ‘मिलीभगत’ के साथ ‘अक्सर’ उनसे जेल में मुलाकात की. जेल में बंद सुकेश चंद्रशेखर द्वारा पैसे लेने का आरोप लगाने के बाद गोयल का तबादला कर दिया गया था. कुमार को इस मामले में निलंबित कर दिया गया है.

तिहाड़ जेल के कैदियों पर जैन को ‘विशेष सेवाएं’ देने के लिए ‘दबाव’ डाला

रिपोर्ट में कहा गया है कि जेल प्राधिकारियों ने तिहाड़ जेल के पांच कैदियों पर जैन को ‘विशेष सेवाएं’ देने के लिए ‘दबाव’ डाला था. इन कैदियों में रिंकू नाम का वह कैदी भी शामिल है, जिसे कथित वीडियो में जैन की मालिश करते देखा गया था. ईडी ने अदालत में कहा था कि जैन के साथ जेल में ‘विशेष व्यवहार’ किया जा रहा है, जिसके बाद पिछले महीने समिति का गठन किया गया था.

Tags: Delhi LG, Satyendra jain

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें