होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /अब सस्‍ती कीमतों पर मिल सकेंगी आयुर्वेद-होम्‍योपैथी दवाएं, आयुष ने की ये तैयारी

अब सस्‍ती कीमतों पर मिल सकेंगी आयुर्वेद-होम्‍योपैथी दवाएं, आयुष ने की ये तैयारी

आयुष मंत्रालय सस्‍ती दवाएं और सस्‍ती आयुष सेवाएं उपलब्‍ध कराने की तैयारी कर रहा है.

आयुष मंत्रालय सस्‍ती दवाएं और सस्‍ती आयुष सेवाएं उपलब्‍ध कराने की तैयारी कर रहा है.

डीएसटी के सचिव डॉ. श्रीवारी चंद्रशेखर ने कहा, 'पारंपरिक ज्ञान और आधुनिक विज्ञान विशेष रूप से स्वास्थ्य विज्ञान में हाथ ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्‍ली. आयुष चिकित्‍सा पद्धतियों को हर व्‍यक्ति तक पहुंचाने की कवायद में जुटा आयुष मंत्रालय अब लोगों को विभिन्‍न आयुष पद्धतियों में सस्‍ती दवाएं उपलब्‍ध कराने की तैयारी कर रहा है. इसके लिए आयुष मंत्रालय और विज्ञान और प्रौद्योगिकी और पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) के बीच एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए हैं. यह समझौता आयुष क्षेत्र में साक्ष्य-आधारित वैज्ञानिक हस्तक्षेप के लिए सहयोग, कन्‍वर्जन और तालमेल करके सार्वजनिक स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली में इनका आगे उपयोग करने के लिए रिसर्च के संभावित क्षेत्रों की पहचान करेगा.

    समझौते पर आयुष मंत्रालय के सचिव वैद्य राजेश कोटेचा और डीएसटी के सचिव डॉ. श्रीवारी चंद्रशेखर ने आयुष मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों और डीएसटी के वैज्ञानिकों की मौजूदगी में हस्ताक्षर किए. इस दौरान डीएसटी के सचिव डॉ. श्रीवारी चंद्रशेखर ने कहा, ‘पारंपरिक ज्ञान और आधुनिक विज्ञान विशेष रूप से स्वास्थ्य विज्ञान में हाथ मिला रहे हैं. जब हम आयुष के वैज्ञानिक और चिकित्सकों को एक साथ ला रहे हैं तो हमें यकीन है कि हम समाधान लेकर आएंगे जो कि सस्ती कीमतों पर उपलब्ध होगा. मुझे उम्मीद है कि यह देश के बेहतरीन कार्यक्रमों में से एक बनेगा.

    समझौते के माध्यम से आयुष मंत्रालय और डीएसटी ने संयुक्त रूप से आयुष अवधारणाओं, प्रक्रियाओं और उत्पादों के वैज्ञानिक सत्यापन पर रिसर्च और विकास गतिविधियों को शुरू करने, सूचना के आदान-प्रदान के लिए एक मंच बनाने और आयुष से संबंधित बुनियादी अवधारणाओं को समझने की दिशा में आधुनिक विज्ञान को शामिल करने पर सहमति व्यक्त की है.

    आयुष मंत्रालय उन महत्वपूर्ण क्षेत्रों की पहचान करेगा जिनमें आयुष से संबंधित प्रणालियां शामिल हैं जिन्हें आधुनिक विज्ञान में बुनियादी अवधारणाओं, प्रक्रियाओं, नए उपकरणों के विकास आदि को समझने की आवश्यकता है. इस बीच, डीएसटी, विज्ञान और इंजीनियरिंग अनुसंधान बोर्ड (एसईआरबी) के माध्यम से अच्छी तरह से चार्टर्ड योजनाओं और पारस्परिक कार्यों के माध्यम से महत्वपूर्ण क्षेत्रों के कार्यान्वयन का समन्वय करेगा.

    उद्योग, अनुसंधान एवं विकास संगठनों (सार्वजनिक/निजी), और सरकारी एजेंसियों/विभागों के साथ साझेदारी को दृढ़ता से प्रोत्साहित किया जाएगा। इसके अलावा, एमओयू आयुष से संबंधित अनुसंधान एवं विकास गतिविधियों के तहत प्रस्तावों के लिए विशेष कॉल पर भी ध्यान केंद्रित करेगा, जो राष्ट्रीय वैज्ञानिकों के व्यक्ति या समूह से मांगे गए हैं जो शैक्षणिक संस्थानों, अनुसंधान संगठनों, सरकारी एजेंसियों और उद्योगों में सक्रिय रूप से अनुसंधान और प्रौद्योगिकी विकास में लगे हुए हैं।

    Tags: Ayushman Bharat, Ayushman Bharat scheme

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें