दिल्ली में बच्ची से हैवानियत का मामला: बढ़ाई गई सिक्योरिटी, AIIMS पहुंचे राबर्ट वाड्रा को मिलने से रोका
Delhi-Ncr News in Hindi

दिल्ली में बच्ची से हैवानियत का मामला: बढ़ाई गई सिक्योरिटी, AIIMS पहुंचे राबर्ट वाड्रा को मिलने से रोका
रॉबर्ट वाड्रा ने कहा कि जब तक डॉक्टर से मुलाकात नहीं हो जाती इंतजार नीचे ही करूंगा (फाइल तस्वीर)

राबर्ट वाड्रा (Robert Vadra) को आज AIIMS में दिल्ली के पश्चिमी विहार इलाके में हैवानियत का शिकार हुई जिंदगी और मौत से जंग लड़ रही बच्ची से मिलने नहीं दिया गया. वाड्रा का कहना है कि पिछली बार उनके आने के बाद ही बच्ची को मदद मिल पाई थी. वो सिर्फ उसका हाल जानना चाहते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 14, 2020, 7:07 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पिछले दिनों पश्चिम विहार इलाके में बच्ची के साथ हैवानियत और दुष्कर्म (Rape with minor girl) की वारदात सामने आई. एक 12 साल की बच्ची के साथ हैवानियत भरी वारदात की खबर ने दिलों को अंदर तक झकझोर दिया है. बच्ची के साथ इस हैवानियत भरी वारदात ने निर्भया कांड के जख्मों को भी फिर से हरा कर दिया. पीड़ित बच्ची फिलहाल एम्स में भर्ती है और मौत से जंग लड़ रही है. रिपोर्ट के मुताबिक कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi) के पति राबर्ट वाड्रा (Robert Wadra) ने बच्ची के इलाज के लिए पहले भी प्रयास किया था, लेकिन आज जब वो फिर से उसका हाल जानने एम्स (AIIMS) पहुंचे तो उनका आरोप है कि उन्हें बच्ची से मिलने नहीं दिया गया. हालांकि उन्होंने बच्ची व उसके परिवार को हर संभव मदद का आश्वासन दिया.

पता नहीं क्यों रोका जा रहा, जो भी संभव मदद होगी करूंगा : राबर्ट
पश्चिमी विहार इलाके में बच्ची के साथ बहुत ही हैवानियत के साथ दुष्कर्म किया गया है. उसकी हालत बेहद गंभीर है. डॉक्टर बच्ची की जान बचाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं. आज एम्स हॉस्पिटल में रॉबर्ट वाड्रा बच्ची व उसके परिजनों से मिलने के लिए पहुंचे लेकिन उन्हें मिलने नहीं दिया गया. रॉबर्ट वाड्रा का कहना है कि वो आज भी बच्ची का हाल-चाल लेने और उसके इलाज की प्रोग्रेस जानने के लिए एम्स अस्पताल पहुंचे थे लेकिन उन्हें मिलने नहीं दिया गया. उन्होंने कहा कि मैं सिर्फ बच्ची की हालत और उसके परिवार वालों को हिम्मत बंधाने उनके साथ खड़ा होने आया था. उन्होंने कहा कि पिछली बार उनके आने के बाद ही बच्ची को मदद मिल पाई थी. उन्होंने कहा कि कोविड-19 (COVID-19) संकट के समय मुश्किल हालातों में है मुझसे जो भी मदद हो पाएगी मैं करूंगा. उन्होंने कहा मैं बच्ची का इलाज कर रहे डॉक्टर से मिलना चाहता था लेकिन मुझे उनसे भी मिलने नहीं दिया गया. न मिलने देने की वजह पूछने पर उन्होंने कहा कि इसकी मुझे जानकारी नहीं कि ऐसा क्यों किया गया. काफी सिक्योरिटी लगा दी गई है और मुझे ऊपर नहीं जाने दिया गया.

ये भी पढ़ें- कोरोना की वैक्सीन पर बोले राहुल- हर किसी तक कैसे पहुंचे वैक्सीन, सरकार तैयार करे प्लान




बच्ची के परिवार को भी रोका गया!

रॉबर्ट वाड्रा ने यह भी कहा कि मैंने बच्ची के परिवार से मिलने की भी कोशिश की लेकिन बच्चे के परिवार को भी नीचे नहीं आने दिया गया. मुझे नहीं पता कि उन्हें नीचे आने से कौन रोक रहा है. बच्ची के परिवार के लोगों से मेरी फोन पर बात हुई है वह भी घबराए हुए हैं. उनका कहना है कि नहीं पता कि हमें नीचे क्यों नहीं आने दिया जा रहा. उन्होंने कहा कि तब तक नीचे इंतजार करूंगा जब तक डॉक्टर से मुलाकात नहीं हो जाती और परिवार से बात नहीं हो जाएगी. बता दें कि पिछले दिनों दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejariwal) भी बच्ची का हाल-चाल लेने के लिए अस्पताल पहुंचे थे और उन्होंने पीड़ित बच्ची के परिवार की मदद के लिए 10 लाख रुपये की सहायता राशि देने का भी ऐलान किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज