पॉल्यूशन को लेकर एक्‍शन में आई मोदी सरकार, अब ये IIT और NIT जुड़ेंगे मुहिम में

मोदी सरकार देश भर में प्रदूषण के खिलाफ मुहिम और तेज कर दी है. (PTI)

मोदी सरकार देश भर में प्रदूषण के खिलाफ मुहिम और तेज कर दी है. (PTI)

Pollution Delhi-NCR: प्रदूषण को लेकर आईआईटी दिल्ली (IIT Delhi) के साथ गाजियाबाद नगर निगम और नोएडा अथॉरिटी ने करार किया है. वन एवं पर्यावरण मंत्रालय के मुताबिक नेशनल क्लीन एयर प्रोग्राम के तहत अब 132 शहरों के साथ ऐसा ही करार किया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 27, 2021, 9:11 PM IST
  • Share this:
दिल्ली. मोदी सरकार (Modi Government) देश भर में प्रदूषण (Pollution) के खिलाफ मुहिम और तेज कर दी है. खासकर केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय ने दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) के गाजियाबाद (Ghaziabad) और नोएडा (Noida) में अब प्रदूषण को लेकर एक खास रणनीति बनाई है. शुक्रवार को केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) के सामने इसकी शुरुआत हुई. इसमें नोएडा और गाजियाबाद के अधिकारी भी शामिल हुए. प्रदूषण को लेकर आईआईटी दिल्ली (IIT Delhi) के साथ गाजियाबाद नगर निगम और नोएडा अथॉरिटी ने करार किया है. वन एवं पर्यावरण मंत्रालय के मुताबिक नेशनल क्लीन एयर प्रोग्राम के तहत अब 132 शहरों के साथ ऐसा ही करार किया जाएगा.

132 शहरों के लिए बना सरकार का एक्शन प्लान

इस मौके पर वन एवं पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने इसे मिशन मोड में काम करने का एलान किया. जावड़ेकर ने कहा कि प्रदूषण से घिरे सभी शहरों को तकनीकी मदद मुहैया कराने के लिए एक राष्ट्रीय नॉलेज नेटवर्क का भी गठन किया गया है. इसमें अब तक करीब 86 आईआईटी, एनआईटी और विश्वविद्यालयों आदि को जोड़ा गया है, जो अपने आसपास के शहरों को प्रदूषण की समस्या से निजात दिलाने में मदद करेंगे.

Modi Government, pm modi, IIT Delhi, nit, universites, Prakash Javadekar, pollution in delhi-ncr, Delhi Government, Arvind Kejriwal, World Air Quality, Pollution, Uttar Pradesh, Ghaziabad, noida, mcd, Air Quality Commission, मोदी सरकार, प्रदूषण के खिलाफ मुहिम, केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय, दिल्ली-एनसीआर, गाजियाबाद, नोएडा, प्रकाश जावड़ेकर, आईआईटी दिल्ली, गाजियाबाद नगर निगम, नोएडा अथॉरिटी, नेशनल क्लीन एयर प्रोग्राम, 132 शहरों के साथ प्रदूषण को लेकर होगा करारप्रदूषण से घिरे सभी शहरों को तकनीकी मदद मुहैया कराने के लिए एक राष्ट्रीय नॉलेज नेटवर्क का भी गठन किया गया है.
प्रदूषण से घिरे सभी शहरों को तकनीकी मदद मुहैया कराने के लिए एक राष्ट्रीय नॉलेज नेटवर्क का भी गठन किया गया है.

अब ऐसे ठीक होगी आबोहवा

देशभर में खराब हो रही आबोहवा को ठीक करने के लिए केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय ने मिशन के रूप में शुरुआत कर दी है. वन, पर्यावरण और जलवायु परिवर्तन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर के सामने गाजियाबाद नगर निगम और नोएडा विकास प्राधिकरण के अधिकारियों की मौजूदगी में दिल्ली में नगर निगम, गाजियाबाद, उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और आईआईटी दिल्ली के बीच एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए. इसके तहत गाजियाबाद में वायु प्रदूषण को कम करने के लिए 15वें वित्त आयोग से मिली रकम में से 61 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे.

गाजियाबाद और नोएडा के लिए बना ये एक्शन प्लान



गाजियाबद में वायु प्रदूषण को कम करने के लिए पिछले दिनें सिटी एक्शन प्लान, सिटी लेवल मॉनिटरिग कमेटी और एयर क्वालिटी मैनेजमेंट सेल बनाई गई थी. इसमें नगर निगम के साथ ही जीडीए, जल निगम, उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, अग्निशमन विभाग, यातायात पुलिस को भी शामिल किया गया है. अब आईआईटी दिल्ली के साथ करार होने के बाद इस प्लान को और मजबूती मिलेगी.

Modi Government, pm modi, IIT Delhi, nit, universites, Prakash Javadekar, pollution in delhi-ncr, Delhi Government, Arvind Kejriwal, World Air Quality, Pollution, Uttar Pradesh, Ghaziabad, noida, mcd, Air Quality Commission, मोदी सरकार, प्रदूषण के खिलाफ मुहिम, केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय, दिल्ली-एनसीआर, गाजियाबाद, नोएडा, प्रकाश जावड़ेकर, आईआईटी दिल्ली, गाजियाबाद नगर निगम, नोएडा अथॉरिटी, नेशनल क्लीन एयर प्रोग्राम, 132 शहरों के साथ प्रदूषण को लेकर होगा करार
गाजियाबाद और नोएडा में इस नई पहल से यहां की हवाओं में काफी सुधार होगी.


क्या कहा प्रकाश जावडे़कर ने

शुक्रवार को केंद्रीय मंत्री जावडेकर ने कहा कि हर शहर में प्रदूषण के अलग-अलग कारण होते हैं. ऐसे में गाजियाबाद और नोएडा में इस नई पहल से यहां की हवाओं में काफी सुधार होगी. वायु प्रदूषण के खिलाफ तकनीक संस्थानों की मदद लेने का यह फैसला कारगर साबित होगा. प्रदूषण से निपटने के लिए देश भर के सभी शहरों के प्लान अलग-अलग होंगे और उसकी चुनौतियां भी अलग-अलग होंगी. मंत्रालय ने बीते दिनों किसी एक तकनीकी संस्थान से मदद लेने के बजाय दूसरे संस्थानों से भी मदद मुहैया कराने की योजना बनाई है.

ये भी पढ़ें: गर्मियों में पॉवर ओवर लोडिंग से निजात के लिए दिल्ली में शुरू हुआ नया बैटरी स्टोरेज सिस्टम, जानें खासियत

गौरतलब है कि नेशनल क्लीन एयर प्रोग्राम के तहत देश भर में खराब हवा की गुणवत्ता वाले 132 शहरों का चयन किया है. इन शहरों में प्रदूषण के स्तर को 2024 तक 20-30 प्रतिशत तक कम करने का लक्ष्य तय किया गया है. गाजियाबाद और नोएडा भी इन 132 शहरों में है, जिस पर मंत्रालय की नजर है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज