जानिए क्‍यों भारत सरकार ने 45 साल तक के लोगों के कोरोना वैक्‍सीनेशन का किया है फैसला

देश में कोरोना से सबसे ज्‍यादा मौतें 45 साल से ऊपर के लोगों की हुई हैं यही वजह है कि सरकार ने 45 साल तक के लोगों को वैक्‍सीन देने का फैसला किया है.  (सांकेतिक तस्वीर)

देश में कोरोना से सबसे ज्‍यादा मौतें 45 साल से ऊपर के लोगों की हुई हैं यही वजह है कि सरकार ने 45 साल तक के लोगों को वैक्‍सीन देने का फैसला किया है. (सांकेतिक तस्वीर)

Corona Vaccination in India: केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार देश में कोरोना से 88 फीसदी मौतें उन लोगों की हुई हैं जिनकी उम्र संक्रमण के दौरान 45 साल से ऊपर थी. 45 साल से नीचे के लोगों को भी कोरोना ने अपनी चपेट में लिया है लेकिन मौतों का अनुपात काफी कम है.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. भारत में कोरोना एक बार फिर तेजी से पैर पसार रहा है. पिछले 24 घंटों में आए 81 हजार से ज्‍यादा मामलों ने चिंता पैदा कर दी है. हालांकि देशभर में वैक्‍सीनेशन का काम भी तेज कर दिया गया है. हर दिन लाखों लोगों को कोरोना की वैक्‍सीन दी जा रही है लेकिन टीकाकरण के बाद भी लोगों में एक डर है और वह यह है कि सरकार ने 45 साल से ऊपर के लोगों के लिए ही कोरोना वैक्‍सीनेशन की अनुमति क्‍यों दी है. ऐसे में 45 साल से नीचे वालों की कोरोना से सुरक्षा कैसे होगी.

इन सवालों के जवाब के लिए न्‍यूज 18 हिंदी ने इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल साइंसेज (ICMR) के टास्‍क फोर्स ऑपरेशन ग्रुप फॉर कोविड के हेड और डाटा का विश्‍लेषण कर रहे डॉ. एन के अरोड़ा से बात की है. जिन्‍होंने देश में कोरोना को लेकर केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के आंकड़ों और विशेषज्ञों की राय के आधार पर दी गई इस अनुमति को लेकर जानकारी दी.

कोरोना ने 45 से ऊपर के 88 फीसदी लोगों की ली है जान

कोरोना से 88 फीसदी मौतें 45 साल से ऊपर के लोगों की हुई हैं.
कोरोना से 88 फीसदी मौतें 45 साल से ऊपर के लोगों की हुई हैं.

डॉ. अरोड़ा ने बताया कि देशभर से कोरोना के इकठ्ठे किए गए आंकड़े बताते हैं कि भारत में कोरोना की चपेट में सबसे ज्‍यादा 60 साल से ऊपर के लोग आए हैं. वहीं अगर मौतों को देखा जाए तो कोरोना से 88 फीसदी मौतें उन लोगों की हुई हैं जिनकी उम्र संक्रमण के दौरान 45 साल से ऊपर थी. 45 साल से नीचे के लोगों को भी कोरोना ने अपनी चपेट में लिया है लेकिन मौतों का अनुपात काफी कम है.

भारत में उम्र के अनुसार बढ़ा मौतों का अनुपात

आगे पढ़ें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज