Corona Death in Delhi: दिल्ली में एक दिन में हर घंटे जलीं कोरोना से मरने वालों की 29 चिताएं

दिल्ली में 24 घंटे के दौरान कोरोना से मौत के बाद 702 शवों का अंतिम संस्कार किया गया. (सांकेतिक तस्वीर)

दिल्ली में 24 घंटे के दौरान कोरोना से मौत के बाद 702 शवों का अंतिम संस्कार किया गया. (सांकेतिक तस्वीर)

Corona Death in Delhi: दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में 24 घंटों के दौरान कोरोना से मौत के बाद 702 शवों का अंतिम संस्कार किया गया. दक्षिण दिल्ली में सबसे अधिक 329 शवों का अंतिम संस्कार हुआ, जबकि उत्तरी में 310 और पूर्वी दिल्ली में 63 चिताएं जलाई गईं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 29, 2021, 12:58 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश की राजधानी में पिछले 24 घंटे के दौरान कोरोना से मरने वाले लोगों की 700 से अधिक चिताएं विभिन्न श्मशान घाटों में जलाई गई हैं. दिल्ली में बीते दिनों कुल 702 लोगों के शवों का कोरोना नियमों के तहत अंतिम संस्कार किया गया, जिनमें से दक्षिणी दिल्ली के 329 शव थे, जबकि उत्तरी दिल्ली में 310 और पूर्वी दिल्ली में 63 लाशों का अंतिम संस्कार किया गया. कोरोना संक्रमण को लेकर सरकार के स्वास्थ्य विभाग के मौत के आंकड़ों में हालांकि 24 घंटे के दौरान 368 मौतों की जानकारी दी गई है.

राजधानी दिल्ली में कोरोना की वजह से हालात और बिगड़ता नजर आ रहा है. बुधवार को भी दिल्ली में कोरोना के 25986 नए केस सामने आए, जिसके साथ ही संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 99752 पर पहुंच गई. स्वास्थ्य विभाग की मेडिकल बुलेटिन के मुताबिक इस समय राजधानी में 53000 से ज्यादा लोग होम-आइसोलेशन में हैं, जबकि 24 घंटों के दौरान 20000 से अधिक लोगों को विभिन्न अस्पतालों से डिस्चार्ज किया गया है. इस बीच कोरोना से मौत के आंकड़े और दिल्ली के विभिन्न इलाकों में कोरोना से मौत के बाद शवों के अंतिम संस्कार की संख्या में अंतर से हालात और चिंताजनक स्थिति बयां कर रही है.

इस बीच दिल्ली हाईकोर्ट लगातार राजधानी में कोरोना संकट से उपजे हालात पर नजर बनाए हुए है. हाइकोर्ट में दो जजों की बेंच ने सुनवाई के दौरान सरकार को कोरोना से बिगड़े हालात को लेकर कड़ी फटकार लगाई. साथ ही अदालत ने संकट से उबरने के लिए सरकार को सेना की मदद लेने का सुझाव भी दिया. वहीं कोर्ट ने एंबुलेंस की कमी को देखते हुए यह भी कहा कि मृतकों को एंबुलेंस की बजाये डीटीसी की बसों में ले जाने पर विचार करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज