इलाज के लिए केन्या से दिल्ली आए विदेशी नागरिक की हत्या, टैक्सी किराए को लेकर था विवाद

पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.

केन्या (Kenya) से दिल्ली (Delhi) इलाज के लिए आये एक विदेशी नागरिक की पीट-पीट कर हत्या (Murder) कर दी गई है.

  • Share this:
    नवीन निश्चल
    नई दिल्ली. केन्या (Kenya) से दिल्ली (Delhi) इलाज के लिए आये एक विदेशी नागरिक की पीट-पीट कर हत्या (Murder) कर दी गई है. पुलिस (Police) का दावा है कि तीन लोगों ने टैक्सी किराए को लेकर हुए विवाद में महिपालपुर रेड लाइट के पास वारदात को अंजाम दिया. हत्या के बाद उसके शव को एयरपोर्ट के एक होटल के पास सड़क किनारे फेंक, विदेशी का सामान, कागजात व नकदी वाला बैग लूटकर फरार हो गए, लेकिन मोबाइल छोड़ दिया. सूचना पर पहुची पुलिस ने उसी मोबाइल की सहायता से न सिर्फ विदेशी की पहचान कर ली, बल्कि हत्या को अंजाम देनेवाले एक टैक्सी के मालिक और उसके साथियों को भी गिरफ्तार कर लिया.

    गिरफ्तार आरोपियों की पहचान टैक्सी मालिक विरेंद्र सिंह उर्फ मोनू, गोपाल और दिलबाग उर्फ बिल्लू के रूप में की गई है. सभी आरोपी रंगपुरी के रहने वाले हैं. आईजीआई डीसीपी राजीव रंजन के अनुसार यह वारदात बीते सोमवार दोपहर की है. पुलिस को सूचना मिली थी की सेंच्युर होटल के पास सड़क किनारे एक विदेशी बेसुध पड़ा हुआ है. सूचना पर पहुंची पुलिस की टीम ने पाया कि बेसुध विदेशी के शरीर पर चोट के निशान हैं. टीम तुरंत पास के अस्पताल में लेकर पहुंची, जहां डाॅक्टरों ने मृत घोषित कर दिया.

    इस तरह हुई जांच
    जांच में उसके पास से सिर्फ एक मोबाइल फोन मिला, जिसके फर्स्ट डायल पर एक ट्रेवल एजेंट मनोह साहू का फोन नंबर मिला, फोन करने पर एजेंट ने उस शख्स के पासपोर्ट की कॉपी भेजी. उसके आधार पर उसकी पहचान केन्या नागरिक जमा सैयद फराह के रूप में हुई. उसके बाद उनकी बेटी से संपर्क साधा गया. उनकी बेटी जेना ने बताया कि उसके पिता इलाज करवाने के लिए दो सप्ताह पहले सोमालिया होते हुए भारत गए थे. सोमवार को उन्हें भारत से सोमालिया होते वापस अपने देश लौटना था, पर उनके पास सोमालिया का वीजा नहीं होने जे कारण, उन्हें ऑफलोड कर एयरपोर्ट से वापस लौटा दिया गया. वहां से उन्होंने होटल जाने के लिए टैक्सी ली थी, जिसका नंबर मृतक की बेटी ने पुलिस को उपलब्ध कराया.

    अलग अलग टीमों ने की जांच
    इस पर कार्रवाई करते हुए कई अलग अलग टीम ने जांच शुरु की। सबसे पहले एक टीम ने टैक्सी नंबर के आधार पर आरोपियों के बारे में जानकारी जुटा ली. छानबीन में पता चला कि टैक्सी रंगपुरी में रहने वाले विरेंद्र के नाम पर पंजीकृत है. उसके बाद पुलिस ने विरेंद्र को गिरफ्तार कर लिया. पूछताछ में विरेंद्र ने बताया कि मृतक ने एयरपोर्ट से महिपालपुर स्थित होटल जाने के लिए टैक्सी बुक की थी, लेकिन किराया को लेकर महिपाल पुर रेड लाइट पर विवाद हो गया था. उसने गोपाल और बिल्लू के साथ मिलकर उसकी जमकर पिटाई कर दी, जिससे उनकी मौत हो गयी.  इनके बाद तीनों उसके शव को एयरपोर्ट के रास्ते मे सेंच्योर होटल के पास फेंक कर फरार हो गए. साथ मे उसका समान व रुपयो वाला बैग भी ले गए. वीरेंद्र की निशानदेही पर पुलिस ने अन्य दो आरोपियों को भी रंगपुरी से गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने बताया जमा के शव को पोस्टमार्टम करवाने के लिए अस्पताल में रखवा दिया है। परिजनों के आने के बाद शव को पोस्टमार्टम करवाया जाएगा.