लाइव टीवी

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस: आज नहीं हो सका दोषियों की सजा का ऐलान, जानिए वजह
Muzaffarpur News in Hindi

Sushil Pandey | News18 Bihar
Updated: January 28, 2020, 4:07 PM IST
मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस: आज नहीं हो सका दोषियों की सजा का ऐलान, जानिए वजह
साकेत कोर्ट ने मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर को यौन शोषण और सामूहित दुष्कर्म के कई मामलों में दोषी करार दिया था. (ब्रजेश ठाकुर की फाइल फोटो)

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस (Muzaffarpur Shelter Home Case) में साकेत कोर्ट ने 20 जनवरी को फैसला सुनाते हुए एनजीओ संचालक ब्रजेश ठाकुर समेत 19 लोगों को दोषी करार दिया था.

  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली के साकेत कोर्ट में मुजफ्फरपुर शेल्टर होम मामले (Muzaffarpur Shelter Home Case) की 28 जनवरी को सुनवाई नहीं हो सकी. साकेत कोर्ट इस मामले की सुनवाई 4 फरवरी को करेगी. न्यूज एजेंसी एएनआई के अनुसार, दोषियों की सजा का ऐलान करने वाले जज छुट्टी पर चले गये हैं. जिसके कारण इस मामले पर सुनवाई नहीं हो सकी.


टल गया आज होने वाला फैसला
बता दें, बिहार (Bihar) के मुजफ्फरपुर स्थित शेल्टर होम केस में लड़कियों के यौन शोषण के मामले पर दिल्ली (Delhi) की साकेत कोर्ट (Saket Court) आज मंगलवार को सजा सुना सकती थी. लेकिन फिलहाल यह टल गया है. जानकारी के लिये बता दें, इस मामले को सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद दिल्ली ट्रांसफर कर दिया गया था.



साकेत कोर्ट ने 20 जनवरी को फैसला सुनाते हुए एनजीओ संचालक ब्रजेश ठाकुर समेत 19 लोगों को दोषी करार दिया था. कोर्ट ने मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर को यौन शोषण और सामूहित दुष्कर्म के कई मामलों में दोषी करार दिया है. वहीं, मामले में एक अन्य शख्स को आरोपमुक्त भी कर दिया गया है.

ये है दोषियों की लिस्ट-
1. ब्रजेश ठाकुर
2. इंदू कुमारी
3. मीनू देवी
4. मंजू देवी
5. चंदा देवी
6. नेहा कुमारी
7. हेमा मसीह
8. किरण कुमारी
9. रवि कुमार
10. विकास कुमार
11. दिलीप कुमार
12. विजय तिवारी
13. गुड्डू पटेल
14. कृष्णा राम
15. रोजी रानी
16. रामानुज ठाकुर
17. रामाशंकर सिंह
18. डॉ. अश्विनी पिता
19. साइस्ता परवीन

क्या है पूरा मामला
बता दें कि मुजफ्फरपुर शेल्टर होम मामले में 40 नाबालिग बच्चियों और लड़कियों से रेप और यौन शोषण होने की बात सामने आई थी. इस मामले में आरोप है कि जिस शेल्टर होम में बच्चियों के साथ रेप हुआ था, वो ब्रजेश ठाकुर का है. इस मामले में ब्रजेश ठाकुर के अलावा शेल्टर होम के कर्मचारी और बिहार सरकार के समाज कल्याण विभाग के अधिकारी भी आरोपी हैं. मामला सुर्खियों में आने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल फरवरी में इस मामले को बिहार से दिल्ली ट्रांसफर कर दिया था, जिसके बाद साकेत कोर्ट में इसकी सुनवाई चल रही है.

ये भी पढ़ें-

उमर की फोटो देख ममता बोलीं- दुख हुआ, गिरिराज बोले- 370 हटाया था, उस्तरा नहीं

बिहार विधानसभा: LJP ने की 119 सीट पर चुनाव लड़ने की तैयारी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मुजफ्फरपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 27, 2020, 10:17 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर