लाइव टीवी

नागरिकता कानून पर बवाल: जामिया की वीसी नजमा अख्तर बोलीं- छात्रों के साथ इस हुए व्यवहार से दुखी, मैं भी उनके साथ
Delhi-Ncr News in Hindi

News18Hindi
Updated: December 16, 2019, 8:46 AM IST
नागरिकता कानून पर बवाल: जामिया की वीसी नजमा अख्तर बोलीं- छात्रों के साथ इस हुए व्यवहार से दुखी, मैं भी उनके साथ
यूनिवर्सिटी की वाइस चांसलर नजमा अख्तर

जामिया मिलिय यूनिवर्सिटी (Jamia Millia University) की वाइस चांसलर नजमा अख्तर (Najma Akhtar) ने पुलिस की कार्रवाई पर सवाल खड़े किए हैं. कुलपति ने कहा, 'छात्रों के साथ हुए व्यवहार से मैं दुखी हूं. मैं अपने छात्रों को यह बताना चाहती हूं कि इस लड़ाई में वे अकेले नहीं हैं. मैं उनके साथ हूं. मैं यह मामला आगे तक ले जाऊंगी.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 16, 2019, 8:46 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी (Jamia Millia Islamia University) में नागरिकता संशोधन कानून को लेकर शनिवार को हिंसक विरोध प्रदर्शन हुए. इस दौरान पुलिस की कार्रवाई में जामिया के कई छात्रों के घायल होने की खबर है. कई छात्र पुलिस पर बर्बरता पूर्ण कार्रवाई का भी आरोप लगा रहे हैं. इस यूनिवर्सिटी की वाइस चांसलर नजमा अख्तर (Najma Akhtar) ने पुलिस की कार्रवाई पर सवाल खड़े किए हैं.

कुलपति नजमा अख्तर ने एक वीडियो मैसेज जारी कर कहा, 'छात्रों के साथ हुए व्यवहार से मैं दुखी हूं. मैं अपने छात्रों को यह बताना चाहती हूं कि इस लड़ाई में वे अकेले नहीं हैं. मैं उनके साथ हूं. मैं यह मामला आगे तक ले जाऊंगी.'

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि रविवार को स्टूडेंट्स ने विरोध प्रदर्शन नहीं निकाला था, बल्कि आसपास के कॉलोनी के लोग वहां जमा हो गए थे और वो हिसंक प्रदर्शन कर रहे थे. नजमा अख्तर ने कहा, 'जामिया के स्टूडेंट्स ने आज का प्रोटेस्ट नहीं बुलाया था. मुझे कहा गया है कि आसपास की कॉलोनी के लोगों ने जुलेना तक मार्च करने के लिए कहा था. वे सब पुलिस से भिड़ गए और गेट तोड़कर यूनिवर्सिटी के अंदर दाखिल हो गए.'

वाइस चांसलर ने ये भी कहा कि पुलिसवाले लाइब्रेरी में बैठे प्रदर्शनकारी और स्टूडेंट्स के बीच अंतर नहीं कर पाए. उन्होंने कहा, 'हमारे कई स्टाफ और स्टूडेंट्स घायल हो गए. चारों तरफ अफरातफरी का माहौल था. लिहाजा पुलिसवाले परमिशन नहीं ले सके. मैं चाहती हूं कि यूनिवर्सिटी में शांति कायम हो.'

हिंसक प्रदर्शन
दक्षिण पूर्व दिल्ली के पुलिस उपायुक्त चिन्मय बिस्वाल ने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने चार बसों और दो पुलिस वाहनों को आग के हवाले कर दिया. इस दौरान छह पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं. . उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय परिसर के भीतर से पुलिस पर पत्थरबाजी की गई जिसके बाद उन्हें भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े.

रिहा किए गए छात्रइस बीच विरोध प्रदर्शन के दौरान हिरासत में लिए गए 50 छात्रों को पुलिस ने रिहा कर दिया है. विरोध-प्रदर्शन के दौरान आगजनी, तोड़फोड़ के बाद पुलिस ने छात्रों को हिरासत में ले लिया था. जामिया में इस हिंसा के खिलाफ जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिर्वसिटी छात्रों के अलावा जेएनयू और दूसरे संगठनों के लोगों ने पुलिस मुख्यालय पर रात भर धरना दिया. 50 छात्रों को रिहा करने के बाद सोमवार सुबह 4 बजे ये धरना खत्म हुआ.

ये भी पढ़ें: महाराष्ट्र की राजनीति पर आठवले का बड़ा बयान- कहा, भूकंप आने वाला है

नागरिकता कानून पर बवाल के बाद शांति की राह पर असम, दिन का कर्फ्यू हटेगा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 16, 2019, 8:05 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर