Home /News /delhi-ncr /

Sidhu Vs Kejriwal: क्या केजरीवाल से 'बदला' लेकर गेस्ट टीचर्स की मदद कर पाएंगे नवजोत सिंह सिद्धू?

Sidhu Vs Kejriwal: क्या केजरीवाल से 'बदला' लेकर गेस्ट टीचर्स की मदद कर पाएंगे नवजोत सिंह सिद्धू?

दिल्‍ली में नवजोत सिंह सिद्धू ने केजरीवाल के आवास के बाहर धरना दिया.

दिल्‍ली में नवजोत सिंह सिद्धू ने केजरीवाल के आवास के बाहर धरना दिया.

Delhi Guest Teachers News: पंजाब कांग्रेस के चीफ नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) आज दिल्ली के गेस्ट टीचर्स (Guest Teachers) की मांगों को लेकर अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) के घर सामने धरने पर बैठ गए. इस दौरान उन्‍होंने  'ऊंची दुकान फीके पकवान' का नारा भी लगाया. वहीं, इस मामले में ऑल इंडिया गेस्ट टीचर्स एसोसिएशन (AIGTA) नवजोत सिंह सिद्धू का साथ दे रही है. इससे पहले दिल्‍ली के सीएम ने पंजाब में धरना दे रहे अस्थाई शिक्षकोंं के बीच जाकर कांग्रेस सरकार पर निशाना साधा था.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्‍ली. दिल्ली सरकार के गेस्ट शिक्षक स्थायी नौकरी की मांग को लेकर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) के आवास के बाहर धरना दे रहे हैं. इस बीच इस धरने में पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू (Punjab Congress Chief Navjot Singh Sidhu) के शामिल होने से सियासी पारा चढ़ गया है. बता दें कि दिल्ली के सरकारी स्कूलों में पढ़ाने वाले 22000 से ज्यादा अतिथि शिक्षक बीते सात साल से स्थाई होने का इंतजार कर रहे हैं. इस दौरान सिद्धू ने पूछा कि अरविंद केजरीवाल कहां है? दिल्ली में 22 हजार गेस्ट टीचर्स से बंधुआ मजदूरों की तरह काम कराया जा रहा है. जबकि सटीक  नीति बनाकर विकास करना चाहिए, लेकिन केजरीवाल ने मायाजाल बिछा रखा है. मैं इनका रेत का महल तोड़कर जाऊंगा.

    इसके साथ उन्‍होंने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘ दिल्ली का शिक्षा मॉडल एक कॉन्ट्रैक्ट मॉडल है. दिल्ली में 1031 सरकारी स्कूल हैं. जबकि केवल 196 स्कूलों में प्रिंसिपल हैं. वहीं, टीचर्स के 45 फीसदी पद खाली हैं और 22000 गेस्ट टीचर्स की मदद से डेली वेज देकर सरकारी स्कूल चलाए जा रहे हैं. हर 15 दिन में कॉन्ट्रैक्ट रिन्यू किया जाता है.’

    इसके साथ सिद्धू ने कहा, ‘आप’ ने संविदा शिक्षकों को स्थायी कर्मचारियों के समान वेतन देने का वादा किया था, लेकिन गेस्ट टीचरों के होने से स्थिति और खराब हो गई. स्कूल प्रबंधन समितियों (SMC) के माध्यम से तथाकथित ‘आप’ वॉलंटियर्स सरकारी फंड से सालाना 5 लाख कमाते हैं, जो पहले स्कूल के विकास के लिए थे. वहीं, इस मामले में ऑल इंडिया गेस्ट टीचर्स एसोसिएशन (AIGTA) नवजोत सिंह सिद्धू का साथ दे रही है.

    दरअसल मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सात साल पहले सभी अतिथि शिक्षकों को स्थाई करने का वादा किया था. वहींं, बीते दिनों पंजाब में अस्थाई शिक्षकोंं को स्थाई करने को लेकर अरविंद केजरीवाल के बयान के बाद से दिल्ली के गेस्ट शिक्षकों में एक बार फिर से आस जगी है. हाल ही में केजरीवाल ने पंजाब पहुंचकर टीचर्स के साथ धरना दिया था. उन्‍होंने वादा किया था कि पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार बनते ही टीचर्स को परमानेंट कर दिया जाएगा. इसके बाद से आप और कांग्रेस जुबानी जंग बढ़ गई है. यही नहीं, दिल्‍ली के केजरीवाल लगातार पंजाब के सीएम चरनजीत सिंह चन्नी पर उनकी कार्यशैली को लेकर हमला कर रहे हैं.

    मनीष सिसोदिया बनाम परगट सिंह
    इससे पहले पंजाब में शिक्षा को लेकर दिल्ली के डिप्टी सीएम और शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदियाने दिल्ली सरकार के 250 स्कूलों की लिस्ट जारी की थी, ये वह स्कूल हैं, जहां शिक्षा में सुधार आया है. दरअसल पंजाब के शिक्षा मंत्री परगट सिंह (Pargat Singh) ने मनीष सिसोदिया को ये चुनौती दी थी कि दिल्ली के 250 स्कूलों की लिस्ट जारी करें. जिसके जवाब में सिसोदिया ने कहा कि बहुत खुशी की बात है कि शिक्षा चुनावी राजनीति में मुद्दा बनती जा रही है. हमने पंजाब में शिक्षा पर बहस की बात की तो कहा गया कि 10 नहीं 250 स्कूलों की लिस्ट दिल्ली सरकार जारी करें. मैं उन 250 स्कूलों की लिस्ट जारी कर कर दी है जहां शिक्षा में हर स्तर पर सुधार हुआ.

    Tags: CM Arvind Kejriwal, Delhi Government, Delhi news, Delhi news live, Delhi news today, Navjot singh sidhu, Punjab Election 2022

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर