नवनीत कालरा केस में बड़ा अपडेट, जांच 8000 ऑक्‍सीजन कंसंस्ट्रेटर तक पहुंची, जानें क्‍या है हॉन्‍ग कॉन्‍ग कनेक्‍शन?

 दिल्ली में चर्चित खान मार्केट रेस्टोरेंट के मालिक नवनीत कालरा के ख‍िलाफ ईडी ने दर्ज क‍िया केस

दिल्ली में चर्चित खान मार्केट रेस्टोरेंट के मालिक नवनीत कालरा के ख‍िलाफ ईडी ने दर्ज क‍िया केस

Delhi News: केन्द्रीय जांच एजेंसी ईडी (ED)ने ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की जमाखोरी और कालाबाजारी के आरोप में गिरफ्तार दिल्ली में चर्चित खान मार्केट रेस्टोरेंट के मालिक नवनीत कालरा सहित कई अन्य आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है. इस मामले में दिल्ली पुलिस के द्वारा दर्ज एफआईआर को आधार बनाते हुए ईडी अब आगे की तफ्तीश में जुट गई है.

  • Share this:

खान चाचा ऑक्सीजन कंसंट्रेटर केस में जांच एजेंसी ईडी की रडार पर नवनीत कालरा के साथ-साथ उसका एक विदेशी कारोबारी मित्र भी अब आ चुका है. इन दोनों के बीच साहिल नाकड़ा नाम के एक अन्य आरोपी का नाम भी सामने आ रहा है, जिसके खिलाफ ईडी जांच कर रही है. ईडी के जानकारी मिली है कि इन लोगों ने करीब आठ हजार ऑक्सीजन कंसंट्रेटर का आयात किया था.

केन्द्रीय जांच एजेंसी ईडी (ED)ने ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की जमाखोरी और कालाबाजारी के आरोप में गिरफ्तार दिल्ली में चर्चित खान मार्केट रेस्टोरेंट के मालिक नवनीत कालरा सहित कई अन्य आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है. इस मामले में दिल्ली पुलिस के द्वारा दर्ज एफआईआर को आधार बनाते हुए ईडी अब आगे की तफ्तीश में जुट गई है, लेकिन इस मामले की अगर बात करें तो इस मामले में ईडी की तफ्तीश दिल्ली पुलिस से थोड़ा सी अलग है. ईडी मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (PMLA) के तहत मामला दर्ज करके इस मामले की तफ्तीश कर रही है. ईडी द्वारा दर्ज मामले में लंदन में रहने वाले गगन दुग्गल का नाम भी शामिल है. क्योंक‍ि इस मामले में एक अन्य जांच एजेंसी के सूत्रों से ये जानकारी मिली है की गगन दुग्गल और नवनीत कालरा दोनों आपस में कारोबारी मित्र हैं और इन दोनों ने आपस में मिलकर विदेश से करीब आठ हजार ऑक्सीजन कंसंट्रेटर आयात किए थे.

अब 8 हजार ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की होगी जांच

जांच एजेंसी इस बात की भी तफ्तीश कर सकती है क‍ि नवनीत कालरा चाहता तो अपनी कंपनी के मार्फत से भी ये सामान मंगवा सकता था, लेकिन एक अन्य मित्र साहिल नाकड़ा की कंपनी के मार्फत मंगवाने की वजह जांच एजेंसी तफ्तीश कर सकती है . जांच एजेंसी ईडी के रडार पर पांच सौ नहीं बल्कि आठ हजार ऑक्सीजन कंसंट्रेटर के आयात का मसला भी है.
केन्द्रीय जांच एजेंसी ईडी ने जो मामला दर्ज किया है उसमें सबसे महत्वपूर्ण होगा करीब आठ हजार ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की खरीद -फरोख्त का, जिसे नवनीत कालरा और उसके विदेशी मित्र के द्वारा विदेश से आयात करवाया गया था. दिल्ली पुलिस द्वारा दर्ज मामले की अगर बात करें तो करीब 524 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर जब्त किया गए थे, लेकिन अब सवाल उठता है की बाक‍ि ऑक्सीजन कंसंट्रेटर कहां गए? क्या बाकी के ऑक्सीजन कंसंट्रेटर बेच दिए गए तो वो कितना गुणा मुनाफे में बेचे गए?

सूत्रों के मुताबिक हॉन्‍ग कॉन्‍ग से शीप के माध्यम से करीब आठ हजार ऑक्सीजन कंसंट्रेटर का आयात किया गया था , लेकिन कितने उसके क्रय मूल्य और दिल्ली में उसे कितने रुपये में बेचा गया, ये भी काफी मायने रखता है, जिसकी तफ्तीश की जा रही है. दिल्ली स्थित कस्टम विभाग के मुताबिक, नवनीत कालरा द्वारा और क्लासिक कंपनी द्वारा हांगकांग से दिल्ली एयर कार्गो पर ये कनसाइनमेंट उतारा गया था. उसके बाद क्लासिक मेटल नाम की कंपनी ने अपने फार्म में उन आठ हजार ऑक्सीजन कंसंट्रेटर को रखवा दिया. उसके बाद नवनीत कालरा ने उसे बेहतर तरीके से छुपाने के लिए खान मार्केट स्थित चर्चित खान रेस्टोरेंट में छुपा दिया था.

कस्टम विभाग के मुताबिक दिल्ली स्थित एयर कार्गो पर ये सामान 15 अप्रैल से लेकर पांच मई के दौरान विदेश से कई राउंड में मंगवाए. इस मसले पर मैट्रिक्स क्लासिक मेटल कंपनी भी जांच एजेंसी के रडार पर है, जिसके बारे में जांच एजेंसी तफ्तीश कर रही है. इस कंपनी का दफ्तर साउथ दिल्ली के महरौली इलाके में है इसके साथ ही दिल्ली में समयपुर बादली इलाके में भी इस कंपनी का दफ्तर है. इन तमाम मसलों की विस्तार से जांच की जा रही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज