Home /News /delhi-ncr /

बड़े Drugs सिंडिकेट का भंडाफोड़, छापेमारी में 22 लोग गिरफ्तार, ड्रग्स सप्लाई के तरीके जान हैरान थी NCB

बड़े Drugs सिंडिकेट का भंडाफोड़, छापेमारी में 22 लोग गिरफ्तार, ड्रग्स सप्लाई के तरीके जान हैरान थी NCB

NCB ने अंतर्राष्ट्रीय ड्रग्स सिंडिकेट का भंडाफोड़ किया है. इसमें 4 युवतियों समेत 22 लोग गिरफ़्तार किए गए हैं.

NCB ने अंतर्राष्ट्रीय ड्रग्स सिंडिकेट का भंडाफोड़ किया है. इसमें 4 युवतियों समेत 22 लोग गिरफ़्तार किए गए हैं.

International Drugs Syndicate Exposed: नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने एक बड़े ड्रग्स सिंडिकेट का भंडाफोड़ करते हुए देश भर में छापेमारी कर 4 युवतियों सहित 22 आरोपितों को गिरफ्तार किया है. आरोपियों में कई आईटी प्रोफेशनल और संभ्रांत घरों के युवक हैं. हैरानी की बात ये है कि ये सिंडीकेट डार्कनेट के जरिये करोड़ो की कीमत की ड्रग्स देश के तमाम शहरों के हर हिस्से में सप्लाई कर रहा था, जिसके लिए इंडियन पोस्ट और तमाम कूरियर सर्विसेज का इस्तेमाल कर रहे थे.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने एक अंतरराष्ट्रीय ड्रग्स सिंडिकेट (International Drugs syndicate) का भंडाफोड़ करते हुए देशभर में छापेमारी कर युवतियों सहित 22 आरोपियों को गिरफ्तार किया (22 Accused Arrested) है. इनमें आईटी प्रोफेशनल भी हैं. एनसीबी ने सिंडिकेट से जुड़े आरोपितों को मदद करने के आरोप में अपने विभाग के एक सिपाही को भी गिरफ्तार किया है. इस गिरोह के तार कई देशों से जुड़े होने की बात सामने आई है.

DDG NCB ज्ञानेश्वर सिंह (Gyaneshwar Singh) के मुताबिक, नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने ड्रग तस्करी के एक इंटरनेशनल रैकेट का पर्दाफाश किया है, जिसके तार के यूरोपियन देशों तक फैले थे. सिंडिकेट में गिरफ्तार 22 लोगों में चार महिलाएं भी शामिल हैं. हैरानी की बात ये है कि ये सिंडीकेट डार्कनेट के जरिये करोड़ो की कीमत की ड्रग्स देश के तमाम शहरों के हर हिस्से में सप्लाई कर रहा था, जिसके लिए इंडियन पोस्ट और तमाम कूरियर सर्विसेज का इस्तेमाल कर रहे थे.

कोई LSD किंग बनना चाहता था तो कोई नारकोज

विदेशों से डार्कनेट पर खरीदी जाने वाली ड्रग्स की पेमेंट क्रिप्टो करेंसी में की जाती थी और आगे उसे बेचकर पेमेंट यूपीआई मोड में हासिल की जाती थी. इस सिंडिकेट जुड़े तमाम लोग बेहद पढ़े लिखे और प्रोफेशनल हैं. गिरफ्तार किए गए आरोपियों की उम्र 22 से 35 साल के बीच हैं, जिनमे से कुछ आईटी प्रोफेशनल तो कुछ MBA कर किसी बड़ी एमएनसी में काम करने वाले प्रोफेशनल हैं. इनमें से कोई जेल में बैठकर LSD किंग बनना चाहता था तो कोई नारकोज.

मैसेजिंग एप के जरिए किया ट्रैक, कोलकाता में जब्त किए गए पार्सल

दरअसल, नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो को इस सिंडिकेट के बारे में एक खुफिया जानकारी के बाद कुछ सोशल मेसेजिंग एप को ट्रैक करते हुए एनसीबी की कोलकाता यूनिट वहां के एक विदेशी डाकघर पहुंची. जहां 44 पोस्ट पार्सल की पहचान की गयी और पार्सलों को जब्त किया गया. जांच के दौरान एक महिला तरीना भटनागर ट्रेस किया गया और एनसीबी कोलकाता ने उसे गिरफ्तार लिया. इन तमाम पार्सलों में बड़ी तादाद में ड्रग्स मौजूद थी, जोकि देश के अलग-अलग शहरों में सप्लाई की जानी थी.

कूरियर और पोस्ट के जरिए ड्रग्स घरों तक पहुंचाई

फिलहाल सामने आया है कि बहुत ही यूनिक तरीके से ड्रग्स की खेप घरों तक पहुंच रही थी और इसमें बड़े शातिर लोग शामिल हैं. हैरत की बात यह भी है कि देश भर के सैकड़ों छात्र-छात्राओं ने इस सिंडिकेट की मदद से स्टडी बुक के अंदर छिपाकर कोरियर के जरिये ड्रग्स की डिलीवरी अपने घरों तक कराई और उसका सेवन किया. विदेशों से पार्सल की आड़ में ड्रग्स की खेप भारत भेजी जाती थी. बताया जाता है कि सिंडिकेट से जुड़े कुछ आरोपितों ने कुछ युवतियों का यौन शोषण भी किया.

भारी मात्रा में ड्रग्स की बरामदगी

आरोपितों से 7.906 किलो गांजा, 975 ब्लाट्स एलएसडी, 1.55 किलो एमडीएमए, 6 ग्राम हेरोइन, 315.8 ग्राम चरस, 130 ग्राम साइकोट्रोपिक की गोलियां, 16 अल्प्राजोलम टैबलेट, स्पासोमोप्रोक्सीवान के 12 कैप्सूल, 171 ग्राम हशीश, 13 ग्राम साइलोसाइबिन, 1.6 ग्राम कोकीन जब्त किए गए हैं. इसके साथ ही 15.55 लाख रुपये भी बरामद किए गए हैं. इस गिरोह का दो करोड़ का क्रिप्टोकरेंसी के कारोबार का भी पता चला है. क्रिप्टो करेंसी को इसलिए जब्त नहीं किया जा सका, क्योंकि यह विकेंद्रीकृत मुद्रा है.

ड्रग्स माड्यूल दिल्ली, गाजियाबाद, नोएडा और गुरुग्राम में था सक्रिय

एक अन्य जानकारी के आधार पर एनसीबी, दिल्ली ने कई पार्टी ड्रग्स की जब्त की और पंकज गुप्ता की गिरफ्तारी की. मामले में आगे की जांच के बाद गिरोह के मास्टरमाइंड आकाश मेहरा और सिद्धार्थ की गिरफ्तारियां हुईं, दोनों दिल्ली में संपन्न परिवारों से संबंधित थे. यह मॉड्यूल दिल्ली, गाजियाबाद, नोएडा, गुरुग्राम में सक्रिय था और ड्रग्स की खरीद के लिए कृणाल गोलवाला से संबंधित था. नशीले पदार्थों की तस्करी के सिंडिकेट के मास्टरमाइंड मोहम्मद असलम को बाद में बैंगलोर से पकड़ा गया था. परिचय अरोड़ा को पंजाब से पकड़ा गया और गुवाहाटी में मोहम्मद असलम से संबंधित एलएसडी/एक्स्टेसी की एक खेप जब्त की गई.

बच्चों के गलत कामों के बारे में परिवार को पता ही नहीं 

इस मामले में सबसे आश्चर्यजनक तथ्य यह था कि अधिकांश मामलों में परिवार को अपने बच्चों के गलत कामों के बारे में पता नहीं था, हालांकि जसबीर सिंह के मामले में, बाद में उसके परिवार ने मादक पदार्थों की तस्करी और सबूतों को नष्ट करने के लिए उसका साथ दिया पाया गया. एनसीबी, दिल्ली द्वारा दर्ज चार मामलों में ड्रग सिंडिकेट के 22 सक्रिय सदस्यों को गिरफ्तार किया गया और 15.52 लाख नकद के साथ ड्रग्स जब्त की गई.

Tags: Drugs mafia, Drugs trade, NCB

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर