लाइव टीवी

नए पेट्रोल पंप स्कूलों, अस्पतालों, मकानों से कम से कम 50 मीटर की दूरी पर हों: CPCB

भाषा
Updated: January 15, 2020, 10:35 PM IST
नए पेट्रोल पंप स्कूलों, अस्पतालों, मकानों से कम से कम 50 मीटर की दूरी पर हों: CPCB
पेट्रोल पंप के लिए नए दिशा निर्देश जारी

निर्देश में कहा गया कि वीआरएस नहीं लगाने पर राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ((Central Pollution control board) वीआरएस की कीमत के समतुल्य पर्यावरण हर्जाना लगाएगा

  • Share this:
नई दिल्ली. पेट्रोल पंप से पर्यावरण पर प्रतिकूल असर पड़ने को लेकर चिंतित देश के शीर्ष प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (Central Pollution control board) ने तेल विपणन कंपनियों को सुनिश्चित करने को कहा है. सीपीसीबी का निर्देश है कि पेट्रोल पंप स्कूलों, अस्पतालों और रिहाइशी इलाके से कम से कम 50 मीटर की दूरी पर होने चाहिए.

सीपीसीबी जारी किए नए निर्देश
राष्ट्रीय हरित अधिकरण के निर्देशों के आलोक में केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने पिछले सप्ताह नए कुछ दिशा-निर्देश जारी किए. तेल कंपनियों को ऐसे नए पेट्रोल पंपों पर वैपर रिकवरी सिस्टम (वीआरएस) भी लगाने का निर्देश दिया है, जहां प्रति महीने 300 किलो लीटर मोटर स्प्रिट बिकने की संभावना है.

नहीं मानने पर लगेगा जुर्माना

निर्देश में कहा गया कि वीआरएस नहीं लगाने पर राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड वीआरएस की कीमत के समतुल्य पर्यावरण हर्जाना लगाएगा और पालन नहीं करने पर उसी अनुपात में हर्जाना बढ़ता जाएगा.

आईआईटी कानपुर, राष्ट्रीय पर्यावरण अभियांत्रिकी अनुसंधान संस्थान (नीरी), टेरी, पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय और सीपीसीबी के सदस्यों वाली एक विशेषज्ञ समिति ने देश में नए पेट्रोल पंप लगाने के लिए दिशानिर्देश तय किए हैं. एनजीटी के निर्देश पर विशेषज्ञ कमेटी का गठन किया गया था.

निर्देश के मुताबिक, खुदरा विक्रय केंद्र स्कूल, अस्पतालों (10 बेड या अधिक) और रिहाइशी इलाके से 50 मीटर के दायरे में नहीं होने चाहिए.ये भी पढ़ें: 

'चुनावी बॉन्ड से 2018-19 में BJP को 1,450 और कांग्रेस को 383 करोड़ रुपए मिले'

खुरेजी में एंटी CAA प्रदर्शनकारियों का आरोप- पुलिस ने रात 2 बजे तंबू गिराए

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 15, 2020, 10:35 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर