• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • निर्भया के दोषियों की फांसी रद्द करने की मांग, कोर्ट का तिहाड़ जेल और पुलिस को नोटिस

निर्भया के दोषियों की फांसी रद्द करने की मांग, कोर्ट का तिहाड़ जेल और पुलिस को नोटिस

प्रदेश में केवल दो जगह रायपुर और जगदलपुर में ही कोरोना वायरस के संक्रमण की जांच के लिए टेस्ट लैब हैं. सांकेतिक फोटो.

प्रदेश में केवल दो जगह रायपुर और जगदलपुर में ही कोरोना वायरस के संक्रमण की जांच के लिए टेस्ट लैब हैं. सांकेतिक फोटो.

Nirbhaya Case: एक याचिका पर कोर्ट ने तिहाड़ जेल के अधिकारियों और पुलिस को नोटिस जारी की है. इस पर गुरुवार को सुनवाई होगी.

  • Share this:
    नई दिल्ली. निर्भया सामूहिक दुष्कर्म और हत्या मामले (Nirbhaya Gang Rape Case) में मौत की सजा पाए चार दोषियों के वकील ने बुधवार को यहां एक याचिका दायर कर अदालत से उनका मृत्युदंड (Death Sentence) रद्द किये जाने की मांग करते हुए कहा कि उनकी दूसरी दया याचिका अब भी लंबित है. अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश धर्मेंद्र राणा ने इस याचिका पर तिहाड़ जेल के अधिकारियों और पुलिस को नोटिस जारी करते हुए कहा कि वह इस पर गुरुवार को सुनवाई करेंगे. बता दें, दोषी अक्षय सिंह ने मंगलवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के समक्ष दूसरी दया याचिका दायर की थी. उसी दिन एक अन्य दोषी पवन गुप्ता ने भी उच्चतम न्यायालय में सुधारात्मक याचिका दायर की जिसमें उसने अपने किशोर होने से जुड़ी पुनर्विचार याचिका खारिज किये जाने को चुनौती दी थी.

    20 मार्च को होनी है फांसी
    इस मामले के चार दोषियों - मुकेश सिंह (32), पवन गुप्ता (25), विनय शर्मा (26) और अक्षय कुमार सिंह (31) को 20 मार्च की सुबह साढ़े पांच बजे फांसी दिया जाना तय है.

    मुकेश की याचिका पर उच्च न्यायालय ने फैसला सुरक्षित रखा
    निर्भया सामूहिक दुष्कर्म एवं हत्या मामले में दोषी ठहराए गए मुकेश सिंह की उस याचिका पर दिल्ली उच्च न्यायालय ने अपना फैसला सुरक्षित रखा है जिसमें उसने 16 दिसंबर, 2012 को अपराध के समय राष्ट्रीय राजधानी में नहीं होने का दावा किया है.

    निचली अदालत ने खारिज की थी याचिका
    इससे पहले एक निचली अदालत ने उसकी इस याचिका को खारिज कर दिया था, जिसे चुनौती देते हुए मुकेश ने उच्च न्यायालय में यह याचिका दायर की थी. न्यायमूर्ति बृजेश सेठी ने दोषी और दिल्ली सरकार की तरफ से पेश हुए वकीलों की दलीलें सुनने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रखा. निचली अदालत ने मुकेश की याचिका खारिज कर दी थी और उसने ‘बार काउंसिल ऑफ इंडिया’ को उसके वकील को उपयुक्त परामर्श देने को भी कहा था.

    ये भी पढ़ें:

    Covid 19: शाहीन बाग में नवजात-छोटे बच्चों की मौजूदगी पर दर्ज हुई शिकायत

    बचने की कोशिश में जुटे निर्भया के दोषी, कल पटियाला कोर्ट में याचिका पर सुनवाई



     

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज