निर्भया केस: मौत को कब तक टालेंगे दोषी, एक दिन तो फांसी होनी है- चीफ जस्टिस
Delhi-Ncr News in Hindi

निर्भया केस: मौत को कब तक टालेंगे दोषी, एक दिन तो फांसी होनी है- चीफ जस्टिस
मध्य प्रदेश की अदालतों में 18 लाख केस पेंडिंग (Demo Pic)

मुख्य न्यायाधीश की टिप्पणी निर्भया मामले (Nirbhaya Gang Rpe Case)के लिए भी अहम हो जाती है जहां दोषी फांसी को टालने की कोशिश कर रहे है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 23, 2020, 8:58 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. निर्भया गैंगरेप केस (Nirbhaya Gang Rape Case) में मुख्य न्यायाधीश जस्टिस एस ए बोबडे ने कहा है कि मौत कि सजा पाए लोग, सजा को हमेशा के लिए नहीं टाल सकते. फांसी को एक दिन तो अंजाम देना ही है. मुख्य न्यायाधीश की ये टिप्पणी एक मामले की सुनवाई के दौरान आई जब ये बात हुई कि दोषी पाए लोग अक्सर सजा को टालने के लिए कोई ना कोई याचिका दाखिल करते रहते है. मुख्य न्यायाधीश की टिप्पणी निर्भया मामले के लिए भी अहम हो जाती है जहां दोषी फांसी को टालने की कोशिश कर रहे है.

आपको बता दें कि निर्भया रेप केस मे दोषियों की फांसी की सजा को लेकर देश में नया विवाद खड़ा हो गया है. एक तरफ देश की जानी मानी वकील इंदिरा जयसिंह ने निर्भया की मां आशा देवी से सोनिया गांधी की तरह इस मामले में दोषियों को माफ करने की अपील की थी. इस बयान पर निर्भया की मां आशा देवी ने कड़ी नाराजगी जताई थी.

कंगना ने कही थी यह बात
इस दौरान कंगना ने वकील इंदिरा जयसिंह पर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी. उन्होंने कहा था कि इंदिरा जयसिंह जैसी महिलाओं की कोख से बलात्कारी पैदा होते हैं. ऐसी महिलाओं को बलात्कारियों के साथ चार दिन जेल में रखना चाहिए. बता दें कि इंदिरा जयसिंह ने निर्भया की मां आशा देवी से सोनिया गांधी की तरह सभी चारों दोषियों को माफ करने की अपील की थी. मालूम हो कि सोनिया गांधी ने पति राजीव गांधी के हत्‍यारों को माफ कर दिया था.
कुछ दिन पहले ही जारी हुआ है डेथ वारंट


निर्भया मामले में दोषियों को डेथ वारंट जारी करने वाले अतिरिक्त सत्र न्यायधीश सतीश कुमार अरोड़ा का तबादला कर दिया गया है. जज अरोड़ा को एक साल के लिए प्रतिनियुक्ति के आधार पर अतिरिक्त रजिस्ट्रार के रूप में सुप्रीम कोर्ट में स्थानांतरित कर दिया गया है. जज सतीश अरोड़ा ने दिल्ली में साल 2012 में हुए गैंगरेप के चारों दोषियों के खिलाफ कुछ दिन पहले ही डेथ वारंट जारी किया था.


(रिपोर्ट - एहतेशाम)

 

 

ये भी पढ़ें:

'रिंकिया के पापा' का मजाक उड़ाने पर मनोज तिवारी का पलटवार, कही ये बात

मनीष सिसोदिया- दिल्ली चुनाव में CAA नहीं, बिजली-पानी-शिक्षा पर हो बात
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज