लाइव टीवी

निर्भया कांड: दोषियों की याचिका खारिज होने पर बोलीं निर्भया की मां- मेरे लिए बहुत बड़ा दिन

News18Hindi
Updated: January 14, 2020, 5:50 PM IST
निर्भया कांड: दोषियों की याचिका खारिज होने पर बोलीं निर्भया की मां- मेरे लिए बहुत बड़ा दिन
याचिका खारिज होने के बाद मीडिया से बात करती निर्भया की मां.

निर्भया के पिता बद्रीनाथ सिंह (Badrinath Singh) का कहना है कि उनकी इच्छा है कि दोषियों को फांसी पर लटकाते समय वो भी वहां पर मौजूद रहें. उनका कहना है कि उन्होंने अपनी बेटी की एक-एक सांस को टूटते हुए देखा था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 14, 2020, 5:50 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. निर्भया गैंगरेप (Nirbhaya Gang Rape) और मर्डर के दोषियों की क्‍यूरेटिव पिटीशन (Curative Petition) को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) की पांच जजों की पीठ ने मंगलवार को खारिज कर दिया. शीर्ष अदालत के फैसले के बाद निर्भया की मां आशा देवी ने कहा कि आज उनके लिए बहुत बड़ा दिन है. कोर्ट ने डेथ वारंट को निरस्त करने से भी इंकार कर दिया है. उन्‍होंने आगे कहा कि उनके लिए सबसे बड़ा दिन वह होगा जब दोषियों को फांसी पर लटकाया जाएगा. बता दें कि रिव्‍यू पिटीशन खारिज होने के बाद इस जघन्‍य अपराध के दो दोषियों (विनय और मुकेश) ने सुप्रीम कोर्ट में क्‍यूरेटिव याचिका दायर की थी. कोर्ट ने इसे भी खारिज कर दिया. अब निर्भया कांड के दोषियों के लिए राष्‍ट्रपति के पास दया याचिका भेजने का एकमात्र विकल्‍प बचा है.

वहीं, निर्भया के पिता बद्रीनाथ सिंह ने भी सुप्रीम कोर्ट से दोषियों की क्‍यूरेटिव पिटीशन खारिज होने पर खुशी जताई है. बद्रीनाथ सिंह ने कहा कि उन्हें बहुत अच्छा महसूस हो रहा है. बाकी लोग भी अच्छा महसूस कर रहे हैं. अपना देश भी यही चाह रहा है कि जल्दी से जल्दी सभी दोषियों को फांसी पर लटकाया जाए. उन्होंने कहा कि उनकी इच्छा यही है कि दोषियों को फांसी पर लटकाते समय वो भी वहां पर मौजूद रहें. उनका कहना है कि उन्होंने अपनी बेटी की एक-एक सांस को टूटते हुए देखा था.



10 जनवरी को क्यूरेटिव पिटीशन दायर की थीबता दें कि निर्भया के दोषी विनय शर्मा के वकील एपी सिंह ने दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में 9 जनवरी और मुकेश सिंह के वकील वृंदा ग्रोवर ने 10 जनवरी को क्यूरेटिव पिटीशन दायर की थी. पिटीशन में दोनों दोषियों की फांसी की सज़ा को उम्रकैद में बदलने की मांग की गई थी. विनय ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट सहित सभी अदालतों ने मीडिया और नेताओं के दबाव में आकर उन्हें दोषी ठहराया है. गरीब होने के कारण उसे मौत की सजा सुनाई गई है. विनय ने दलील दी कि जेसिका लाल मर्डर केस में दोषी मनु शर्मा ने नृशंस और अकारण हत्या की थी, लेकिन उसे सिर्फ उम्रकैद की सजा दी गई.



निर्भया केस: दोषियों की क्यूरेटिव पिटीशन पर निर्भया की मां ने कही ये बड़ी बात

माघ मेले में आने वाला कोई भक्त भूखा नहीं सोता, 27 सालों से चल रही है परंपरा

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 14, 2020, 2:44 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर