लाइव टीवी

निर्भया गैंग रेप कांड: दोषी विनय शर्मा ने राष्ट्रपति के पास से वापस ली अपनी दया याचिका!

अमित पांडेय | News18Hindi
Updated: December 12, 2019, 7:19 PM IST
निर्भया गैंग रेप कांड: दोषी विनय शर्मा ने राष्ट्रपति के पास से वापस ली अपनी दया याचिका!
निर्भया गैंगरेप मामले में चारों दोषियों की फांसी की सजा सुनाई गई है. (File Photo)

सूत्रों के मुताबिक खबर मिली है कि निर्भया गैंगरेप के एक दोषी विनय शर्मा (Vinay sharma) ने अपनी दया याचिका राष्ट्रपति के पास से वापस ले ली है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 12, 2019, 7:19 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. निर्भया गैंग रेप मामले (nirbhaya gang rape case) में चारों दोषियों में से एक अक्षय कुमार सिंह की रिव्यू पिटीशन पर सुप्रीम कोर्ट में 17 दिसंबर को सुनवाई होगी. वहीं गृह मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक, निर्भया गैंगरेप कांड के चार अभियुक्तों में से एक विनय शर्मा (Vinay Kumar) ने अपनी दया याचिका राष्ट्रपति के पास से वापस ले ली है. जिसके बाद अब गृह मंत्रालय और राष्ट्रपति भवन में उसकी कोई याचिका लंबित नहीं है.

इससे पहले अभियुक्त विनय कुमार की दया याचिका को खारिज कर गृह मंत्रालय ने नियम के तहत राष्ट्रपति के पास बढ़ा दिया था.

तिहाड़ जेल में बंद हैं चारों दोषी
बता दें, निर्भया गैंगरेप मामले में छह दोषियों में एक की जेल में ही मौत हो चुकी है, जबकि एक नाबालिग दोषी सजा काटकर जेल से बाहर आ चुका है. अब चार दोषी अक्षय कुमार सिंह, विनय शर्मा, मुकेश और पवन इस वक्त तिहाड़ जेल में बंद हैं.

तिहाड़ ने नहीं है स्थायी जल्लाद
तिहाड़ जेल में कोई स्थायी जल्लाद नहीं है. ऐसे में मेरठ के पवन जल्लाद ने दोषियों को फांसी देने की बात कही है. पवन जल्लाद ने बताया कि दिल्‍ली सरकार की ओर से मुझे बुलाया गया है. पवन जल्‍लाद ने कहा था कि ऐसे जघन्‍य कांड के गुनहगारों को फांसी ही देनी चाहिए, ताकि दूसरे अपराधी भी इसको देखकर डर जाएं. उनके मन में भी ऐसा अपराध करने से पहले फांसी का खौफ रहे.

16-17 दिसंबर 2012 की रात बस में हुआ था निर्भया से गैंगरेपगौरतलब है कि 16-17 दिसंबर 2012 की रात दक्षिण दिल्ली में एक चलती बस में छह लोगों ने 23 वर्षीय एक छात्रा से गैंगरेप किया था और उसे सड़क पर फेंकने से पहले बुरी तरह से घायल कर दिया था. इस छात्रा को निर्भया नाम दिया गया, जिसने अपनी चोट के चलते सिंगापुर के एक अस्पताल में 29 दिसंबर को दम तोड़ दिया.

ये भी पढ़ें-

Exclusive: क्या है ब्लैक वारंट का फॉर्म नंबर 42, जिसके बाद दी जाती है फांसी

फांसी से पहले बैजू के आखिरी शब्द- साहब! हमार मुंह मत ढको, हम ऐसे ही चल देंगे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 12, 2019, 7:04 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर