लाइव टीवी

निर्भया कांड: कोर्ट में बोले दिल्‍ली सरकार के वकील- दया याचिका के कारण 22 जनवरी को नहीं दी जा सकती दोषियों को फांसी

News18Hindi
Updated: January 15, 2020, 2:19 PM IST
निर्भया कांड: कोर्ट में बोले दिल्‍ली सरकार के वकील- दया याचिका के कारण 22 जनवरी को नहीं दी जा सकती दोषियों को फांसी
दोषी मुकेश की याचिका पर हाई कोर्ट में सुनवाई के दौरान यह दलील दी गई. (फाइल फोटो)

Nirbhaya Case: निर्भया गैंगरेप और मर्डर मामले में दोषी करार मुकेश (Convict Mukesh) की याचिका को दिल्‍ली सरकार के वकील राहुल मेहरा ने प्रीमेच्‍योर करार दिया है. साथ ही कहा कि 22 जनवरी को फांसी पर अमल किसी भी सूरत में संभव नहीं है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 15, 2020, 2:19 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. निर्भया कांड के एक दोषी मुकेश ने निचली अदालत की ओर से जारी डेथ वारंट को रुकवाने के लिए दिल्‍ली हाई कोर्ट में याचिका दायर की है. इस पर बुधवार को हाई कोर्ट में सुनवाई हुई. इस दौरान दिल्‍ली सरकार के वकील राहुल मेहरा ने कहा कि दोषियों को 22 जनवरी को फांसी की सजा नहीं दी जा सकती है. उन्‍होंने दलील दी कि दया याचिका खारिज होने के 14 दिनों बाद फांसी होगी, ऐसे में मुकेश की याचिका प्रीमेच्‍योर (समयपूर्व) है. बता दें कि निचली अदालत ने निर्भया कांड के दोषियों को 22 जनवरी को फांसी देने का फैसला सुनाया है.

सुप्रीम कोर्ट के फैसले का दिया हवाला
मामले में दिल्‍ली सरकार की ओर से हाई कोर्ट में पेश हुए वरिष्‍ठ अधिवक्‍ता राहुल मेहरा ने कहा कि 21 जनवरी को ट्रायल कोर्ट के पास जाया जाएगा. यदि तब तक दया याचिका खारिज होती है तब भी सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार, 14 दिन की मोहलत वाला नया डेथ वारंट जारी करना होगा. ऐसे में किसी भी सूरत में 22 जनवरी को डेथ वारंट पर अमल करना संभव नहीं है, लिहाजा यह याचिका (डेथ वारंट रुकवाने वाली अर्जी) प्रीमेच्‍योर है.

कोर्ट ने भी उठाया सवाल

मुकेश की याचिका पर दिल्‍ली हाई कोर्ट ने भी सवाल उठाया. मामले की सुनवाई कर रहे जस्टिस मनमोहन ने कहा कि (तिहाड़) जेल अधिकारियों की ओर से दोषियों को पहला नोटिस जारी करने इतनी देर क्‍यों हुई? साथ ही तल्‍ख‍ टिप्‍पणी करते हुए जज ने कहा कि यह साफ है कि दोषियों ने कैसे सिस्‍टम का दुरुपयोग किया...ऐसे में तो लोग सिस्‍टम पर भरोसा ही खो देंगे.

दिल्‍ली पुलिस ने भी जताई आपत्ति
कोर्ट में मामले पर सुनवाई के दौरान दिल्‍ली पुलिस ने भी डेथ वारंट रुकवाने संबंधी दोषी मुकेश की याचिका पर आपत्ति जताई. पुलिस की ओर से दलील दिया गया, 'वर्ष 2017 में सुप्रीम कोर्ट दोषियों की अपील खारिज करता है और साल 2020 में दया याचिका दाखिल की जाती है. यह एक बड़ा गैप है. दोषी ने इस मामले में जानबूझकर देरी की. जेल मैनुअल के हिसाब से अपील खारिज होने के बाद दोषी को दया याचिका दाखिल करने के लिए सात दिन का वक्‍त मिलता है.'

ये भी पढ़ें: Nirbhaya Case: निर्भया के दोषी विनय के छलके आंसू, पिता से मिलकर बोला- एक बार गले तो लगा लो

फांसी का दिन पास आने के साथ ही निर्भया के दोषियों की बढ़ रही है चिंता, तिहाड़ रखे हुए है कड़ी नज़र

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 15, 2020, 1:39 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर