• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • निर्भया कांड: अब ब्लैक वारंट का इंतजार, जारी होते ही फांसी कोठी में शिफ्ट किए जाएंगे दोषी

निर्भया कांड: अब ब्लैक वारंट का इंतजार, जारी होते ही फांसी कोठी में शिफ्ट किए जाएंगे दोषी

निर्भया गैंगरेप मामले में चारों दोषियों की फांसी की सजा सुनाई गई है. (File Photo)

निर्भया गैंगरेप मामले में चारों दोषियों की फांसी की सजा सुनाई गई है. (File Photo)

कोर्ट (Court) से ब्लैक वारंट (Black Warrant) जारी होते ही दोषियों को फांसी कोठी में शिफ्ट कर दिया जाएगा और इसके बाद फांसी कोठी में ही चारों को फांसी दे दी जाएगी.

  • Share this:
    नई दिल्ली. निर्भया गैंगरेप (Nirbhaya Case) के चारों दोषियों को फांसी (Hanging) पर लटकाने की तैयारी शुरू हो चुकी है. इस केस के एक दोषी पवन को दिल्ली की तिहाड़ जेल (Tihar Jail) में शिफ्ट किया गया है. इससे पहले पवन मंडोली जेल में बंद था. अब राष्ट्रपति जैसे ही मर्सी खारिज करने का आदेश देते हैं, उसके 14 दिनों के बाद दोषियों को फांसी दे दी जाएगी. इस बीच कोर्ट से ब्लैक वारंट (Black Warrant) यानि डेथ वारंट जारी कराया जाएगा.

    कोर्ट (Court) से ब्लैक वारंट (Black Warrant) जारी होते ही दोषियों को फांसी कोठी में शिफ्ट कर दिया जाएगा और इसके बाद फांसी कोठी में ही चारों को फांसी दे दी जाएगी. बता दें कि विनय शर्मा के अलावा किसी अन्य दोषी ने दया याचिका नहीं लगाई है. उनके वकील अगर अब मर्सी लगाने के लिए कोर्ट को कहेंगे तो कोर्ट पर निर्भर करेगा कि मर्सी के लिए समय दिया जाए या नहीं. लेकिन उम्मीद नहीं है, क्योंकि दोषियों को पहले ही काफी समय दिया जा चुका है.

    15वें दिन फांसी पर लटका दिया जाएगा
    बता दें कि राष्ट्रपति से हरी झंडी मिलने के बाद दोषियों को 15वें दिन फांसी पर लटका दिया जाएगा. सूत्रों कहना है कि सभी दोषियों अक्षय, पवन, मुकेश और विनय शर्मा का डेथ वारंट एक साथ जारी किया जाएगा.  इसलिए रिव्यू पिटीशन डालने का अब अक्षय का कोई फायदा नहीं है.

    चलती बस में 6 दरिंदों ने किया था गैंगरेप
    सात साल पहले 16 दिसंबर 2012 को निर्भया के साथ छह दरिंदों ने चलती बस में गैंगरेप किया था. छह में से एक दोषी नाबालिग था जो अब छूट चुका है. वहीं एक आरोपी रामसिंह ने तिहाड़ में ही आत्महत्या कर ली थी. बाकी बचे चार दोषियों को जल्द ही फांसी के फंदे पर लटकाया जा सकता है.

    ये भी पढ़ें:  अग्निकांड को मजाक न समझते तो बच जाती ज्यादातर वर्करों की जान!

    Delhi Fire: सवालों के घेरे में दिल्ली की इंडस्ट्रियल सेफ्टी पॉलिसी, 43 मौतों का जिम्मेदार कौन?

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज