निर्भया केस: दोषियों की फांसी को लेकर इस NGO ने केंद्र सरकार से रखी अजीबोगरीब मांग
Delhi-Ncr News in Hindi

निर्भया केस: दोषियों की फांसी को लेकर इस NGO ने केंद्र सरकार से रखी अजीबोगरीब मांग
एक एनजीओ (NGO) ने सूचना एवं प्रसारण मंत्री से मांग की है कि चारों दोषियों की फांसी का सीधा प्रसारण किया जाए.

महिला अधिकार कार्यकर्ता और परी की संस्थापक योगिता भयाना (Yogita Bhayana) के मुताबिक निर्भया के दोषियों को फांसी का लाइव प्रसारण से देश में महिला सुरक्षा पर वैश्विक चिंताओं को दूर करने का सही अवसर प्रदान करता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 11, 2020, 3:01 PM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली. निर्भया गैंगरेप केस (Nirbhaya Gang Rape Case) में पटियाला हाउस कोर्ट ने चारों दोषियों का डेथ वॉरंट जारी कर दिया है. जिसके बाद अब उन्हें 22 जनवरी की सुबह सात बजे तिहाड़ जेल में फांसी दी जाएगी. सूत्रों के अनुसार तिहाड़ जेल (Tihar Jail) में दोषियों को फांसी देने की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं. इस बीच एक एनजीओ (NGO) ने सूचना एवं प्रसारण मंत्री से मांग की है कि चारों दोषियों की फांसी का सीधा प्रसारण (LIVE Telecast) किया जाए. महिला अधिकार कार्यकर्ता और परी की संस्थापक योगिता भयाना (Yogita Bhayana) ने इस संबंध में केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को पत्र लिखा है.

'फांसी का लाइव प्रसारण किया जाए'

भयाना ने अपने पत्र में लिखा है कि 'निर्भया' के दोषियों को फांसी का लाइव प्रसारण से देश में महिला सुरक्षा पर वैश्विक चिंताओं को दूर करने का सही अवसर प्रदान करता है. उन्होंने मंत्रालय से निर्भया गैंगरेप के सभी दोषियों को फांसी की सजा के लाइव प्रसारण के लिए स्थानीय और अंतर्राष्ट्रीय मीडिया को अनुमति देने का आग्रह किया है.



महिलाओं ने तिहाड़ जेल के बाहर किया था प्रदर्शन

बता दें कि कुछ दिन पहले 'निर्भया' के चारों दोषियों को फांसी देने की मांग को लेकर कुछ महिलाओं ने हाथों में रस्सी लेकर प्रदर्शन किया था. उस प्रदर्शन की अगुवाई भी सामाजिक कार्यकर्ता योगिता भयाना ने की थी. आंदोलनकारी महिलाओं ने तिहाड़ जेल के गेट नंबर 4 के बाहर जमकर प्रदर्शन किया था. इस दौरान महिलाओं ने हाथों में रस्सी लेकर खुद दोषियों को फांसी देने की मांग की. योगिता भयाना ने कहा था कि वो खुद चारों दोषियों को फांसी देना चाहती हैं, इसके लिए उन्होंने तिहाड़ जेल डीजी को मांग पत्र भी सौंपा था.

Yogita Bhayana, Tihar Jail, letter, rope, Jallad, delhi police, executioner, nirbhaya gang rape case, hyderabad gang rape case, योगिता भयाना, दिल्ली पुलिस, जल्लाद, तिहाड़ जेल, निर्भया गैंगरेप, हैदराबाद में सामूहिक बलात्कार का मामला, हाथों में रस्सी, nirbhaya gang rape case, nirbhaya gangrape case, delhi, patiala house court, verdict on all 4 culprits, death warrant, 22 january, morning 7.00am, tihar jail, निर्भया गैंगरेप, निर्भया गैंगरेप केस, nirbhaya gangrape, दिल्ली गैंगरेप केस, delhi gangrape case, patiala house court, पटियाला हाउस कोर्ट
पहले ही निर्भया के दोषियों को फांसी दिए जाने की मांग को लेकर कुछ महिलाओं ने हाथों में रस्सी लेकर प्रदर्शन किया था.


पत्र में योगिता ने लिखा था, ‘निर्भया के दोषियों को मैं खुद फांसी देना चाहती हूं. जिससे समाज में यह संदेश जाए कि एक महिला भी फांसी दे सकती है. अगर मैं उन दरिंदों को अपने हाथों से सजा देती हूं तो मेरी वेदना (पीड़ा) कम होगी. उस बच्ची को और उसके परिवार को मैंने दर्द में देखा है. यदि यह मौका मुझे मिलता है तो ये 'निर्भया' को सच्ची श्रद्धांजलि होगी. साथ ही महिलाओं की अस्मिता से खेलने वालों के लिए यह एक चेतावनी भी होगी.’

पहली भी NGO ने खुद फांसी देने की मांग की थी

बता दें कि बीते शुक्रवार को दिल्ली की एक अदालत ने एक एनजीओ की उस याचिका को भी खारिज कर दिया था, जिसमें 'निर्भया' के चारों गुनहगारों को अंगदान के लिए मनाने के लिए उनसे मिलने की अनुमति देने का आग्रह किया गया था.

ये भी पढ़ें: 

Nirbhaya Case: तिहाड़ जेल प्रवक्ता बोले- सभी तैयारियां पूरी, बस 22 जनवरी का इंतजार
First published: January 11, 2020, 2:19 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading