लाइव टीवी

निर्भया की मां बोलीं- मुझे सुप्रीम कोर्ट पर भरोसा, 1 फरवरी को ही होगी सभी दोषियों को फांसी
Delhi-Ncr News in Hindi

News18Hindi
Updated: January 29, 2020, 11:09 AM IST
निर्भया की मां बोलीं- मुझे सुप्रीम कोर्ट पर भरोसा, 1 फरवरी को ही होगी सभी दोषियों को फांसी
निर्भया की मां आशा देवी.

निर्भया मामले के दोषियों की फांसी में देरी के सवाल और याचिका पर आशा देवी ने कोर्ट पर पूरी तरह भरोसा जताया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 29, 2020, 11:09 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. निर्भया की मां आशा देवी (Asha Devi) ने कहा कि उन्हें सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) पर पूरा भरोसा है कि सभी दोषियों को 1 फरवरी को फांसी होगी. बता दें, दोषी अक्षय ने क्‍यूरेटिव पीटिशन (Curative Petition) दायर की है. वहीं मुकेश ने राष्ट्रपति द्वारा मर्सी पीटिशन को रिजेक्ट करने को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी. उस पर बुधवार को फैसला आ गया है. मुकेश की याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है. आशा देवी ने कहा कि अन्य दोषियों की याचिका खारिज होने का उन्हें भरोसा है. उन्होंने न्याय मिलने की उम्मीद भी जताई है. उन्होंने कहा कि दोषियों को कानून ने अधिकार दे रखा है, इसका गलत उपयोग हो रहा है, कोर्ट को इसपर बैन लगाना चाहिये.

दोषी फांसी से बचने का कर रहे प्रयास
निर्भया गैंगरेप केस (Nirbhaya Gang Rape Case) के दोषी फांसी से बचने के लिए लगातार प्रयास कर रहे हैं. मुकेश के तिहाड़ जेल में यौन शोषण का आरोप लगाया गया था. जानकारी मिली थी की अक्षय के बाद विनय भी राष्ट्रपति के पास दया याचिका भेजने की तैयारी कर रहा है. दिल्ली में साल 2012 में निर्भया गैंगरेप कांड हुआ था. इस मामले में 4 दोषियों को फांसी की सजा सुनाई गई है.

निर्भया की मां ने जताई थी नाराजगी



निर्भया की मां आशा देवी फांसी में देरी के सवाल पर काफी नाराज भी थी. दोषियों के वकीलों द्वारा फांसी रोकने के प्रयास पर सरकार को भी खरी-खोटी सुना चुकी है.



मुकेश सिंह की याचिका पर आज आएगा फैसला
निर्भया मामले में एक और दोषी मुकेश सिंह ने तिहाड़ जेल में यौन शोषण के आरोप लगाया था. साथ ही उसने राष्ट्रपति के दया याचिका खारिज करने को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती भी दी है. इसपर आज गुरूवार को सुप्रीम कोर्ट फैसला दे सकता है. वैसे सरकार ने मुकेश की याचिका का काफी विरोध किया था. सरकार के पक्ष का कहना था कि यह याचिका स्वीकारने लायक नहीं है. उनका पक्ष था कि राष्ट्रपति के दोषी को माफी देने के अधिकार की समीक्षा का कोर्ट के पास सीमित अधिकार है.

सिर्फ कोर्ट जाने का बचा है विकल्प
आपको बता दें कि दोषी मुकेश सिंह की पुनर्विचार याचिका, क्यूरेटिव पिटीशन और दया याचिका खारिज हो चुकी है. राष्ट्रपति के द्वारा दया याचिका खारिज करने के बाद मुकेश के पास हाईकोर्ट या सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने का विकल्प था, जिसपर आज फैसला आ सकता है.

ये भी पढ़ें- जेडीयू नेता ने प्रशांत किशोर को बताया कोरोना वायरस

दिग्विजय सिंह ने अनुराग ठाकुर से पूछे तीखे सवाल, EC को लेकर कही यह बात

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 29, 2020, 10:17 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading