दोषियों को फांसी के बाद निर्भया की मां बोली- देर से ही सही, मगर इंसाफ मिला

तिहाड़ जेल में निर्भया के चारों दोषियों को फांसी दी गई.
तिहाड़ जेल में निर्भया के चारों दोषियों को फांसी दी गई.

आशा देवी ने कहा कि मुझे अपनी बेटी पर गर्व है, मगर मुझे दुःख रहेगा कि मैं उसे बचा नहीं सकी, लेकिन उसे इंसाफ मिला जिसके बाद एक मां का धर्म पूरा हुआ.

  • News18India
  • Last Updated: March 20, 2020, 6:44 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. निर्भया गैंगरेप और हत्या मामले के दोषी मुकेश सिंह (32), पवन गुप्ता (25), विनय शर्मा (26) और अक्षय कुमार सिंह (31) को आज सुबह 5 बजकर 30 मिनट पर फांसी दे दी गई. दिल्ली के तिहाड़ जेल में पवन जल्लाद ने कोर्ट द्वारा तय किए गए समय पर चारों दोषियों को फांसी के फंदे पर लटका दिया. इसके कुछ ही देर बाद तिहाड़ जेल के डीजी संदीप गोयल ने चारों दोषियों को फांसी दिए जाने की पुष्टि कर दी.

तिहाड़ जेल में फांसी के बाद निर्भया की मां आशा देवी ने मीडिया के साथ बातचीत करते हुए कहा कि इस मामले में देर हुई. कोर्ट में लंबी लड़ाई चली. लेकिन देर से ही सही, आज मेरी बेटी को इंसाफ मिल गया. उन्होंने कहा कि ज्यूडिशियरी ने आज साबित किया कि महिलाओं के साथ अगर अत्याचार होगा, तो उसकी सजा मिलेगी.


आख़िरकार चारों दोषियों को एक साथ फांसी दी गयी. आज का दिन देश की बच्चियों के नाम. निर्भया की मां ने कहा कि कानून की कमियां भी सामने आयीं, लेकिन चारों को फांसी हुई जिससे देश भर का भरोसा न्याय प्रणाली पर कायम रहेगा. उन्होंने कहा कि आगे भी हम इस लड़ाई को जारी रखेंगे कि ऐसा किसी भी बच्ची के साथ होता है तो उसे न्याय मिले. आशा देवी ने कहा कि गर्व से कहूंगी कि मुझे अपनी बेटी पर गर्व है, मुझे दुःख रहेगा कि मैं उसे बचा नहीं सकी,लेकिन उसे इंसाफ मिला जिसके बाद एक मां का धर्म पूरा हुआ. ये फांसी दूसरों के लिए सबक है.



इधर फांसी के बाद निर्भया के पिता बद्रीनाथ ने भी देश की न्यायिक व्यवस्था को धन्यवाद दिया. मीडिया के साथ बातचीत करते हुए उन्होंने पूरे 7 साल की कानूनी लड़ाई के बारे में अपना अनुभव साझा किया. उन्होंने कहा कि हम लोग कोशिश करेंगे कि अपने वकीलों से मिलकर इन 7 सालों में हमने जो क़ानून में कमियां पाई हैं, उसकी लिस्ट बनाकर सरकार को सौंपेंगे, ताकि कानून की इन कमियों को दूर किया जाए.

ये भी पढ़ें -

Nirbhaya Live: 8 साल बाद निर्भया को मिला न्याय, चारों दोषियों को दी गई फांसी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज