• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • निर्भया की मां का फिर छलका दर्द, बोलीं- 32 साल में किसी बलात्कारी को फांसी होते नहीं देखा

निर्भया की मां का फिर छलका दर्द, बोलीं- 32 साल में किसी बलात्कारी को फांसी होते नहीं देखा

निर्भया की मां ने कहा कि उन्होंने 32 साल से किसी रेपिस्‍ट को फांसी होते नहीं देखा (फाइल फोटो)

निर्भया की मां ने कहा कि उन्होंने 32 साल से किसी रेपिस्‍ट को फांसी होते नहीं देखा (फाइल फोटो)

निर्भया (Nirbhaya) की मां आशा देवी ने कहा कि मुझे दिल्ली में रहते हुए 32 साल हो गए हैं. मैंने आज तक किसी रेपिस्ट (Rapist) को फांसी होते नहीं देखा.

  • Share this:
    नई दिल्ली. राजधानी दिल्ली स्थित पटियाला हाउस कोर्ट (Patiala House Court) आज निर्भया (Nirbhaya Gang Rape Case) के माता-पिता और सरकार की याचिका पर फिर से सुनवाई करेगा. इसे लकेर निर्भया की मां आशा देवी (Asha Devi) ने आज दोषियों के खिलाफ डेथ वॉरंट जारी हो जाने की उम्मीद जताई. उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा, 'हमें उम्मीद है कि आज डेथ वॉरंट जारी हो जाएगा.'

    दरअसल सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने भी अपने ऑर्डर में कहा है कि पटियाला हाउस कोर्ट नया डेथ वारंट जारी कर सकती है. बता दें कि कोर्ट में दोषियों के खिलाफ नए सिरे से डेथ वारंट जारी करने की मांग की गई है. दोषी पवन को अदालत की ओर से मुहैया करवाए गए नए वकील पहली बार मामले में पवन का पक्ष रखेंगे.

    न्याय पर पूरा भरोसा
    निर्भया की मां आशा देवी ने कहा, 'आज देखते हैं कि दोषियों के वकील एपी सिंह क्या खेल खेलते हैं, क्योंकि न्याय में देरी सिर्फ उनकी वजह से हो रही है. अब सिर्फ पवन बचा है. हमें न्याय पर पूरा भरोसा है कि दोषियों को नया डेथ वारंट आज जारी हो जाएगा.

    न्यया नहीं मिलना ही अपराधों को बढ़ावा देता है
    इसके साथ ही उन्होंने कहा, 'समाज में बच्चियां सेफ नहीं है. कहीं न कहीं न्याय न मिल पाना ही ऐसे अपराधों को हौसला देता है. ये पूरा समाज भी देख रहा है, क्योंकि इसके फैसले हमें ही नहीं, बल्कि पूरे देश को इंतजार है. दोषियों को फांसी तो सुना दी जाती है, लेकिन होती नहीं. मुझे दिल्ली में 32 साल हो गए मैंने आज तक किसी रेपिस्ट को फांसी होते नहीं देखा.'



    दोषी पवन के लिए ये वकील पहली बार करेंगे जिरह
    बता दें कि सोमवार को पटियाला हाउस कोर्ट में अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश धर्मेन्द्र राणा तिहाड़ और निर्भया के माता-पिता के परिजनों की याचिका पर सुनवाई करेंगे. पिछली सुनवाई में कोर्ट ने दोषी पवन के केस को पेश करने के लिए सरकारी वकील रवि काजी को नियुक्त किया. इससे पहले पिछले वकील एपी सिंह अदालत में पवन की पैरवी कर रहे थे. सोमवार को रवि काजी पहली बार दोषी पवन की ओर से अपनी दलील पेश करेंगे और यह भी बताएंगे कि क्या पवन की ओर से क्यूरेटिव या दया याचिका दायर की गई या नहीं. वहीं दूसरी ओर निर्भया के पक्ष के वकील दोषियों की फांसी के लिए नया डेथ वारंट जारी करने की मांग करेंगे.

    तीन दोषियों के खत्म हो चुके हैं सारे विकल्प
    बता दें कि फिलहाल निर्भया के तीन दोषियों विनय, मुकेश और अक्षय के सभी कानूनी विकल्प खत्म हो चुके हैं, लेकिन चौथे आरोपी पवन के पास अभी भी क्यूरेटिव और दया याचिका दायर करने का मौका है. हालांकि पांच फरवरी को हाईकोर्ट ने दोषियों के सभी कानूनी विकल्पों के उपयोग का अल्टीमेटम दिया गया था, लेकिन इस अवधि के बीच दोषी पवन की ओर से कोई याचिका दायर नहीं की.



    कोर्ट जारी कर सकती है तीसरा डेथ वारंट
    दरअसल पिछली सुनवाई में दोषी पवन के पिता ने किसी भी कानूनी उपचार के प्रयोग करने से इनकार किया था. अगर पवन की ओर से वाकई क्यूरेटिव या दया याचिका दायर नहीं की जाती तो अदालत नियमों के तहत चारों दोषियों को फांसी देने के लिए नया डेथ वारंट जारी कर सकती है. यह नियम है कि अगर किसी दोषी की कोई याचिका लंबित नहीं है तो डेथ वारंट जारी किया जा सकता है. हालांकि दोषी पवन के पास अभी भी क्यूरेटिव और दया याचिका दायर करने के विकल्प मौजूद हैं.

    ये भी पढ़ें: AAP के निशाने पर थे मनोज तिवारी, सोशल मीडिया स्‍ट्रैटजी बनाने के लिए इस शख्‍स ने देख डाली उनकी सभी फिल्‍में

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज