हाथरस पीड़ि‍ता की मां से मिलेंगे, हमारी लीगल टीम करेगी मदद: निर्भया की मां

निर्भया की मां आशा देवी बोलीं हाथरस पीड़ि‍ता को इंसाफ दिलाने में परिवार की करेंगी मदद.     फाइल फोटो...
निर्भया की मां आशा देवी बोलीं हाथरस पीड़ि‍ता को इंसाफ दिलाने में परिवार की करेंगी मदद. फाइल फोटो...

आशा देवी (Nirbhaya's mother Asha Devi) कहती हैं कि वे हाथरस पीड़ि‍ता (Hathras gangrape victim) की मां और परिवार से बात करेंगी. जल्‍द ही उनसे मिलने जाएंगी. इतना ही नहीं निर्भया मामले को लड़ने और जीतने वाली उनके वकीलों की टीम हाथरस पीड़ि‍ता के परिजनों को जितनी जरूरत होगी उतना लीगल सपोर्ट (Legal Support) देगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 3, 2020, 6:38 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. हाथरस गैंगरेप पीड़ि‍ता की मौत से पूरे देश में उबाल है. इतना ही नहीं दिल्‍ली के महिपालपुर में बस में हुई हैवानियत में अपनी बेटी को खोने वाली निर्भया की मां आशा देवी भी अब इस मामले पर आगे आ गई हैं. वे लगातार हाथरस कांड को अंजाम देने वाले दोषियों के लिए फांसी की मांग कर रहीं हैं.

न्‍यूज18 हिन्‍दी से बातचीत में आशा देवी ने बताया कि मीडिया के माध्‍यम से उन्‍हें हाथरस में हुई इस हैवानियत की खबर मिली थी. इसके बाद पुलिस की लापरवाही, जबरन दाह संस्‍कार करने की खबर ने उन्‍हें बेचैन कर दिया. वे कहती हैं कि इस मामले में पुलिस ने शुरू से ही लापरवाही दिखाई है. पहले मामला दर्ज करने में हीलाहवाली की और फिर हल्‍की धाराओं में आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया. ऐसा नहीं होना चाहिए था. हाथरस की बिटिया को न्‍याय दिलाने के साथ ही पुलिस के इस रवैये की भी जांच होनी चाहिए और दोषी पुलिसकर्मियों पर भी कार्रवाई होनी चाहिए.

आशा देवी कहती हैं कि वे हाथरस पीड़ि‍ता की मां और परिवार से बात करेंगी. जल्‍द ही उनसे मिलने जाएंगी. इतना ही नहीं निर्भया मामले को लड़ने और जीतने वाली उनके वकीलों की टीम हाथरस पीड़ि‍ता के परिजनों को जितनी जरूरत होगी उतना लीगल सपोर्ट देगी. इसके लिए वे लगातार अपने एनजीओ निर्भया ज्‍योति ट्रस्‍ट में काम करने वाले लोगों से बात कर रही हैं. साथ ही हाथरस पीड़ि‍ता के माता-पिता से भी मांग कर रही हैं कि इस लड़ाई को लड़ें सभी उनके साथ हैं.



इसके साथ ही वे केंद्र सरकार और राज्‍य सरकार से मांग करती हैं कि इस बेटी के मामले को भी फास्‍ट ट्रैक कोर्ट में भेजा जाए. ताकि न्‍याय मिलने में देरी न हो. आशा देवी कहती हैं कि निर्भया के मामले को भी फास्‍ट ट्रैक में भेजा गया था उसके बावजूद न्‍याय मिलते मिलते सात साल लग गए थे, लेकिन इतनी देर इस बेटी को न्‍याय मिलने में न लगे.

इंसाफ की लड़ाई के लिए रखनी होगी हिम्‍मत

आगे पढ़ें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज