फांसी के बाद निर्भया के पिता ने कहा-मेरी मुस्कान से समझिए मेरे हृदय में क्या चल रहा है
Delhi-Ncr News in Hindi

फांसी के बाद निर्भया के पिता ने कहा-मेरी मुस्कान से समझिए मेरे हृदय में क्या चल रहा है
निर्भया के पिता ने कहा कि मैं इस फैसले से खुश हूं.

2012 में दिल्ली में हुई गैंगरेप की पीड़िता के पिता बद्रीनाथ सिंह ने मीडिया से मुखातिब होते हुए अपनी उंगलियों से विक्टरी को प्रतीकात्मक रूप से दर्शाते हुए कहा कि आज हमारी जीत हुई और यह जीत मीडिया, समाज और दिल्ली पुलिस के चलते मिली है

  • Share this:
नई दिल्ली. निर्भया (Nirbhaya) के गुनहगारों को शुक्रवार की सुबह 5:30 बजे फांसी दे दी गई. निर्भया गैंगरेप के चारों दोषियों को फांसी ​पर लटकाए जाने के बाद से सोशल मीडिया पर प्रतिक्रियाओं का दौर शुरू हो गया है. 2012 में दिल्ली में हुई गैंगरेप की पीड़िता के पिता बद्रीनाथ सिंह (Badrinath Singh) ने मीडिया से मुखातिब होते हुए अपनी उंगलियों से विक्टरी चिन्ह प्रतीकात्मक रूप से दर्शाते हुए कहा कि आज हमारी जीत हुई और यह जीत मीडिया, समाज और दिल्ली पुलिस के चलते मिली है.

उन्होंने कहा कि मेरी मुस्कराहट से आप समझ सकते हैं कि मेरे हृदय में क्या चल रहा है.
यह एक ऐतिहासिक दिन है: स्वाति मालीवालमहिला आयोग दिल्ली की चेयरपर्सन ने कहा कि यह एक ऐतिहासिक दिन है. निर्भया को न्याय मिलने में सात साल लग गए. निर्भया की आत्मा को आज शांति मिली होगी. इस फांसी के बाद देश में बलात्कारियों को यह संदेश मिला होगा कि अगर वे बलात्कार जैसा कृत्य करेंगे तो उन्हें फांसी पर लटका दिया जाएगा. बलात्कारी सजा पाने से नहीं बच सकते: रेखा शर्माराष्ट्रीय महिला आयोग की चेयरपर्सन रेखा शर्मा ने ट्वीट करके कहा कि आज एक मिसाल पेश की गई है. हालांकि यह थोड़ा पहले ही हो जाना चाहिए था. अब लोग यह जान गए हैं कि वे सजा की तारीख आगे बढ़ा सकते हैं लेकिन सजा पाने से बच नहीं सकते हैं.

ये भी पढ़ें: निर्भया के चारों गुनहगारों की ऐसे बीती रात, जेल स्टाफ ने नहीं ली पूरी रात झप



Nirbhaya Case: फांसी घर में जमीन पर लेट गए दोषी, पढ़ें आखिरी लम्हों की कहानी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज