रमजान के बीच 30 अप्रैल तक बंद रहेगी निजामुद्दीन औलिया की दरगाह, जानें- क्यों लिया गया ये फैसला?

सांकेतिक फोटो.  (Pic- AP)

सांकेतिक फोटो. (Pic- AP)

रमजान के महीने के बीच में ही दरगाह निजामुद्दीन औलिया (Dargah Nizamuddin Auliya) को पूरी तरह से बंद कर दिया गया है. आगामी 30 अप्रैल तक दरगाह पूरी तरह से बंद रहेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 17, 2021, 2:15 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. रमजान के महीने के बीच में ही दरगाह निजामुद्दीन औलिया (Dargah Nizamuddin Auliya) को पूरी तरह से बंद कर दिया गया है. आगामी 30 अप्रैल तक दरगाह पूरी तरह से बंद रहेगी. दिल्ली (Delhi) में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ने के कारण दरगाह प्रबंधन द्वारा ये निर्णय लिया गया है. प्रबंधन का कहना है कि तमाम लोगों की सेफ्टी और जान की हिफाजत को देखते हुए दरगाह को बंद करने पर चर्चा की गई. इसके बाद सबकी सहमति पर इसे बंद रखने का फैसला लिया गया.

बता दें कि दिल्ली में कोरोना ने कोहराम मचा दिया है. 24 घंटे में रिकॉर्ड 19 हजार 486 नए मामले सामने आए हैं. 141 लोगों की संक्रमण से मौत हो गई है. दिल्ली में मरने वालों का ये अब तक का सबसे बड़ा आंकड़ा है. थोड़ी राहत ये रही कि 12 हजार 649 लोग कोरोना से ठीक होकर घर लौट गए. अब दिल्ली में एक्टिव केस 61 हजार हो गए हैं. अब तक दिल्ली में 8 लाख 03 हजार 623 केस हो गए हैं. वहीं अब तक कुल 7 लाख 30 हजार 825 लोग कोरोना से रिकवर हो चुके हैं. राजधानी में अब तक संक्रमण से 11 हजार 793 लोगों की मौत हो चुकी है.

बढ़ी मृतकों की संख्या

दिल्ली में गुरुवार को 16 हजार 699 नए मामले सामने आए थे. जबकि 112 लोगों की कोरोना संक्रमण से मौत हो गई है. एक ही दिन में 3 हजार से ज्यादा नए मामले और 29 मृतकों की संख्या बढ़ गई है. इस बीच आज से दिल्ली में वीकेंड कर्फ्यू लगा दिया गया है और 8661 कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं. अब दिल्ली में पॉजीटिविटी रेट बढ़कर 25.22% हो गया है. बता दें कि वीकेंड कर्फ्यू शुक्रवार रात 10 बजे से शुरू होगा और सोमवार सुबह 6 बजे तक रहेगा. दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल का कहना है कि मौजूदा समय में 15,048 बेड कोविड मरीजों के लिए उपलब्ध हैं. इनमें से 5,000 से ज्यादा बेड अभी खाली पड़े हुए हैं. मरीजों की बढ़ती संख्या के मद्देनजर बेड की संख्या पर्याप्त करने पर काम किया जा रहा है. इसमें केंद्र सरकार के अस्पतालों मेें बेड की संख्या में बढ़ोतरी करना बेहद जरूरी हो गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज