लाइव टीवी

मरकज मामलाः हाथों को चूमने से भी फैला कोरोना, अब हजार से ज्यादा लोगों को कराना पड़ रहा टेस्ट
Delhi-Ncr News in Hindi

News18India
Updated: March 31, 2020, 4:16 PM IST
मरकज मामलाः हाथों को चूमने से भी फैला कोरोना, अब हजार से ज्यादा लोगों को कराना पड़ रहा टेस्ट
देश के 20 राज्‍यों में तबलीगी जमात में शामिल हुए लोगों में कोरोना वायरस टेस्‍ट पॉजिटिव पाया जा चुका है.

कोरोना वायरस (coronavirus) का संक्रमण फैलने के बीच दिल्ली में एक से 15 मार्च तक तबलीगी जमात में हिस्सा लेने देश-विदेशों से करीब 1830 लोग निजामुद्दीन इलाके में स्थित मरकज में आए थे.

  • News18India
  • Last Updated: March 31, 2020, 4:16 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राजधानी दिल्ली में निजामुद्दीन इलाके में विदेशों से आए कई लोगों के संपर्क में रहने वाले स्थानीय लोगों में भी कोरोना वायरस (coronavirus) का संक्रमण फैलने का संदेह है. लिहाजा करीब एक हजार से ज्यादा लोगों का मेडिकल टेस्ट करवाया जा रहा है. इस मामले की जानकारी मिलने के बाद इलाके में लोगों के अंदर अब डर समाता जा रहा है. यहां तक कि पूरे देश में निजामुद्दीन इलाके की चर्चा शुरू हो गई है. क्योंकि लोगों को लगने लगा है कि निजामुद्दीन आने वाले कुछ लोगों की वजह से दिल्ली समेत कई राज्यों में लोग परेशानियों में फंसने जा रहे हैं. लेकिन यहां कोरोना का संक्रमण कैसे फैला, आइए इसे विस्तार से समझते हैं.

2 हजार से ज्यादा लोग जुटे
राजधानी दिल्ली में एक मार्च से 15 मार्च तक तबलीग-ए-जमात में हिस्सा लेने देश-विदेशों से करीब 1830 लोगों की जमात निजामुद्दीन इलाके में स्थित मरकज में आई थी. इसमें स्थानीय लोगों को भी जोड़ा जाए तो यह संख्या करीब दो हजार तक पहुंच जाती है. दिल्ली या आसपास इलाके से करीब साढ़े 500 लोग यहां इकट्ठा हुए थे. इस कार्यक्रम में श्रीलंका, बांग्लादेश, इंग्लैंड, इंडोनेशिया, ईरान समेत 16 देशों के लोग आए थे. वहीं देश के कई राज्यों से लोग भी आए थे. यहां आने के बाद लोग निजामुद्दीन थाने के ठीक पीछे बने तबलीग-ए-जमात के मुख्यालय में ठहरे थे.

हाथों को चूमना बना वजह



निजामुद्दीन में रहने वाले कई लोगों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि तबलीगी जमात में शामिल होने जब लोग यहां आए थे, उससे पहले ही कई देशों में कोरोना वायरस का संक्रमण फैल चुका था. इन लोगों के यहां रहने के दौरान एक बात बेहद सामान्य थी कि जब कभी ये लोग आपस में मिलते थे, तो दुआ-सलाम के बाद एक-दूसरे का हाथ भी चूमते थे और गले मिलते थे. यही लापरवाही भारी पड़ी और इस वजह से संक्रमण और तेजी से फैलता चला गया. लेकिन जब तक इन लोगों को संक्रमण की जानकारी मिलती, तब तक मामला काफी आगे बढ़ गया. लिहाजा मामले की गंभीरता को देखते हुए निजामुद्दीन इलाके में रहने वाले करीब एक हजार से ज्यादा लोगों का मेडिकल जांच करवाने का फैसला लिया गया.



कहां-कहां से आए थे लोग
दिल्ली पुलिस ने निजामु्द्दीन इलाके में तमाम जांच पड़ताल के बाद जो जानकारी जुटाई है, वह इस प्रकार है.

अंतरराष्ट्रीय लोग - 281
असम - 216
महाराष्ट्र - 109
तमिलनाडु - 501
उत्तर प्रदेश - 156
मध्य प्रदेश - 107
अंडमान - 21
बिहार - 86
हरियाणा - 22
हिमाचल - 15
हैदराबाद - 55
कर्नाटक - 45
केरल - 15
ओडिशा - 15
पंजाब - 9
रांची - 46
राजस्थान - 19
उत्तराखंड - 34
पश्चिम बंगाल - 73

लापरवाही पर पुलिस की कार्रवाई
निजामुद्दीन इलाके में तबलीगी जमात वाले कई बड़े मौलानाओं के खिलाफ दिल्ली पुलिस मामला दर्ज करने के बाद औपचारिक तौर पर कार्रवाई करने वाली है. क्योंकि कई मौलानाओं को खिलाफ आरोप है कि उन लोगों की लापरवाही की वजह से इस इलाके में रहने वाले और दिल्ली समेत कई राज्यों के लोगों की जान आफत में फंसी हुई है. आरोप यह भी है कि विदेशी लोगों को इस इलाके में रखने के बाद भी सावधानी नहीं बरती गई. अब इस मामले में सीएम अरविंद केजरीवाल ने भी दिल्ली पुलिस को साफ निर्देश दिया है कि आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए.

ये भी पढ़ें :-

निजामुद्दीन मामला: नजीब जंग बोले- लोगों को निकालना दिल्‍ली पुलिस की जिम्मेदारी

मरकज़ में एक या दो नहीं पूरे 16 देशों के नागरिक थे मौजूद, यहां देखें लिस्ट
First published: March 31, 2020, 3:46 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading