होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /मेडिकल छात्रों की आत्‍महत्‍याओं के पीछे क्‍या रैगिंग है वजह? सभी कॉलेजों से मांगी गई ये जानकारी

मेडिकल छात्रों की आत्‍महत्‍याओं के पीछे क्‍या रैगिंग है वजह? सभी कॉलेजों से मांगी गई ये जानकारी

मेडिकल छात्रों की आत्‍महत्‍या को लेकर एंटी रैगिंग कमेटी ने सभी कॉलेजों को पत्र भेजा है.

मेडिकल छात्रों की आत्‍महत्‍या को लेकर एंटी रैगिंग कमेटी ने सभी कॉलेजों को पत्र भेजा है.

एंटी रैगिंग कमेटी ने इस बैठक के देशभर के मेडिकल कॉलेज और इंस्‍टीट्यूट के प्राचार्यों को पत्र भेजकर उनसे पिछले पांच सालो ...अधिक पढ़ें

नई दिल्‍ली. पिछले कुछ दिनों में देश में मेडिकल छात्रों (Medical Students) की आत्‍महत्‍याओं (Suicides) के कई मामले सामने आये थे. छात्रों की आत्‍महत्‍याओं के पीछे की स्‍पष्‍ट वजह न सामने आने के चलते कई चीजों को लेकर संदेह जताया जा रहा था. हालांकि आत्‍महत्‍या के पीछे रैगिंग (Ragging) को एक कारण मानते हुए राष्‍ट्रीय आयुर्विज्ञान आयोग (National medical commission) की ओर से एंटी रैगिंग कमेटी (Anti Ragging Committee) का गठन किया गया था. जिसने अब देशभर के सभी मेडिकल कॉलेजों को पत्र भेजकर कई तरह की जानकारियां मांगी हैं.

यूजीएमईबी की अध्‍यक्ष डॉ. अरुणा वी वानिकर की अध्‍यक्षता में बनाई गई इस एंटी रैगिंग कमेटी की पहली मीटिंग हाल ही में 27 सितंबर को हुई है. इस दौरान मेडिकल छात्राओं और उनके अभिभावकों की ओर से मिलने वाली रैगिंग की शिकायतों पर बातचीत की गई साथ ही देश में मेडिकल छात्रों में बढ़ती आत्‍महत्‍या की प्रवृत्ति को लेकर गहरी चिंता जताई गई. हालांकि सभी आत्‍महत्‍याओं या आत्‍महत्‍या की प्रवृत्ति रैगिंग से जुड़ी हुई नहीं है. हालांकि बहुत से मामलों में रैगिंग भी आत्‍महत्‍या की वजह है.

लिहाजा कमेटी ने इस बैठक के देशभर के मेडिकल कॉलेज और इंस्‍टीट्यूट के प्राचार्यों को पत्र भेजकर उनसे पिछले पांच सालों की जानकारी मांगी गई है. सभी मेडिकल कॉलेजों से विभागों के अनुसार पिछले पांच साल में आत्‍महत्‍या करने वाले छात्रों की संख्‍या की जानकारी देने के लिए कहा है. इसके अलावा इन सालों में कितने छात्रों ने कॉलेज या इंस्‍टीट्यूट छोड़ा है इसका भी डेटा देने के लिए कहा गया है. कॉलेजों से छात्रों के काम के घंटे, छात्रों को दिए जाने वाले वीकली ऑफ को लेकर भी जानकारी शेयर करने के लिए कहा गया है. आयोग ने 7 अक्‍टूबर 2022 तक ये डाटा देने के लिए कहा है.

Tags: Doctor, Medical Students, Suicide, Suicide attempt

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें