दिल्ली HC का आदेश- कोरोना के गंभीर लक्षण वाले मरीजों को भर्ती के लिए RTPCR रिपोर्ट जरूरी नहीं

दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा कि कोरोना मरीज की हालत अगर गंभीर है तो उसे भर्ती के लिए RT-PCR जांच रिपोर्ट की जरूरत नहीं.

दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा कि कोरोना मरीज की हालत अगर गंभीर है तो उसे भर्ती के लिए RT-PCR जांच रिपोर्ट की जरूरत नहीं.

कोर्ट ने दिल्ली सरकार को कहा है कि अब बिना RT-PCR पॉजिटिव रिपोर्ट के ही कोरोना के गंभीर मरीजों को अस्पताल में भर्ती किया जाए. इसके अलावा अदालत ने दिल्ली में ऑक्सीजन संकट और कालाबाजारी की खबरों पर नाराजगी जताई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 26, 2021, 4:15 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राजधानी में कोरोना संक्रमित मरीजों (Corona infected patients) की बढ़ती संख्या के मद्देनजर दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) ने आज बड़ा आदेश दिया है. कोर्ट ने दिल्ली सरकार (Delhi Government) को कहा है कि अब बिना RT-PCR पॉजिटिव रिपोर्ट के ही कोरोना के गंभीर मरीजों को अस्पताल में भर्ती किया जाए. इसके अलावा अदालत ने दिल्ली में ऑक्सीजन संकट (Oxygen crisis) और कालाबाजारी (black marketing) की खबरों पर नाराजगी जताई है. कोर्ट ने दिल्ली के ऑक्सीजन सप्लायरों को तलब किया है.

केंद्र सरकार के जरिये ही होगी ऑक्सीजन सप्लाई

कोर्ट ने दिल्ली सरकार को सज्जन जिंदल जैसे उद्योगपतियों से बात कर ऑक्सीजन ट्रांसपोर्ट के लिए केवल टैंकर की व्यवस्था करने की इजाजत दी. हालांकि कोर्ट ने यह भी कहा कि ऑक्सीजन की सप्लाई केन्द्र सरकार के जरिये ही होगी. केंद्र का कहना था कि राज्य सरकार अगर खुद बिजनेसमैन से बात कर, बिना केंद्र को विश्वास में लिए ऑक्सीजन हासिल करेगी तो ये भ्रम की स्थिति ही पैदा करेगा. कोर्ट ने Inox कंपनी द्वारा उठाए गए मुद्दे को रिकॉर्ड पर लिया. कंपनी ने शिकायत की है कि उसके टैंकर को राजस्थान सरकार ने रोका था.

टैंकर रोकने जैसी हरकतों के लिए जवाबदेही तय हो
कोर्ट में सुनवाई के दौरान एसजी तुषार मेहता ने कहा कि अगर इस तरह की हरकत हुई तो केन्द्र कड़ी कार्रवाई करेगा. कोर्ट ने इस पर राजस्थान द्वारा ऑक्सीजन की सप्लाई के लिए जा रहे टैंकर को रोके जाने पर आपत्ति जाहिर की. कहा -केंद्र सरकार ने तुरंत टैंकर रिलीज किए जाने की बात कही है, पर इस तरह की हरकतों के लिए कोई जवाबदेही तय होनी चाहिए.

कोर्ट ने कहा - शाम 5 बजे स्टेकहोल्डर से मीटिंग करे दिल्ली सरकार

दिल्ली में कोरोना मरीजों के लिए ऑक्सीजन संकट के मामले की सुनवाई के दौरान कोर्ट ने कहा कि हम राजस्थान सरकार से भी ये उम्मीद करते हैं कि वह इस कोर्ट और केंद्र सरकार के दिशा निर्देशों का पालन करे. ऑक्सीजन की सप्लाई करने जा रहे टैंकरों को रोकना सैकड़ों लोगों की जिंदगी को खतरे में डालने जैसा होगा. अगर किसी राज्य को ऑक्सीजन की जरूरत है, तो केंद्र से बात करे. दिल्ली हाईकोर्ट ने आदेश दिया कि दिल्ली सरकार के चीफ सेकेट्री ऑक्सीजन संकट से निपटने के लिए कोर्ट के लिखित आदेश का इंतजार किए बिना आज शाम 5 बजे ही तमाम स्टेकहोल्डर्स के साथ मीटिंग करें. मीटिंग का नतीजा क्या रहा, यह कोर्ट के सामने रखें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज