Home /News /delhi-ncr /

noida blogger reached kedarnath with their pet dog named nawab tyagi

कुत्ते को केदारनाथ ले जाना ब्लॉगर को पड़ा महंगा, पुलिस में शिकायत; ट्रोलर्स को दिया जवाब

कुत्ते संग केदारनाथ धाम की यात्रा करना पड़ा ब्लॉगर को पड़ा महंगा, शिकायत दर्ज (फोटो क्रेडिट Instagram/@huskyindia0)

कुत्ते संग केदारनाथ धाम की यात्रा करना पड़ा ब्लॉगर को पड़ा महंगा, शिकायत दर्ज (फोटो क्रेडिट Instagram/@huskyindia0)

अपने कुत्ते के साथ केदारनाथ धाम यात्रा पर गए नोएडा के ब्लॉगर विकास त्यागी के खिलाफ मंदिर समिति की ओर पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई है. मंदिर समिति ने दावा किया है कि ब्लॉगर की हरकतों से धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंची है. जबकि नवाब त्यागी नामक कुत्ते के मालिक विकास त्यागी ने कहा कि वह पिछले चार सालों से मंदिरों में जा रहे हैं. उन्होंने नवाब को केदारनाथ मंदिर में ले जाने के अपने फैसले का बचाव किया और कहा कि कुत्ते भगवान के अवतार हैं.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली: केदारनाथ मंदिर में अपने कुत्ते के साथ बेरोकटोक घूम रहे और भगवान नंदी की मूर्ति पर उसे स्पर्श करवाकर पूजा कर रहे नोएडा के ब्लॉगर की मुसीबत बढ़ गई है. अपने कुत्ते के साथ केदारनाथ धाम यात्रा पर गए नोएडा के ब्लॉगर विकास त्यागी के खिलाफ मंदिर समिति की ओर पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई है. मंदिर समिति ने दावा किया है कि ब्लॉगर की हरकतों से धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंची है. जबकि नवाब त्यागी नामक कुत्ते के मालिक विकास त्यागी ने कहा कि वह पिछले चार सालों से मंदिरों में जा रहे हैं. उन्होंने नवाब को केदारनाथ मंदिर में ले जाने के अपने फैसले का बचाव किया और कहा कि कुत्ते भगवान के अवतार हैं.

दरअसल, मंदिर समिति के अध्यक्ष अजेंद्र अजय के निर्देश पर मुख्य कार्याधिकारी ने केदारनाथ पुलिस चौकी को दी अपनी शिकायत में कहा कि धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने वाले एक वीडियो में एक व्यक्ति अपने कुत्ते को बेरोकटोक मंदिर के बाह्य परिसर में घुमाता और मंदिर के बाहर भगवान नंदी की मूर्ति पर उसे ले जा कर स्पर्श करवाकर पूजा अर्चना करता दिख रहा है. शिकायत में आरोपी विकास के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने और अवांछित गतिविधियों पर रोक लगाने की मांग की गई है ताकि ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति नहीं हो.

हालांकि, केदरानाथ धाम में कुत्ता नवाब त्यागी को साथ लेकर जाने की वजह से मुसीबत का सामना कर रहे विकास को लेकर सोशल मीडिया पर खूब चर्चा है. सोशल मीडिया पर एक तबका जहां इस घटना का समर्थन कर रहा है, वहीं दूसरा पक्ष इसके विरोध में है. पुलिस में शिकायत पर विकास त्यागी ने कहा कि नवाब (कुत्ते का नाम) मेरा बच्चा है. ह्यूमन बेबी को सब साथ लेकर जाते हैं. हम लोग इसीलिए साथ लेकर गये. मुझे 33 की उम्र में जितने केदारनाथ में प्यार मिला, उतना कहीं नहीं मिला. वहां पर हमें किसी ने नहीं पूछा कि इसे क्यो लेकर आये हो. मै पशु प्रेमी हूं. हमारी तरह ही इनके अंदर जान बसती है. अगर हम इन्हें प्यार करते हैं तो ये उससे ज्यादा हमें प्यार करते हैं.

उन्होंने आगे कहा कि नवाब पूरा इंडिया कवर कर चुका है. वह लेह लद्दाख जा चुका है. सारे मंदिरों को देख चुका है. 1 साल पहले हम बद्रीनाथ गये थे. जितने भी लोग ट्रोल कर रहे हैं, उनके कमेंट सेक्शन मे जाकर देखिये, उसमें 90 परसेंट लोग प्यार कर रहे हैं नवाब को. भगवान ट्रोल करने वालो को सदबुदी दे. हमारी फिलिंग समझो, हम उसे क्यों लेकर गये. लोग बोल रहे हैं कि रील बनाने चले गये तो उनको मैं बता दूं कि 25-30 हजार करके दर्शन करने गये थे, ना कि रील बनाने. .

विकास त्यागी ने कहा कि नवाब साढ़े चार साल पहले हमारी लाइफ मे आया था. मैं इसे हैदराबाद से लेकर आया था तो एयरपोर्ट पर लोगों ने इसकी फोटो ली और इसके नाम पर बहुत से रिकार्ड है. यह पैराग्लाइडिंग करने वाला है पहला कुत्ता है. इतना ही नहीं, यह पहला कुत्ता है, जिसके नाम के साथ सरनेम लगता है. नवाब त्यागी के नाम पर 35 कंट्री के अंदर 750 आर्टिकल हैं. रही बात आस्था की तो मैं भगवान में बहुत ज्यादा विश्वास करता हूं. हमारी आस्था भगवान मे इतनी ज्यादा कि मेरे साथ-साथ यह कुत्ता भी शाकाहारी है.

उन्होंने आगे कहा कि उसे वहां इतना प्यार मिला, नवाब को इतनी इज्जत मिली कि पूजारी और श्रदालु नवाब को देखकर हाथ जोड़ रहे थे कि साक्षात भेरो आ गये हैं. जब हम वहां गये तो हमें किसी ने नहीं रोका न तो पुलिस ने रोका न ही मंदिर परिसर के पंडितों ने. मंदिर परिसर के पंडित जी ने तो खुश होकर नवाब को वेलकम किया. अगर कोई रोकता तो हम वहां नहीं जाते, हम किसी से लडाई करके नहीं गए थे. अगर हम पर कार्रवाई हो रही है तो फिर मंदिर और पंडितों के खिलाफ भी कार्रवाई होनी चाहिए.

Tags: Delhi-NCR News, Kedarnath

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर