अपना शहर चुनें

States

परीक्षा में नकल के सहारे सरकारी नौकरी दिलवाने वाले गिरोह का पर्दाफाश, दिल्‍ली पुलिस के दो कांस्टेबल समेत 9 गिरफ्तार

नोएडा पुलिस ने एग्जाम में फर्जीवाड़ा कर नौकरी दिलाने वाले गैंग का पर्दाफाश किया.
नोएडा पुलिस ने एग्जाम में फर्जीवाड़ा कर नौकरी दिलाने वाले गैंग का पर्दाफाश किया.

अपर आयुक्त ने बताया कि ये लोग सरकारी नौकरी दिलवाने के नाम पर 10 लाख रुपये से लेकर 20 लाख रुपये तक की रकम आवेदकों से लेते हैं. पकड़े गए बदमाशों से 2,10,000 नगद, कई फोन, लग्जरी कारें, दिल्ली पुलिस की दो वर्दी और फर्जी दस्तावेज आदि बरामद हुए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 28, 2020, 9:44 PM IST
  • Share this:
नोएडा. थाना सेक्टर 58 पुलिस ने दिल्ली पुलिस और अन्य सरकारी विभागों में नौकरी के लिए आवेदन करने वाले लोगों की जगह दूसरे को परीक्षा में बिठाकर लाखों रुपए की ठगी करने वाले गैंग का पर्दाफाश किया है. अपर पुलिस आयुक्त (कानून व्यवस्था) लव कुमार कुमार के मुताबिक, पुलिस को सूचना मिली थी कि सेक्टर 62 स्थित आईओन डिजिटल जोन में शनिवार को दिल्ली पुलिस की भर्ती की ऑनलाइन परीक्षा में तीन परीक्षार्थियों की जगह उनका आई कार्ड लेकर कोई और व्यक्ति परीक्षा दे रहे हैं.

एग्जाम सेंटर के बाहर खड़े छह अन्य भी गिरफ्तार

लव कुमार ने बताया कि सूचना के आधार पर पुलिस ने अर्पित, दिनेश चौधरी और अमन को हिरासत में लेकर पूछताछ की. इन अभियुक्तों ने बताया कि इस काम में लगे उनके इस छह अन्य साथी दिनेश जोगी, दिल्ली पुलिस के कांस्टेबल रविंद्र कुमार, दिल्ली पुलिस के कांस्टेबल मनजीत सिंह, शिव कुमार, मुकेश और सोनू परीक्षा केंद्र के बाहर खड़े हैं. तब पुलिस ने उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया. अपर पुलिस आयुक्त के मुताबिक, गिरफ्तार बदमाशों ने पूछताछ के दौरान बताया कि दिनेश जोगी और इनकम टैक्स में इंस्पेक्टर उसके मामा रवि कुमार और गृह मंत्रालय में तैनात उनके साथी अरविंद उर्फ नैन मिलकर गैंग चलाते हैं. उन्होंने बताया कि वर्तमान में रक्षा मंत्रालय में एएसओ के पद पर अपनी जगह किसी और को बैठाकर दिनेश ने नौकरी पाई है और आने वाले कुछ दिनों में उनकी ज्वाइनिंग होने वाली है.



फर्जीवाड़ा कर 100 लोगों को दिलवा चुके नौकरी
इन अभियुक्तों ने बताया कि दिल्ली पुलिस के दो कांस्टेबल रविंद्र और मनजीत का काम इस गैंग को प्रश्नपत्र हल करने वाला उपलब्ध कराना है. उन्होंने बताया कि इस गैंग का मुख्य सरगना दिनेश जोगी है. अब तक ये लोग 100 लोगों को धोखाधड़ी से अन्य विभागों में नौकरी दिलवा चुके हैं.

सरकारी नौकरी के लिए वसूलते हैं 10 से 20 लाख रुपये

अपर आयुक्त ने बताया कि ये लोग सरकारी नौकरी दिलवाने के नाम पर 10 लाख रुपये से लेकर 20 लाख रुपये तक की रकम आवेदकों से लेते हैं. उन्होंने बताया कि पकड़े गए बदमाशों से 2,10,000 रुपए नगद, कई मोबाइल फोन, तीन लग्जरी कारें, दिल्ली पुलिस की दो वर्दी और फर्जी दस्तावेज आदि बरामद हुए हैं. उन्होंने बताया कि इस गैंग के सरगना आयकर विभाग में तैनात इंस्पेक्टर रवि कुमार और गृह मंत्रालय में तैनात अरविंद फरार हैं. पुलिस उनकी तलाश कर रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज