Assembly Banner 2021

दिल्ली में नाइट कर्फ्यू से नोएडा वालों की बढ़ी परेशानी, 28 सोसायटी कंटेनमेंट जोन घोषित

दिल्ली में नाइट कर्फ्यू लगने से नोएडा के लोगों की परेशानी बढ़ गई है.

दिल्ली में नाइट कर्फ्यू लगने से नोएडा के लोगों की परेशानी बढ़ गई है.

नोएडा (Noida) से रोज दिल्‍ली आने-जाने वाले लोग नाइट कर्फ्यू (Night curfew) के फैसले से परेशान दिख रहे हैं. उनका कहना है कि इससे उनके काम-काज में रुकावट आएगी, अभी ई-पास पर भी स्थिति साफ नहीं हुई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 8, 2021, 12:15 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राजधानी दिल्ली (Delhi) में नाइट कर्फ्यू लगने का असर पूरे एनसीआर में दिखने लगा है. नोएडा में खासकर इसका असर देखा जा सकता है. नोएडा वालों की इस नाइट कर्फ्यू ने परेशानी बढ़ा दी है. नोएडा से हजारों लोग रोज दिल्ली में नौकरी करने और बिजनेस के लिए आते हैं. ऐसे में उनके देर रात वापस जाने के लिए य़ा फिर दिल्ली आने के लिए ई-पास की जरूरत होगी. वहीं ई-पास को लेकर स्थिति अभी साफ नहीं है. ऐसे में लोगों के मन में इस बात को लेकर एक तरह की आशंका है.

ऐसे में देखना यह है कि जिला प्रशासन ई-पास को लेकर क्या कदम उठाता है. क्या नोएडा से पास जारी किए जाएंगे या उन्हें दिल्ली प्रशासन की ओर से जारी पास पर यात्रा करनी होगी. इसको लेकर लोगों के मन में एक तरह की आशंका बनी हुई है. इसके साथ ही लोग परेशान हैं.

नोएडा सेक्टर- 34 अरावली अपार्टमेंट में रहने वाले एक व्यक्ति ने बताया कि उनकी मां का इलाज जयपुर में चल रहा है. उनका कहना है कि वो अक्सर नोएडा से जयपुर आते-जाते हैं. परिवार के लोग ही उन्हें स्टेशन पर छोड़ने जाते हैं. अब दिल्ली में नाइट कर्फ्यू लगने के बाद बिना ई-पास के वापसी में समस्या होगी. अभी ई-पास को लेकर भी कन्फ्यूजन है.



दिल्ली के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल में अब OPD की सुविधाओं में हुई कटौती, जानें क्या है कारण
नोएडा की सोसायटियों में फैला कोरोना संक्रमण

जिले में कोरोना वायरस एक बार फिर तेजी से फैल रहा है. ग्रेटर नोएडा वेस्ट की सोसायटियों में कोरोना संक्रमित ज्यादा मिल रहे हैं. इसकी वजह से जिले में हॉटस्पॉट और कंटेनमेंट जोन की संख्या बढ़कर 28 हो गई है. नए संक्रमित मिलने के बाद एसडीएम ने सोमवार को इन जगहों को कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया है. ज्यादातर नए कंटेनमेंट जोन बिसरख ब्लॉक के ही अंतर्गत आते हैं.

जिले में कोरोना के जहां सबसे अधिक केस हैं उनमें गौर सिटी और महागुन माइवुड्स शामिल हैं. जिले के अन्य भागों में भी कोरोना तेजी से पैर पसारने लगा है. ग्रेनो वेस्ट के गौर सिटी में कई लोग कोरोना की चपेट में हैं. दादरी के जलपुरा गांव में भी कोरोना के मरीज मिले हैं.

ग्रामीण क्षेत्रों के लिए भी दिशा-निर्देश जारी

नोएडा में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए जिला प्रशासन ने दिशा-निर्देश जारी किए हैं. अगर अब किसी गांव में कोरोना का केस मिलता है तो उसके आसपास के इलाके को कंटेनमेंट जोन बना दिया जाएगा. एक से अधिक केस होने पर आसपास का इलाका बफर जोन घोषित कर दिया जाएगा. बता दें कि सीएम योगी आदित्यनाथ साफ कर चुके हैं कि यूपी में एक घर में कोरोना का मरीज मिलने पर पड़ोस के 20 घरों को सील कर दिया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज