Assembly Banner 2021

दिल्ली हिंसा: हत्या के 53 में से 38 मामलों में चार्जशीट दाखिल, कोर्ट में 17 की चल रही सुनवाई

बीते साल फरवरी में देश की राजधानी दिल्‍ली में हिंसा भड़की थी. फाइल फोटो.

बीते साल फरवरी में देश की राजधानी दिल्‍ली में हिंसा भड़की थी. फाइल फोटो.

Delhi News: सीएए-एनआरसी (CAA-NRC) के खिलाफ फरवरी 2020 में पूर्वोत्तर दिल्ली में हिंसा भड़क गई थी. इसमें कई लोग मारे गए थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 25, 2021, 8:41 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. फरवरी 2020 में पूर्वोत्तर दिल्ली में भड़की हिंसा (Delhi Violence) के दोषियों को सजा दिलवाने के लिए दिल्‍ली पुलिस (Delhi Police) ने कानूनी प्रक्रिया तेज कर दी है. हिंसा के करीब एक साल बाद हत्या के 53 मामलों में से दिल्ली पुलिस ने 38 में चार्जशीट दायर की है. इनमें से 17 मामलों अदालत में सुनवाई भी शुरू हो गई है. बता दें कि सीसीए और एनआरसी के विरोध ने हिंसा का रूप ले लिया था. इसमें 500 से अधिक लोग घायल हो गए और करोड़ों की संपत्ति का नुकसान हुआ था. इस हिंसा के बाद कई प्रभावितों को लंबे समय तक अस्थाई ठिकानों में शरण लेनी पड़ी थी.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, हिंसा के बाद दिल्ली में कुल 755 मामले दर्ज किए गए, जिनमें से 400 को अंजाम तक पहुंचाया जा चुका है. हिंसा के मामले में अब तक 1,753 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. इनमें से 933 मुस्लिम और 820 हिंदू हैं. 53 हत्याओं सहित 62 मामलों की जांच क्राइम ब्रांच की तीन टीमों कर रही हैं. एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक इनमें से 46 मामलों को सुलझा लिया गया है. एसआईटी ने 390 लोगों को गिरफ्तार किया है.

रोजगार की समस्या
दिल्ली के विशेष सीपीसी क्राइम ब्रांच प्रवीर रंजन ने मीडिया से चर्चा में कहा कि हत्या के 38 मामलों में चार्जशीट दायर की गई है और आरोपों पर बहस 17 में शुरू हुई है. बता दें कि हिंसा के बाद ज्यादातर मामलों में परिवारों के मुखिया और कमाने वाले लोगों की मौत हो गई. इससे परिवार के सामने रोजी रोटी की समस्या आ गई है. बता दें कि हिंसा के बाद सरकार ने वयस्क की मौत पर 10 लाख और नाबालिग की मौत पर 5 लाख रुपये मुआवजा दिया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज