North MCD ने दिल्ली सरकार से मांगे 460.40 करोड़, कहा- एक मिनट में जारी कर देंगे स्टॉफ की सैलरी

निगम की ओर से दिल्ली सरकार से 460.40 करोड़ रुपये की किस्त जारी करने की मांग की गई है.

निगम की ओर से दिल्ली सरकार से 460.40 करोड़ रुपये की किस्त जारी करने की मांग की गई है.

मेयर जय प्रकाश ने कहा कि दिल्ली सरकार तुरंत निगम का बकाया फंड जारी करे ताकि डॉक्टरों, पैरामेडिकल स्टाफ, सफाई कर्मचारियों और निगम के अन्य कर्मचारियों को वेतन दिया जा सके.बीटीए का 460.40 करोड़ में से एक पैसा भी अभी तक नहीं मिला है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 29, 2021, 8:08 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली में कोरोना संक्रमण की वजह से हालात बेकाबू हो चुके हैं. ऐसे में दिल्ली सरकार (Delhi Government) और दिल्ली नगर निगम (MCDs) मिलकर काम कर रहे हैं. वहीं, अब निगम की ओर से दिल्ली सरकार से 460.40 करोड़ रुपये की किस्त जारी करने की मांग की गई है जिससे कि कर्मचारियों को अप्रैल माह की सेलरी अदा की जा सके. वहीं इस मामले को लेकर आम आदमी पार्टी (Aam Adami Party) और भाजपा (BJP) निगम के बीच टकराव की स्थिति पैदा होती नजर आ रही है.

नॉर्थ दिल्ली (North Delhi) के मेयर जय प्रकाश ने कहा कि हम पहले ही दिल्ली सरकार (Delhi Government) से निगम की पहली किस्त के रूप में बीटीए का 460.40 करोड़ रुपये जारी करने की मांग कर चुके है.

उन्होंने कहा कि चूंकि अप्रैल का महीना कल समाप्त होने जा रहा है और हमें बीटीए का 460.40 करोड़ में से एक पैसा भी अभी तक नहीं मिला है. इससे पहले, पहली किस्त अप्रैल के महीने में जारी की जाती थी, इस संबंध में मैंने 25 अप्रैल को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) को एक पत्र भी लिखा था और उन्हें देय राशि जारी करने का निवेदन किया था.

उन्होंने कहा कि नॉर्थ दिल्ली नगर निगम (North MCD) का बकाया फंड जारी करने के बजाए आम आदमी पार्टी (AAP) कर्मचारियों का वेतन जारी करने के लिए प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रही है.
मेयर ने कहा कि दिल्ली सरकार द्वारा निगम का बकाया फंड जारी करते ही हम निगम कर्मचारियों का वेतन जारी करने में एक मिनट भी नहीं लगाएगें.

जय प्रकाश ने कहा कि इस महामारी के दौर में जहां शहर में लॉकडाउन (Lockdown) लगा हुआ है और राजस्व की हानि हो रही है, आम आदमी पार्टी निगम की मदद करने की  बजाए राजनीति कर रही है. उन्हें स्थिति का अहसास होना चाहिए और कल्याणकारी सरकार के रूप में कार्य करना चाहिए. लेकिन उनके असंवेदनशील व्यवहार और कार्यप्रणाली ने शहर और दिल्लीवासियों को खराब स्थिति में डाल दिया है और सभी व्यवस्थाएं पूरी तरह से ध्वस्त हो चुकी हैं.

मेयर जय प्रकाश ने कहा कि दिल्ली सरकार तुरंत निगम का बकाया फंड जारी करे ताकि डॉक्टरों, पैरामेडिकल स्टाफ, सफाई कर्मचारियों और निगम के अन्य कर्मचारियों को वेतन दिया जा सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज