Assembly Banner 2021

अब दिल्ली में दिखेंगे चारमीनार, हावड़ा ब्रिज, गेटवे ऑफ इंडिया, दिखेगी 'मिनी इंडिया' की झलक

द्वारका के सेक्टर-20 में 200 एकड़ एरिया में DDA ऐसा पार्क विकसित करने जा रहा है जिसमें आपको 'मिनी इंडिया' नजर आएगा.

द्वारका के सेक्टर-20 में 200 एकड़ एरिया में DDA ऐसा पार्क विकसित करने जा रहा है जिसमें आपको 'मिनी इंडिया' नजर आएगा.

द्वारका के सेक्टर-20 में 200 एकड़ एरिया में ऐसा पार्क विकसित करने जा रहा है जिसमें आपको 'मिनी इंडिया' नजर आएगा. पार्क में खासकर चारमीनार, हावड़ा ब्रिज या गेटवे ऑफ इंडिया सभी को संजोने की योजना तैयार की गई है. प्रस्तावित परियोजना के मुख्य विशेषताओं में Park का Design कमल के फूल का व्युत्पन्न रूप (Derivative Form) होगा जोकि कमल की रूपरेखा पर ही अंकित होगा. फूल की प्रत्येक पंखुड़ी एक विशिष्ट गतिविधि के लिए एक क्षेत्र के रूप में होगी. इसके अलावा इस विशाल पार्क के मुख्य आकर्षण में मिनी इंडिया (Mini India) ही रहेगा जो कि विभिन्न भारतीय राज्यों के प्रसिद्ध स्मारकों की प्रतिकृतियों के माध्यम से भारत की विरासत को रेखांकित करने वाला नजर आएगा.

  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली विकास प्राधिकरण (DDA) द्वारका के सेक्टर-20 में 200 एकड़ एरिया में ऐसा पार्क विकसित करने जा रहा है जिसमें आपको 'मिनी इंडिया' नजर आएगा. भारत की विरासत की झलक दिखाने वाले इस ‍पार्क में राज्यों के प्रसिद्ध स्मारकों की आकर्षक और मनमोहक प्रतिकृति देखी जा सकेगी.

पार्क में खासकर चारमीनार (Char Minar), हावड़ा ब्रिज (Howrah Bridge) या गेटवे ऑफ इंडिया (Gate way of India) सभी को संजोने की योजना तैयार की गई है. ‍यानी जब ‍पार्क का अवलोकन करेंगे तो महसूस ‌होगा कि आप उस राज्य ‍की विरासत का ‍जीवंत ‍आनंद ले रह हैं. ‍डीडीए ने इसलिये पार्क को नाम भी भारत वंदना पार्क (Bharat Vandana Park) दिया है.

दिलचस्प बात यह है कि इस पार्क में पर्यटक इंडिया गेट की सेल्फी भी पार्क में रहकर ही ले सकेंगे. दिल्ली विकास प्राधिकरण की ओर से इस भारत वंदना पार्क को तैयार करने के लिये नेशनल बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन कॉरपोरेशन (NBCC) को बतौर परियोजना प्रबंधन के रूप में सलाहकार नियुक्त किया है. एनबीसीसी इस पर लगातार काम भी कर रही है.



डीडीए अधिकारियों के मुताबिक इस पार्क की खास बात यह भी है कि इसको दिल्ली मेट्रो के द्वारका सेक्टर-9 के पास ही डेवल्प किया जा रहा है. पार्क का अवलोकन करने के लिए लोगों के लिए आवागमन का यह एक अच्छा साधन भी रहेगा. इस परियोजना में मिनी इंडिया जोन देश के समृद्ध और विविध कला रूपों, संस्कृति, विरासत और जातीय मूल्यों को प्रदर्शित करेगा.
केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय से मांगी है खास विशेषताओं की मंजूरी
बताया जाता है कि डीडीए ने इस परियोजना के लिए केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय Union Ministry of Environment, Forest & Climate Change) से भी अनुमति मांगी है. वहीं, दूसरी ओर विशेष मूल्यांकन समिति (Expert Appraisal Committee) की हाल की बैठक में प्रस्तावित परियोजना की मुख्य विशेषताओं संबंधित प्रस्तावाें के मिनट्स को भी मंजूरी दे दी है.

कमल के फूल का व्युत्पन्न रूप में तैयार होगा पार्क
प्रस्तावित परियोजना के मुख्य विशेषताओं में Park का Design कमल के फूल का व्युत्पन्न रूप (Derivative Form) होगा जोकि कमल की रूपरेखा पर ही अंकित होगा. फूल की प्रत्येक पंखुड़ी एक विशिष्ट गतिविधि के लिए एक क्षेत्र के रूप में होगी. इसके अलावा इस विशाल पार्क के मुख्य आकर्षण में मिनी इंडिया (Mini India) ही रहेगा जो कि विभिन्न भारतीय राज्यों के प्रसिद्ध स्मारकों की प्रतिकृतियों के माध्यम से भारत की विरासत को रेखांकित करने वाला नजर आएगा.

इसको 1:25 के लघु स्तर पर बनाया जाना है. इस पार्क में कुछ राज्यों के लैंडस्केप पार्क, शिल्प बाजार, एक नौका विहार नहर आदि भी तैयार होंगे. मिनी इंडिया जोन के अलावा भारत वंदना पार्क में अन्य पंखुड़ियों के आकार वाले जोन मंडली क्षेत्र (Congregational zone), सांस्कृतिक क्षेत्र, पुष्प कृति सरोवर जोन, इको सेंसेटिव जोन (Economics-Sensitive Zone), मेडिटेशन गार्डन जोन (Meditation Garden Zone), फन पार्क जोन, एडवेंचर पार्क जोन, लेकव्यू रेस्टोरेंट जोन और वंदना सरोवर जोन भी होंगे. जिसमें केंद्रीय जल निकाय भी होगा जोकि पार्क के केंद्र बिंदु के रूप में कार्य करेगा. वहां पर्यटकों को बोटिंग आदि की सुविधा भी मिलेगी.

डीडीए अधिकारियों की मानें तो 200 एकड़ में इस पार्क को जरूर बनाया जाना है लेकिन विशेषज्ञ मूल्यांकन समिति को केवल 3 एकड़ क्षेत्र को निर्मित क्षेत्र के रूप में प्रस्ताव दिया गया है. वहीं मनोरंजन पार्क का निर्माण करने का प्रस्ताव भी समिति को दिया गया है. यह सभी ग्रीन बिल्डिंग सिद्धांतों के अनुरूप ही निर्मित किए जाएंगे. साथ ही LEED-IGBC (भारतीय ग्रीन बिल्डिंग काउंसिल) प्लेटिनम स्टैंडर्ड को अपनाया जाएगा.

अकेले 25 एकड़ में विकसित होगा मनोरंजन पार्क
प्रस्ताव के मुताबिक मनोरंजन पार्क को कुल क्षेत्रफल के 25 एकड़ में विकसित किया जाएगा. इसको दिल्ली मास्टर प्लान-2021 (MPD-2021) में जिला पार्क के तहत ही डेवेल्प करने की अनुमति होगी है. वहीं लैंडस्केप ग्रीन एरिया की बात करें तो यह 98 एकड़ में फैला है जोकि कुल पार्क का 54 फ़ीसदी क्षेत्र है. इसके अलावा 26 एकड़ क्षेत्र को वाटर बॉडीज के रूप में कवर किया जाएगा.

दिल्ली और एनसीआर में लैंडमार्क के रूप में जाना जाएगा भारत वंदना पार्क
डीडी अधिकारियों की मानें तो भारत वंदना पार्क को दिल्ली और एनसीआर के लिए एक लैंडमार्क और अपनी तरह की अनोखी सुविधा के रूप में तैयार करना है. यह पार्क विभिन्न अनुभवों और गतिविधियों को एकत्रित करने के साथ-साथ सभी उम्र और संस्कृतियों के लोगों को आकर्षित कर सकेगा. यह पारंपरिक पार्कों के विपरीत भी तैयार किया जाएगा. डीडीए की ओर से इस पार्क को एक गंतव्य पार्क की तर्ज पर भी बनाने की परिकल्पना है. यह आत्म निहित और आत्मनिर्भर भी बनेगा.

वेस्ट वाटर को किया जाएगा री-यूज, पार्किंग में बनेंगे चार्जिंग प्वाइंट
इस पार्क की एक अहम बात यह भी है कि डीडीए की ओर से इस परियोजना में वेस्ट वाटर को शौचालय, लैंडस्कैपिंग और वाटर बॉडीज में यूज करने की शर्तों की भी मंजूरी ले ली गई है. विशेष मूल्यांकन समिति (Expert Appraisal Committee) परियोजना के अधीन इन सभी शर्तों को भी मंजूरी दे चुकी है. साथ ही पार्किंग स्थल पर इलेक्ट्रिक वाहनों (Electric Vehicles) के चार्जिंग प्वाइंट भी मुहैया कराए जाएंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज